कैली में मिलेंगी मेडिकल कॉलेज की सुविधाएं

basti Updated Wed, 06 Dec 2017 11:40 PM IST
in kally will given all medical fecility
स्‍वास्‍थ्‍य - फोटो : amar ujala
बस्ती। 
मिनी पीजीआई कहे जाने वाले ओपेक चिकित्सालय कैली के दिन अब बहुरेंगे। बुधवार को प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने अस्पताल को मेडिकल कॉलेज की तर्ज पर विकसित करने की की बात कही। उन्होंने डॉक्टरों की कमी दूर करने के सरकार के प्रयासों का ब्योरा दिया तो जिले को नौ विशेषज्ञ डॉक्टरों को शासन स्तर से भेजे जाने की बात भी बताई। स्वास्थ्य मंत्री ओपेक चिकित्सालय कैली का निरीक्षण करने के बाद प्रशासनिक और स्वास्थ्य अधिकारियों की बैठक लेने के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। 
उन्होंने आगे कहा कि अस्पताल के परिक्षेत्र में बनाए गए कई भवन जर्जर हो गए हैं। इसे व्यवस्थित कराने के लिए संबंधित निर्माण इकाई को निर्देश दिए जाएंगे। अस्पताल परिसर में स्थित उन भवनों को भी खाली करा दिया जाएगा, जिसमें लोग बेवजह कब्जा किए हुए हैं। इसकी प्रक्रिया इसी माह शुरू करा दी जाएगी। कहा कि डीएम अरविंद कुमार सिंह को ओपेक चिकित्सालय कैली मार्ग के निर्माण की जिम्मेदारी दी गई है और इसी सप्ताह सुरक्षा के दृष्टिकोण से कैली परिसर में चौकी स्थापित की जाएगी।

एसआईसी पर भड़के मंत्री
समीक्षा बैठक के दौरान जिला अस्पताल के एसआईसी डॉ. एके श्रीवास्तव को मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने हिदायत दी। अस्पताल की व्यवस्था को स्वयं देखने का निर्देश मंत्री ने एसआईसी को दिया है। बैठक में डीएम अरविंद सिंह के अलावा, एसपी संकल्प शर्मा, एडी हेल्थ डॉ. सीके शाही, सीएमओ डॉ. जेएलएम कुशवाहा, ओपेक चिकित्सालय कैली के निदेशक डॉ. अरुण कुमार, सीएमएस डॉ. सोमेश चंद्र श्रीवास्तव, महिला अस्पताल के एसआईसी डॉ. एके सिंह आदि उपस्थित रहे।

 

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

मरीज की मौत पर परिजन ने सरकारी अस्पताल में किया तांडव

बस्ती के सरकारी अस्पताल में भर्ती एक मरीज की मौत के बाद तिमारदार ने खूब तांडव मचाया। तीमारदार ने अस्पताल में रखी कुर्सी और मेज को फेंकना शुरू कर दिया।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls