लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Bareilly ›   218 manufactures of fertilizer vendors aborted without taking pOS

पीओएस न लेने पर 218 खाद विक्रेताओं के लाइसेंस निरस्त

बरेली Updated Sun, 14 Jan 2018 01:56 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
सरकारी डायरेक्ट बेनिफिट टू ट्रांसफर (डीबीटी) स्कीम का पालन न करने वाले 218 खाद विक्रेताओं के लाइसेंस कृषि विभाग ने निरस्त कर दिए हैं। अब यह लाइसेंस धारक अपने गोदाम या दुकान पर किसी भी तरह के खाद की बिक्री नहीं कर पाएंगे। यह खाद विक्रेता कृषि विभाग की बार-बार चेतावनी के बावजूद पीओएस मशीन नहीं ले गए। 

अब तक यूरिया, डीएपी, एनपीए और पोटाश उवर्रकों की बिक्री पर सरकार किसानों को नकद सब्सिडी देती थी लेकिन अब एकफरवरी से सब्सिडी सीधे किसानों के खाते में जाएगी। किसानों को खाद पर सब्सिडी लेने के लिए पीओएस मशीन में अंगूठे का निशान लगाना होगा। इसके साथ ही खाद विक्रेता संबंधित किसान का आधार नंबर भी रजिस्टर में दर्ज करेंगे। दोनों का मिलान करने के बाद ही खाद पर सब्सिडी खाते में जाएगी। कृषि विभाग ने जिले में 922 दुकानदारों को यूरिया, डीएपी, पोटाश और एनपीके खाद बेचने का लाइसेंस दे रखा है। इनमें से अब तक 704 दुकानदारों ने ही पीओएस मशीनें ली हैं। बाकी दुकानदारों ने पीओएस मशीन कृषि विभाग के गोदाम से नहीं उर्ठाइं। 15 जनवरी पीओएस मशीन ले जाने की अंतिम तारीख है, लेकिन आगे दो दिन अवकाश होने की वजह से अब दुकानदारों को पीओएस मशीन नहीं मिलेगी। लिहाजा जिला कृषि अधिकारी डॉ. रामतेज यादव ने 218 खाद विक्रेताओं के लाइसेंस निरस्त कर दिए हैं। अब यह दुकानदार अपनी दुकान या गोदाम से खाद की बिक्री नहीं कर सकेंगे। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00