बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

29 साल बाद दूध में मिलावट पर दो साल की कैद

29 साल बाद दूध में मिलावट पर दो साल की कैद Updated Sat, 20 May 2017 12:36 AM IST
विज्ञापन
demo
demo

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

विज्ञापन
दूध में मिलावट पर एक दूधिए को 29 साल बाद तो दूसरे को 22 साल बाद दो साल की कैद हुई है। एसीजेएम अदालत ने दूधियों पर दो हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है।
  जिला अभिहीत अधिकारी विनोद कुमार शर्मा ने बताया कि कुरारा क्षेत्र के शीतलपुर गांव निवासी शिवकुमार तिवारी का 14 सितंबर 1988 को दूध का नमूना लिया था। जांच में फैट 16 प्रतिशत व फैटी सालिड्स 22 प्रतिशत कम होने पर नमूना फेल हो गया।

इसी तरह 29 सितंबर 1995 को मौदाहा बिहरका निवासी जयप्रकाश का लिया गया सपरेटा दूध का नमूना भी लैब में फेल पाया गया। जिसमें मिल्क सालिड्स नांट फैट 12 प्रतिशत कम पाया गया। इन दोनों मामलों की सुनवाई मेें एसीजेएम न्यायालय ने आरोपियों को दो वर्ष का कारावास व दो हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है।
बताया कि दोनो मामले वर्ष 2011 के पूर्व के हैं। कहा इससे पूर्व किसी भी तरह की मिलावट में सजा का प्राविधान था। वहीं मिलावट के अन्य मामलों में मात्र जुर्माना लगाया जाता है। बताया कि दोनो मामलों में दूध में पानी की मिलावट पाई गई। जिससे फैट कम पाया गया।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us