बदायूं में गल्ला गोदाम में लूटपाट कर बदमाशों ने पांच लोगों को किया घायल

Bareily Bureauबरेली ब्यूरो Updated Sat, 24 Oct 2020 01:25 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
उझानी (बदायूं)। बरेली-मथुरा हाईवे पर जजपुरा मंदिर के पास निजी गल्ला गोदाम पर बदमाशों ने धावा बोलकर परिसर में रहने वाले चौकीदार और उसके परिवार के सदस्यों से जमकर लूटपाट की। बदमाशों ने चौकीदार की पत्नी और पुत्रवधू के जेवरात उतरवा लिए। विरोध करने पर बदमाशों ने चौकीदार, उसकी पत्नी, पुत्रवधू, बेटी, बेटा और रिश्तेदार की डंडों से बुरी तरह पीटा, जिसमें पांच लोग घायल हो गए। घायलों में दंपती और उनके एक रिश्तेदार की हालत गंभीर बनी हुई है। बदमाशों के जाने के बाद चौकीदार के बेटे ने फोन कर गोदाम मालिक को जानकारी दी। इसके बाद गोदाम मालिक पुलिस फोर्स लेकर मौके पर पहुंचे। घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। एसएसपी संकल्प शर्मा समेत पुलिस अफसरों ने मौका मुआयना किया। पुलिस ने गोदाम मालिक की तहरीर पर अज्ञात बदमाशों के खिलाफ लूट की रिपोर्ट दर्ज कर ली है।
विज्ञापन

लूटपाट और मारपीट की घटना बृहस्पतिवार रात करीब दो बजे की है। पुरानी अनाज मंडी निवासी व्यापारी कौशल किशोर बंसल का बदायूं रोड पर गोदाम है। उसकी देखरेख के लिए मूसाझाग थाना क्षेत्र के गांव शहपुरा निवासी चौकीदार रजिस्टर सिंह अपने परिवार के साथ गोदाम परिसर में ही बने कमरे में रहता है। रात में करीब दो बजे तीन बदमाश दीवार फांदकर गोदाम परिसर में घुस आए। कमरे के बाहर सो रहे रजिस्टर (45), उनकी पत्नी ईशावती (43) और रिश्तेदार बिनावर थाना क्षेत्र के गांव रनझोरा निवासी विजेंद्र (55) को चारपाई पर ही दबोच लिया। ईशावती की पाजेब, सोने की चेन और कुंडल उतरवा लिए। विजेंद्र ने शोर मचाया तो कमरे से चौकीदार का बेटा रतन (21), अमन (16) और बेटी सोनी (12) बाहर निकल आए। बदमाशों ने रमन की पत्नी आरती के जेवरात लूटने शुरू किए तो चौकीदार समेत उसके परिजनों ने विरोध किया। आरती के जेवर भी लूट लिए, लेकिन विरोध से गुस्साए बदमाशों ने रजिस्टर, विजेंद्र, रमन, सोनी और ईशावती की डंडों से पिटाई की। पिटाई से दंपती समेत पांचों लहूलुहान हो गए।
लूट की घटना को अंजाम देने के बाद बदमाश पीछे के रास्ते से भाग गए। इसके बाद रमन ने गोदाम मालिक बंसल को फोन कर घटना की जानकारी दी। गोदाम मालिक पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। प्रभारी निरीक्षक ओमकार सिंह ने घायलों को जिला अस्पताल पहुंचाने के बाद बदमाशों की तलाश में आसपास इलाके में कांबिंग भी कराई, लेकिन बदमाशों का सुराग नहीं लगा। सूचना पर एसएसपी संकल्प शर्मा और सीओ संजय कुमार रेड्डी ने मौका मुआयना किया। एसएसपी के अनुसार बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की तीन टीमें बनाई गई हैं, जो शुक्रवार को पूरे दिन बदमाशों की खोजबीन में जुटी रहीं। प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि गोदाम मालिक की तहरीर पर अज्ञात बदमाशों के खिलाफ लूट की रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। लूट में कितना नकदी और जेवरात गए हैं, यह चौकीदार और उसकी पत्नी की हालत में सुधार होने पर ही स्पष्ट हो सकेगा।
गल्ला लूटना होता तो वाहन लेकर आते बदमाश, सिर्फ महिलाओं के जेवरात पर थी नजर
उझानी (बदायूं)। जजपुरा मंदिर के पास गल्ला गोदाम में चौकीदार और उसके परिवार से लूटपाट के मामले में पुलिस हालांकि किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंच पाई है, लेकिन उसे इलाके के ही शातिर युवकों पर शक है। बदमाशों के पास असलहा होने की बात भी सामने नहीं आई है। दूसरा यह कि बदमाशों का इरादा गोदाम से गल्ला लूटना भी नहीं रहा। अगर ऐसा होता तो वह कोई वाहन साथ लेकर आते। अब तक जानकारी से तो यही साफ हो रहा है कि बदमाशों की नजर चौकीदार के परिवार की दोनों महिलाओं के जेवरात पर ही रही।
चौकीदार रजिस्टर सिंह के बेटे रमन की शादी करीब डेढ़ साल पहले हुई है। रजिस्टर गोदाम की चौकीदारी के साथ परिसर में ही व्यापारी कौशल किशोर बंसल की कृषि योग्य भूमि पर बटाई में फसल उगाता है। उसकी आर्थिक स्थिति कोई ज्यादा अच्छी नहीं है, लेकिन वह खेती करके अपनी आय बढ़ाता रहा है। बच्चों का रहन-सहन भी ठीकठाक है। बताते हैं कि बदमाशों ने चौकीदार को दबोचने के बाद ही उसकी पत्नी के जेवरात कब्जे में लेने शुरू कर दिए। पुत्रवधू आरती के भी जेवरात लूटे गए। नकदी को लेकर तो बदमाशों ने किसी को धमकाया भी नहीं। ऐसे में गोदाम से गल्ले की लूट का तो सवाल ही नहीं उठता। बदमाश करीब पौन घंटा तक गोदाम परिसर में ही रहे, लेकिन किसी ने भी गोदाम की तरफ कदम नहीं बढ़ाए। लगता है कि बदमाशों का इरादा महिलाओं से जेवरात की लूट का रहा। चौकीदार के बेटों में रमन ने बताया कि बदमाशों के जाने पर उसने पहले गोदाम मालिक फिर यूपी 112 पर कॉल की। यूपी 112 करीब आधा घंटे में मौके पर पहुंची। इधर, पुलिस सूत्रों की मानें तो दो संदिग्ध युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी गई है।
घटना से सदमे में भाई-बहन
चौकीदार रजिस्टर सिंह समेत उसके परिजन और रिश्तेदार की बदमाशों ने आंगन में पिटाई शुरू की तो चौकीदार का छोटा बेटा आकाश और उसकी छोटी बहन काजल सहम गई। दोनों कमरे में पड़ी चारपाई के नीचे छिप गए। शोरगुल शांत होने के बाद जब वह बाहर निकले तो माता-पिता, मामा और एक बहन घायल पड़ी थी। शुक्रवार सुबह में करीब नौ बजे घर में अकेले मिले काजल और आकाश ने बताया कि उन्होंने बाहर जाते समय तीन बदमाशों को देखा। बदमाशों में से एक ने अपने एक साथी को बाहर बताकर आवाज भी लगाई थी, लेकिन कोई और अंदर नजर नहीं आया।
जजपुरा प्वाइंट पर पहले भी हो चुकी है बड़ी घटनाएं
बरेली-मथुरा हाईवे पर जजपुरा के पास ही खाटू श्याम जी का मंदिर है। करीब आठ-नौ साल पहले मंदिर से सटे गोदाम में बदमाशों ने धावा बोलकर लूट की घटना को अंजाम दिया था। बदमाशों ने मंदिर के महंत से भी लूट की थी। डेढ़ दशक पहले बदायूं निवासी माचिस व्यापारी से सरेराह लूट की गई थी। घटनाओं के बाद पुलिस ने बदमाशों को दबोच कर वर्कआउट भी कर दिया था। छिनौती की छोटी घटनाएं तो अमूमन होती रही हैं। जजपुरा प्वाइंट सिविल लाइंस और कोतवाली उझानी के बार्डर पर है।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X