'My Result Plus

ये है नील कमल, ट्रक ड्राइवर बनने के पीछे छिपी है बेहद दर्द भरी कहानी

अमर उजाला ब्यूरो, बिलासपुर Updated Mon, 16 Apr 2018 01:13 PM IST
Lady truck Driver Neel Kamal painful story in bilaspur Himachal pradesh
ख़बर सुनें
ट्रांसपोर्टर पति की मौत से जो नील टूट चुकी थी, आज अपने हौसले से दूसरों के लिए मिसाल बन गई हैं। पति का साथ छूटने के बाद नील ने न सिर्फ परिवार को संभाला, बल्कि ट्रक की चालक बनकर लीक से हटकर उदाहरण भी पेश किया है। हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले के अर्की तहसील के बागी गांव की रहने वाली नील (36) प्रदेश की पहली महिला ट्रक चालक हैं।
वह पिछले छह महीने से खुद ट्रक चलाती हैं और देश के कई राज्यों तक सीमेंट पहुंचाती हैं। नील कमल ने बताया कि उसके पति ट्रांसपोर्टर थे। उनके अपने दो ट्रक हैं, लेकिन वर्ष 2010 में पति की एक सड़क हादसे में मौत होने से परिवार पर आर्थिक संकट आ गया। बेटे की परवरिश और परिवार को संभालने से पहले उसका खुद का संभलना जरूरी थी।

उस बुरे दौर को चुनौती की तरह लेते हुए उसने हालात से संघर्ष करना तय कर लिया। पति की मौत के बाद सदमे से उबरने के अलावा दो ट्रकाें की जिम्मेदारी भी उसके पास आ गई। एक ट्रक का तो कर्ज शेष था। शुरुआती दौरे में उसने पहले की तरह काम लेने की कोशिश की, लेकिन चालकों के व्यवहार ने उसे असहज कर दिया।

आखिरकार उसने खुद ही ट्रक चलाने की ठान ली। पहले ट्रक चलाना सीखा और फिर अल्ट्राटेक सीमेंट कंपनी बागा से हिमाचल और देश के अन्य राज्यों तक सीमेंट सप्लाई में लग गई। नील बताती हैं कि अब उन्हें ट्रांसपोर्टर और ट्रक  चालक की भूमिका परेशान नहीं करती। सीमेंट सप्लाई टूर के दौरान कई बार रात को ट्रक में ही विश्राम करना पड़ता है, जिसे वह पूरे आत्मविश्वास के साथ कर लेती हैं।
आगे पढ़ें

सभी को हैरत में डाल देती है यह महिला चालक

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Kanpur

दाे सगी बहनाें ने एक ही दुपट्टे से लगाई फांसी, गांव में मचा हड़कंप

यूपी के हरदाेई जिले में एक दिल दहला देने वाला मामला सामने अाया है। यहां दाे सगी बहनाें ने एक ही दुपट्टे से लटकर अात्महत्या कर ली। सुबह कमरे में दाेनाें का शव लटकता देख पिता हाेश खाे बैठे। दाे बहनाें की माैत की खबर से इलाके में हड़कंप मच गया।

22 अप्रैल 2018

Related Videos

हिमाचल के रोहड़ू में भीषण अग्निकांड, 40 घर राख

घर में होनेवाला छोटा सा शॉर्ट सर्किट आग के कितने बड़े बवंडर में तबदील हो सकता है ये देखने को मिला हिमाचल प्रदेश के रोहड़ू में। रोहड़ू में आग का ऐसा प्रलय आया कि 40 मकान चंद मिनटों में जलकर राख हो गए।

19 अप्रैल 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen