Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Agra ›   Agra Katha: Water Tank For Taj Mahal Fountains

आगरा कथा: इस बाग के द्वार पर बने टैंक से चलते हैं ताजमहल के फव्वारे

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, आगरा Published by: Abhishek Saxena Updated Thu, 01 Jul 2021 12:02 AM IST

सार

मुख्य द्वार पर बने पानी के टैंक से ताजमहल में लगे फव्वारे चलते हैं। यह ताजमहल की प्राचीन जल प्रणाली का हिस्सा है, जहां रहट से यमुना का पानी लिफ्ट करके ताजमहल की नहरों में लगे फव्वारों को भेजा जाता है। 
ताजमहल
ताजमहल - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

दुनिया के सातवें अजूबे ताजमहल के पश्चिमी दीवार से सटा हुआ है बाग खान-ए-आलम। इन दिनों भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की उद्यान शाखा ने नर्सरी बना रखी है, जिसके मुख्य द्वार पर बने पानी के टैंक से ताजमहल में लगे फव्वारे चलते हैं। यह ताजमहल की प्राचीन जल प्रणाली का हिस्सा है, जहां रहट से यमुना का पानी लिफ्ट करके ताजमहल की नहरों में लगे फव्वारों को भेजा जाता है। 

विज्ञापन


खान-ए-आलम मुगल बादशाह जहांगीर का दरबारी मिर्जा बरखुरदार था, जिसे मौत के बाद उसके लगवाए बाग में ही दफन कर दिया गया था। उसके परिवार के सदस्यों की कब्रें भी इसी बाग में यमुना किनारे स्थित भवन की बारादरी में हैं।  खान-ए-आलम जहांगीर के बाद शाहजहां के दरबार में भी रहा। वर्ष 1632 में अधिक उम्र व अफीम की लत के चलते वह सेवानिवृत्त हो गया। तब उसने ताजमहल की पश्चिमी दिशा में बाग लगवाया।

यमुना के तट पर भवन और तहखाना बना हुआ है
बाग में यमुना के तट पर भवन और तहखाना बना हुआ है। एएसआई ने यहां संरक्षण कराया तो यहां किले की तरह भवन को ठंडा रखने के लिए झरना और फव्वारे निकले। इतिहासविद राजकिशोर राजे ने अपनी किताब तवारीख-ए-आगरा में बाग खान-ए-आलम की नीलामी के बारे में बताया है। वर्ष 1898 में अंग्रेजों ने बाग को बेच दिया था। आगरा के तत्कालीन अंग्रेज कमिश्नर रोज ने बाग को वापस हासिल किया और एएसआइ को सौंप दिया। 

जहांगीर ने दी थी खान-ए-आलम की उपाधि
इतिहासकार ईबा कोच ने अपनी किताब ‘द कंप्लीट ताजमहल एंड द रिवरफ्रंट गार्डन्स आफ आगरा’ में लिखा है कि खान-ए-आलम एक तूरानी (मध्य एशियाई) मिर्जा बरखुरदार था, जो जहांगीर के दरबार में पांच हजार का मनसबदार था। जहांगीर ने उसे वर्ष 1609 में खान-ए-आलम की उपाधि दी थी। दो वर्ष बाद उसे ईरान के शाह अब्बास के दरबार में राजदूत के रूप में उपहारों के साथ भेजा गया था। 

हमारी धरोहर आगरा कथा: मुगल शासनकाल में बनी ताजनगरी की मंडियां, जानिए इनका इतिहास
 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00