इतनी हिमाकत, इंस्पेक्शन टीम को कॉलेज में घुसने नहीं दिया

Updated Thu, 10 Jul 2014 01:09 PM IST
HP govt will take action against MM College
विज्ञापन
ख़बर सुनें
सोलन स्थित एमएम कॉलेज परिसर के भीतर जांच करने गई राज्य चिकित्सा एवं शिक्षा महकमे की टीम को प्रवेश न करने देना प्रबंधन को महंगा पड़ेगा। सूबे की सरकार ने कॉलेज प्रबंधन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने का निर्णय लिया है।
विज्ञापन


बुधवार को सचिवालय में मीडिया को यह जानकारी सूबे के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री कौल सिंह ठाकुर ने दी। कहा कि इस मामले में सरकार ने स्वास्थ्य महकमे से विस्तृत रिपोर्ट भी तलब की है।

28 जून को इंस्पेक्‍शन पर गई थी टीम

team raid on 28 june
हिमाचल सरकार के निर्देश पर 28 जून को चिकित्सा एवं शिक्षा निदेशालय की टीम एमएम मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण करने के लिए गई थी, जिससे सरकार को यह अंदाजा हो सके कि निजी कॉलेज की ओर से एमसीआई के कितने मानक पूरे किये जा रहे हैं।

उस टीम को कॉलेज प्रबंधन ने अंदर ही प्रवेश नहीं करने दिया। गेट से ही बाहर भगा दिया। इसकी सूचना मिलने पर सरकार मेडिकल कॉलेज प्रबंधन से खफा है।

इस प्रकरण में सूबे के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने विस्तृत रिपोर्ट तलब की है। साथ ही कालेज प्रबंधन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए कहा है।

स्टेट कोटे पर भी विवाद

dispute over state kota
एमएम मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की 150 सीटें है। इसमें से 150 सीटें स्टेट कोटे की हैं, लेकिन इसकी काउंसलिंग कब होगी, आज तक इसकी सूचना कॉलेज प्रबंधन की ओर से सरकार या चिकित्सा एवं शिक्षा निदेशालय को नहीं दी गई है।

ध्यान रहे कि स्टेट कोटे की सीटों की फीस सरकार द्वारा तय की जाती है। इनकी भी फीस सरकारी मेडिकल कॉलेजों जितनी ही होती है।

दस्तावेज को लेकर भी विवाद

dispute over documents
हिमाचल सरकार ने जब एमएम मेडिकल कालेज को एनओसी दी थी, उस समय यह तय हुआ था कि उसे एचपी यूनिवर्सिटी से संबद्धता लेनी होगी। लेकिन, एमएम मेडिकल कॉलेज ने ऐसा नहीं किया।

कॉलेज प्रबंधन ने एचपी के बजाय एमएम विश्वविद्यालय हरियाणा से संबद्धता ले ली है। इसे लेकर भी नया विवाद खड़ा हो गया है। इस मामले में भी सरकार जांच करा रही है।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00