आपका शहर Close

विधानसभा चुनाव 2017: रुझान व नतीजे (आगे/जीते)

‘सोशल मीडिया में भड़काऊ पोस्ट से बढ़ रहे भावनात्मक संक्रमण, बिखर रहा समाज’

टीम डिजिटल, अमर उजाला, कानपुर

Updated Fri, 06 Oct 2017 04:19 PM IST
Increasing emotional infections in social media by inflammatory posts society scattered

सोशल मीडिया के साइड इफेक्ट

सोशल मीडिया बड़ों के साथ-साथ बच्चों को भी आक्रामक बना रहा है। कानपुर में उपद्रव के वीडियो वायरल होते ही हिंसा का फैसला इसका ताजा नमूना है। सोशल मीडिया में भड़काऊ पोस्ट से बढ़ रहे भावनात्मक संक्रमण से पारिवारिक एवं सामाजिक तानाबाना भी कमजोर हो रहा है। यह जानकारी गुरुवार को कानपुर जीएसवीएम मेडिकल कालेज में शुरू हुए सिपकॉन-2017 की शुरुआत में दी गई। मानसिक रोग विशेषज्ञों ने रात 11 बजे से सुबह तक घरेलू इंटरनेट (ऑफिस, कंपनियों आदि के नहीं) बंद करने की भी मांग उठाई।     
इंडियन साइक्रेट्री सोसाइटी के सेंट्रल जोन की तरफ से जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज आडीटोरियम में सिपकॉन एंड सीएमई - 2017 का शुभारंभ हुआ। तीन दिन तक चलने वाले कार्यक्रम की शुरुआत में प्रोफेसर प्रभात सिथोले ने बताया कि एग्रेसिव डिसआर्डर (आक्रामक विकार) दो तरह का होता है, नकारात्मक और सकारात्मक। सकारात्मक एग्रेसिव डिसआर्डर का उदाहरण भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली हैं जिनकी आक्रामकता सामान्य है जो क्रिकेट मैदान में दिखाई देती है।  ऐसी सकारात्मक आक्रामकता ठीक है, पर नकारात्मक आक्रामकता (पैथालॉजिकल एग्रेसिव) घातक है।  कई बार बच्चे सही लक्ष्य न मिलने से नकारात्मक आक्रामकता का शिकार होकर दूसरों को गालियां देने, पीटने, चोट पहुंचाने, माता-पिता के कहने के विपरीत व्यवहार करने लगते हैं।

माता-पिता में झगड़ों, पिता के नशेड़ी, जुआड़ी होने, मानसिक या शारीरिक बीमारी का बच्चों पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। प्रकृति से दूरी, मूलभूत सुविधाओं में कमी, खराब माहौल से बच्चे अपराध की तरफ जा सकते हैं। इसे शुरुआत में ही नियंत्रित करना जरूरी है। वरिष्ठ मानसिक रोग विशेषज्ञ डॉ. उन्नति कुमार के अनुसार सोशल मीडिया की वजह से स्वभाव में तेजी से बदलाव आ रहा है। व्हाट्सएप पर जो भी आ रहा है, उसकी सच्चाई जाने बगैर वैसा ही करने की सोच का नकारात्मक असर हो रहा है। बैक्टीरिया, वायरस से भी ज्यादा तेजी से भावनाओं का संक्रमण बढ़ रहा है। ऐसे में अभिभावकों की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। वे बच्चों से खूब बात करें, उनके व्यवहार पर नजर रखें। चीन की तरह यहां भी रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक घरेलू इंटरनेट प्रतिबंधित होना चाहिए। हिमालयन इंस्टीट्यूट, देहरादून के डॉ. रवि गुप्ता ने बताया कि तनाव, मानसिक रोगों की वजह से अनिंद्रा हो सकती है। दो हफ्ते तक नींद न आना, खराब ख्याल आना, भूख न लगे, व्यवहार में नकारत्मकता आना आदि मानसिक रोग के लक्षण हो सकते हैं। कार्यक्रम में मेडिकल कालेज के मानसिक रोग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. धनंजय चौधरी, डॉ. रवि कुमार आदि शामिल रहे।
आगे पढ़ें

15 करोड़ मानसिक रोगियों के लिए मात्र 6000 डॉक्टर

Comments

स्पॉटलाइट

Bigg Boss 11: शादीशुदा होते हुए भी गौरी को दिल दे बैठे थे, सुलझे हितेन की उलझी हुई है लव स्टोरी

  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

Bigg Boss 11: बाहर आकर हितेन ने खोली शिल्पा, हिना की पोल, अर्शी की 'मोहब्बत' पर दिया खूबसूरत जवाब

  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

इन चीजों को खाने के बाद भूल कर भी ना करें दूध का सेवन

  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

जहरीले स्प्रे या क्वॉइल की क्या जरूरत, जब घर में मौजूद इन चीजों से ही भाग जाते हैं मच्छर

  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

हनीमून पर गई अनुष्‍का की ताजा तस्वीरें आईं सामने, पति कोहली के साथ दिखी 'विराट' खूबसूरती

  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

Most Read

एयरपोर्ट पर बाल-बाल बचे कांग्रेस नेता कमलनाथ, पुलिसकर्मी ने तानी बंदूक

Madhya Pradesh: Police constable pointed gun at former union minister kamal nath 
  • शुक्रवार, 15 दिसंबर 2017
  • +

जम्मू-कश्मीरः बर्फीले तूफान में लापता एक जवान का शव बरामद, अन्य की तलाश जारी

one army man dead body recovered who missing in avalanche in j&k
  • रविवार, 17 दिसंबर 2017
  • +

26 दिसंबर से 21 फरवरी तक नहीं होंगे यूपी में DM और SDM के ट्रांसफर

government cannot transfer the dm and sdm from 26 December to 21 February
  • रविवार, 17 दिसंबर 2017
  • +

गोलियों की तड़तड़ाहट से दहला आईएफटीएम, कांपे छात्र 

firing in university
  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

कोयला घोटाला: तीन साल की सजा मिलने के तुरंत बाद मधु कोड़ा को मिली जमानत

Coal scam Jharkhand ex cm Madhu Koda gets three years imprisonment and  25 lakh Fine
  • शनिवार, 16 दिसंबर 2017
  • +

योगी ने प्रदेश को दिया ‘सौभाग्य’, एक दिन में बंटवाए 1.38 लाख बिजली कनेक्शन

yogi government distribute more than one lakh power connections in one day.
  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!