आसमान में ‘आरडीएक्स’ और ‘एके 47’ से भी उड़ती हैं पतंगे

न्यूज डेस्क,अमर उजाला,बरेली Updated Thu, 15 Feb 2018 08:39 PM IST
Kites flying with RDX and AK47
शहामतगंज पुल पर उड़ती पतंगों के मांझे से लोगों के घायल होने के बाद एक और मांझा चर्चा में आया है, जिस मांझे को धार देने के लिए कारीगर बारूद का इस्तेमाल करते हैं। बेहद खतरनाक यह मांझा चायनीज (सिंथेटिक ) मांझे की तरह नुकसान पहुंचाता है। किला के बाकरगंज और जखीरा में बनने वाले इस मांझे के नाम भी बारूद पर रखे जाते हैं। मसलन, आरडीएक्स, एके 47, खूनी मांझा, आसमानी धमाका, ब्लेड जैसी धार वाला मांझा। महिला सिपाही की गर्दन कटने के बाद चायनीज मांझे के साथ यह मांझा भी पुलिस के निशाने पर आया है। किला थाने के प्रभारी कमलकांत वर्मा के मुताबिक बाकरगंज और जखीरा में यह मांझा तैयार करने वाले जाकिर खरगोश, यासीन छुटका, फरीद बेग, मकमूद, तौफीक सहित आधा दर्जन कारीगरों के नाम सामने आए हैं। जल्द उनसे पूछताछ की जाएगी। पुलिस-प्रशासन की बैठकों में भी इस मांझे की चर्चा हो चुकी है, लेकिन कभी कोई बड़ी कार्रवाई नहीं हो सकी। अब चायनीज मांझे के साथ इस मांझे पर भी कार्रवाई होनी है। 

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Rohtak

छात्रावास की मांग को लेकर छात्रों ने दिया धरना, एक भूख हड़ताल पर बैठा

छात्रावास की मांग को लेकर छात्रों ने दिया धरना, एक भूख हड़ताल पर बैठा

24 फरवरी 2018

Related Videos

अमर उजाला फाउंडेशन की ओर से लगाया गया स्वास्थ्य शिवर, लोगों ने की सराहना

पीलीभीत में बुधवार को अमर उजाला फाउंडेशन ने नि:शुल्क स्वास्थ्य शिविर लगवाया। यहां जांच करने पहुंची डॉक्टर्स की टीम ने पाया कि खराब पानी पीने के कारण लोगों में गठिया रोग बढ़ रहा है। 

22 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen