Hindi News ›   Himachal Pradesh ›   CDL Kasauli approves more than 21 lakh mRNA covid19 vaccine doses

सीडीएल कसौली हिमाचल: स्वदेशी कोविड वैक्सीन एमआरएनए की 21 लाख डोज को मंजूरी

संवाद न्यूज एजेंसी, सोलन Published by: Krishan Singh Updated Fri, 13 May 2022 09:29 PM IST

सार

एमआरएनए कोविड-19 वैक्सीन की 21 लाख डोज को सेंट्रल ड्रग लैबोरेटरी (सीडीएल) कसौली ने मंजूरी दे दी है।  अन्य सभी कोविड-19 टीकों की तरह एमआरएनए वैक्सीन का भी उद्देश्य घातक रोगजनकों से लड़ने के लिए कोशिकाओं को सक्रिय करके एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को ट्रिगर करना है।
केंद्रीय औषधि प्रयोगशाला
केंद्रीय औषधि प्रयोगशाला - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

पहली सबसे प्रभावी स्वदेशी एमआरएनए कोविड-19 वैक्सीन की 21 लाख डोज को सेंट्रल ड्रग लैबोरेटरी (सीडीएल) कसौली ने मंजूरी दे दी है। यह वैक्सीन मैसेंजर राइबोज न्यूक्लिक एसिड (एमआरएनए) स्टेज में सबसे ज्यादा कारगर मानी जा रही है। अब कंपनी ने वैक्सीन का स्टॉक करना शुरू कर दिया है। जल्द ही कंपनी की ओर से केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) के समक्ष आगामी डाटा भी प्रस्तुत किया जाएगा। वैक्सीन का उत्पादन पुणे स्थित जेनोवा बायो फार्मास्युटिकल्स की ओर से किया जा रहा है। कंपनी ने वैक्सीन का उत्पादन कर बैच सीडीएल के लिए भेजे थे।

विज्ञापन


परीक्षण के दौरान वैक्सीन के सभी सैंपल खरे उतरे हैं। संस्थान की ओर से बैच जांच के बाद कंपनी को रिलीज कर दिए हैं। भारत में बनने समेत आयात और निर्यात होने वाली प्रत्येक वैक्सीन को सेंट्रल ड्रग लेबोरेटरी कसौली से ग्रीन टिक लेना होता है।इससे पहले भारत में कोविशील्ड, कोवैक्सीन, जॉनसन एंड जॉनसन, मॉडर्ना, जायकॉव-डी, कोर्बोवैक्स समेत अन्य कोविड वैक्सीन को मंजूरी दी जा चुकी है। सीडीएल की वेबसाइट पर इसकी पुष्टि हुई है।


एमआरएनए वैक्सीन क्या है?
अन्य सभी कोविड-19 टीकों की तरह एमआरएनए वैक्सीन का भी उद्देश्य घातक रोगजनकों से लड़ने के लिए कोशिकाओं को सक्रिय करके एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को ट्रिगर करना है। पारंपरिक टीके प्रतिरक्षा प्रणाली को सक्रिय करने के लिए निष्क्रिय या कमजोर वायरस का इस्तेमाल करते हैं, जबकि यह सुनिश्चित करते हैं कि वायरस दोहराए नहीं। एमआरएनए आधारित टीकों के मामले में कोशिकाओं को एक प्रोटीन या कोरोना वायरस स्पाइक प्रोटीन का एक टुकड़ा बनाने का निर्देश दिया जाता है जो शरीर में एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया पैदा करता है। सक्रिय प्रतिरक्षा कोशिकाएं इस स्पाइक प्रोटीन की पहचान करती हैं और बदले में घातक  कोविड-19 वायरस से लड़ने के लिए आवश्यक एंटीबॉडी बनाती है। महाराष्ट्र के पुणे में यह वैक्सीन बन कर तैयार होगी। बताया जा रहा है कि ओमिक्रॉन से निजात पाने के लिए यह वैक्सीन कारगर होगी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00