विज्ञापन
विज्ञापन

मंदिर बनाने पर अड़े साधु को मार डाला

अमर उजाला ब्यूरो, इलाहाबाद Updated Fri, 24 Jun 2016 01:31 AM IST
Murder
Murder
ख़बर सुनें
यमुनापार के लालापुर इलाके में साधु गंगासागर को बुधवार रात उसके भतीजे ने ही सोते में लाठी से इस कदर पीटा कि उसकी जान चली गई। बचाने की कोशिश में उसने अपनी मां और बहन को भी पीटकर जख्मी कर दिया। कत्ल के पीछे वजह यह रही कि साधु अपने भतीजे के घर के बगल की जमीन पर मंदिर बनाने पर अड़ा था। विरोध के बावजूद साधु नहीं माना तो बौखलाए भतीजे ने उसे मार डाला। घटना की जानकारी पाकर सुबह मौके पर पहुंची लालापुर थाने की पुलिस ने फरार आरोपी के खिलाफ कत्ल का नामजद मुकदमा लिखकर तलाश शुरू की।
विज्ञापन
प्रतापपुर गांव निवासी गंगासागर निषाद (63) बरसों से परिवार से अलग एक छप्पर में साधुओं की तरह रहने लगा था। बगल में ही चचेरे भाई शंकरलाल निषाद का परिवार भी मड़हा में रहता है। शंकरलाल का परिवार साधु जीवन व्यतीत कर रहे गंगासागर की सेवा करने लगा था। इधर कुछ समय से गंगासागर ने ठान लिया था कि वह चचेरे भाई के मड़हा के बगल में मंदिर बनाएगा। इस बारे में पता चलने पर चचेरे भतीजे बाबूलाल ने ऐतराज जताया और कहा कि कुछ भी हो जाए मंदिर नहीं बनाना है। सरकारी जमीन पर मंदिर बनाने की तैयारी का पता चलने पर ग्राम प्रधान धनपतिया की ओर से भी मंगलवार को तहसील दिवस पर लालापुर थाना और तहसील में शिकायत की गई थी लेकिन उस पर ध्यान नहीं दिया गया।

बुधवार को चचेरे भतीजे ने साधु गंगासागर को टोका मगर उसने कहा कि वह दान पर्ची भी कटवा चुका है इसलिए अब मंदिर तो जरूर बनाएगा। इसी बात पर बाबूलाल बेहद बौखलाया था। बुधवार रात गंगासागर भोजन के बाद चचेरे भतीजे बाबूलाल के ही मड़हे में सोया था। आधी रात बाबूलाल घर आया और लाठी से गंगासागर पर हमला कर दिया। उसे पीटकर मार डाला। बचाने की कोशिश में अपनी मां अनारकली और बहनों बिटटन तथा सविता को भी पीट दिया जिससे वे भी जख्मी हो गईं। चीख-पुकार सुनकर गांव वाले जुटे तो वह भाग गया। सुबह खबर पाकर लालापुर थानाध्यक्ष स्वास्तिक द्विवेदी पहुंचे और शव को सीलकर पोस्टमार्टम हाऊस भेजा। बेटे बीरबल ने घटना के बाद फरार बाबूलाल के खिलाफ मुकदमा लिखाया है।

साधु के कत्ल के बाद ही वन विभाग की नींद खुल जाए तो गनीमत है। साधु ने तो वन विभाग की जमीन पर मंदिर तैयार करने का केवल इरादा बनाया लेकिन सच तो यह है कि इलाके में सैकड़ों कच्चे घर सरकारी जमीन पर बने हैं लेकिन कर्मचारी अधिकारी ध्यान ही नहीं देते। 
विज्ञापन

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Prayagraj

यूपी पीसीएस : डिप्टी कलेक्टर में अमित शुक्ला तो डिप्टी एसपी में मयंक बने टॉपर

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीसीएस) ने 2017 का अंतिम चयन परिणाम जारी कर दिया है। लिखित परीक्षा का परिणाम सात सितंबर 2019 को घोषित किया गया था।

10 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

आंखों से रोशनी जाने पर भी नहीं टूटे सपने, कानपुर के अवधेश कुमार ने पास की पीसीएस परीक्षा

चार साल पहले एक बीमारी की वजह से कानपुर के अवधेश कुमार कौशल की आंखों की रोशनी चली गई, मगर उन्होंने हार नहीं मानी और कड़ी मेहनत और जुनून से पीसीएस अधिकारी बनकर ही माने।

14 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree