हंगामेदार रही प्रधान-बीडीसी की बैठक

Banda Updated Thu, 22 Nov 2012 12:00 PM IST
बबेरू। ग्राम प्रधानों और क्षेत्र पंचायतों सदस्यों की त्रैमासिक बैठक हंगामे के बीच निपटी। आरोप-प्रत्यारोप छाए रहे। प्रधानों ने नाराजगी जताई कि अब विद्यालय सिर्फ भोजनालय बनकर रह गए हैं। सदस्यों ने ब्लाक प्रमुख कार्यालय पर हमेशा ताला लटकते रहने पर विरोध जताया।
बुधवार को ब्लाक सभागार में सदस्यों व ग्राम प्रधानों की बैठक में विकास कार्यों पर चर्चा हुई। कुछ देर तक शांतिपूर्वक चली बैठक हंगामें में तब्दील हो गई। आरोप-प्रत्यारोपों का दौर शुरू हो गया। अध्यक्षता कर रहीं ब्लाक प्रमुख उमा पटेल ने बमुश्किल समझाया और बैठक शुरू कराई। 10 सूत्रीय बिंदुओं पर चर्चा हुई। इसमें पिछली कार्रवाइयों की पुष्टि, रवी फसल, मनरेगा, नवीन कार्य योजना, स्वच्छ शौचालय, स्वर्ण जयंती, ग्राम स्वरोजगार योजना, इंदिरा आवास, राज्य वित्त, 13वां वित्त, स्वास्थ्य एवं शिक्षा, बाल विकास एवं पुष्टाहार आदि मुद्दे छाए रहे। प्रधान भोला यादव (अलिहा) व गोपालशरण सिंह (सांतर) ने गांवों में सरकारी स्कूलों में बद्तर शिक्षा पर नाराजगी जताई। कहा कि अब विद्यालय सिर्फ भोजनालय बन गए हैं। क्षेत्र पंचायत सदस्य संगीता देवी (अनवान) ने कहा कि निधि से कार्य होने पर क्षेत्र पंचायत सदस्यों की भी राय लेना चाहिए। कार्यालय में ताला लटकने पर नाराजगी जताई। पतवन के सदस्य गया प्रसाद यादव व अमर सिंह ने बाल पुष्टाहार न बंटने की जानकारी दी। बैठकों में आने पर 500 रुपए भत्ता दिए जाने की मांग की।
उधर, खंड विकास अधिकारी वीरभान सिंह ने बताया कि 199 इंदिरा आवास ब्लाक को आवंटित हुए हैं। लोहिया ग्राम टोला कलां, वनबरौली व मर्का को संतृप्त करने के बाद शेष आवास अन्य ग्राम पंचायतों को आवंटित किए जाएंगे। इस प्रधानों ने काफी हंगामा किया। आवासों का आवंटन समानता आधार पर किए जाने की मांग की। बैठक में एडीओ पंचायत हुकुम सिंह यादव, अवर अभियंता श्यामलाल व वरिष्ठ लिपिक रामविशाल बाबू समेत हीरालाल, निर्मल पांडेय, प्रधान कमल यादव (मियां बरौली), अभिमन्यु सिंह, माता प्रसाद यादव, बिंदा प्रसाद प्रजापति, धर्मपाल मौर्या, ब्रजेंद्र सिंह पटेल आदि उपस्थित रहे।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी पुलिस की हैवानियत का चेहरा, पिटाई की वजह से पेट में ही बच्चे की मौत

बांदा जिले की एक महिला ने यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये है। महिला का कहना है कि उसके पति को गिरफ्तार करने आई पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई से महिला का तीन माह का गर्भ गिर गया।

19 जनवरी 2018