तो सपा-बसपा के परंपरागत वोट खिसक गए

विज्ञापन
Bareily Bureau बरेली ब्यूरो
Updated Sat, 25 May 2019 01:46 AM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
लखीमपुर खीरी। भाजपा को हराने के लिए सपा-बसपा गठबंधन ने पूरा जोर लगा दिया, लेकिन कामयाबी नहीं मिली। 2014 में सपा और बसपा प्रत्याशियों को मिले मतों के आधार पर गठबंधन अपनी जीत का दावा कर रहा था, लेकिन गठबंधन के बाद भी वोटों का बिखराव हुआ। इसे राजनीति के गणितज्ञ नहीं भांप पाए। नतीजा सबके सामने है। 2014 में सपा और बसपा को मिले मतों के मुकाबले इस बार मतों का प्रतिशत घट गया, जो सीधे भाजपा के साथ जुड़ गया। खीरी से लड़े कांग्रेस प्रत्याशी को पिछले चुनाव में मिले मतों में से आधे से भी कम वोट मिले हैं।
विज्ञापन

खीरी लोकसभा सीट पर कड़े मुकाबले की उम्मीद जताई जा रही थी। पहले और दूसरे राउंड में पलिया विधानसभा से सपा प्रत्याशी पूर्वी वर्मा ने मामूली बढ़त बनाई, लेकिन अन्य चार विधानसभाओं में भारी अंतर से पिछड़ती गईं। तीसरे राउंड की मतगणना प्रारंभ होने के बाद से नजारा बदलता चला गया। भाजपा प्रत्याशी अजय मिश्र टेनी बढ़त बनाते चले गए, जो आखिर तक प्रचंड जीत में बदल गई। उन्हें कुल 609589 वोट मिले। गठबंधन प्रत्याशी पूर्वी वर्मा को कुल 389758 मत मिले, जबकि वर्ष 2014 में सपा और बसपा उम्मीदवारों को 448416 मत प्राप्त हुए थे, जिससे 59658 वोट कम ही रहे। इसी तरह धौरहरा सीट पर मुकाबला भाजपा सांसद रेखा वर्मा और गठबंधन प्रत्याशी अरशद इलियास सिद्दीकी के बीच रहा। पहले राउंड में 2787 मतों के अंतर से रेखा वर्मा ने अरशद पर बढ़त बनाई, जो मतगणना के 29वें राउंड तक बढ़ती गई। सांसद रेखा वर्मा को 512905 मत प्राप्त हुए, जबकि निकटतम प्रतिद्वंद्वी अरशद इलियास को 352294 मत मिले। इसी सीट पर वर्ष 2014 में सपा और बसपा उम्मीदवारों को कुल 468694 वोट मिले थे, लेकिन इस बार गठबंधन के बावजूद 116400 वोट कम हो गए। इससे सपा और बसपा के नेताओं में खलबली मची है, क्योंकि खिसकते जनाधार का अहसास उन्हें भी हो गया है। यही गठबंधन प्रत्याशियों की हार का सबसे बड़ा कारण भी माना जा रहा है, क्योंकि सपा और बसपा के बीच गठबंधन के बाद दोनों दलों के परंपरागत समर्थक दूर हो गए।


खीरी लोकसभा चुनाव 2014 में मिले वोट
प्रत्याशी प्राप्त मत
अजय मिश्र टेनी (भाजपा)- 398578
अरविंद गिरि (बसपा)- 288304
जफर अली नकवी (कांग्रेस)- 183940
रवि प्रकाश वर्मा (सपा)- 160112

धौरहरा लोकसभा चुनाव 2014 में मिले मत
रेखा वर्मा (भाजपा) - 360397
दाउद अहमद (बसपा) - 234662
आनंद भदौरिया (सपा)- 234032
जितिन प्रसाद (कांग्रेस)- 170994

पिछला प्रदर्शन भी नहीं दोहरा सकी कांग्रेस
लखीमपुर खीरी। लोकसभा चुनाव के नतीजों ने सभी को चौंकाया है। वहीं कांग्रेस प्रत्याशी पिछले चुनाव जैसा प्रदर्शन नहीं कर सके। खीरी से कांग्रेस प्रत्याशी जफर अली नकवी को इस बार आधे से भी कम वोट मिले, जबकि धौरहरा से लड़े जितिन प्रसाद भी 2014 के आंकड़े को पार नहीं कर पाए। दोनों संसदीय क्षेत्र में कुल मतदान के सापेक्ष 1/6 प्रतिशत मत नहीं मिले। दोनों की जमानत धनराशि जब्त हो गई ।
खीरी के प्रत्याशी जफर अली नकवी इस बार कुल 91,610 वोट मिले जबकि वर्ष 2014 में उनको 1,83,940 वोट मिले थे। जफर के समर्थन में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शहर के जीआईसी ग्राउंड में एक जनसभा को संबोधित किया था, लेकिन इसका कोई असर नहीं हुआ। बल्कि पिछले चुनाव से इस बार आधे से भी अधिक वोट घट गए। इसी तरह धौरहरा लोकसभा से लड़े पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री जितिन प्रसाद को 162856 वोट मिले, जबकि वर्ष 2014 में 170994 वोट मिले थे। इस बार जितिन के समर्थन में महासचिव प्रियंका वाड्रा ने मोहम्मदी में रोड शो किया था, जिसके बावजूद वोट बढ़ने के बजाय करीब आठ हजार मत घट गए।
पोस्टल बैलट में भी भाजपा ने मारी बाजी
लखीमपुर खीरी। खीरी और धौरहरा सीट पर पड़े पोस्टल बैलट में भी भाजपा प्रत्याशियों का दबदबा रहा। खीरी में कुल 569 पोस्टल बैलट थे, जिसमें 454 वैध पाए गए। भाजपा को 304 मत मिले, जबकि सपा को 117 और कांग्रेस को 28 मत मिले। धौरहरा में कुल 775 पोस्टल बैलट थे, जिसमें 656 वैध पाए गए। इसमें भाजपा को 323, बसपा को 201 और कांग्रेस को 129 वोट मिले।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X