सबसे तेज भागे लखबीर के बैल

अमर उजाला, लुधियाना Updated Thu, 30 Jan 2014 09:43 PM IST
kila raipur gramin olympic
किला रायपुर के खेल स्टेडियम में वीरवार को धौलखुर्द निवासी लखबीर सिंह के बैल ने सबसे तेज भाग कर बैलगाड़ी दौड़ अपने नाम की।


मौका था 78वें किला रायपुर ग्रामीण ओलंपिक खेलों के शुभारंभ का। लखबीर सिंह के बैल ने 19.60 सेकेंड में तीन सौ मीटर की दौड़ पूरी की। बैलगाड़ी दौड़ देखने के लिए आसपास के गांवों से काफी लोग पहुंचे। इस दौड़ को लखबीर ने सबसे कम वक्त में पूरा किया। खेलों के पहले दिन केवल बैलगाड़ी दौड़ का ही आयोजन किया गया। शुक्रवार को लोक निर्माण मंत्री शरणजीत सिंह ढिल्लों इन खेलों का विधिवत उद्घाटन करेंगे।



बैलगाड़ी दौड़ में लखबीर के बाद दूसरे नंबर पर मनक गांव के गो रहे। उन्होंने रेस को 20.12 सेकेंड में पूरा किया। जबकि  गांव रायपुर खुर्द के स्वर्ण सिंह ने 20.22 सेकेंड में, गांव डल्ला के दविंदर सिंह ने 20.53 सेकेंड में, गांव जोधां के सुख नागरा ने 20.63 सेकेंड में, गांव जांडली के हरप्रीत सिंह ने 20.75 सेकेंड में, किला रायपुर के आशू ने 20.84 सेकेंड में, किला रायपुर के बलदेव सिंह ने 20.90 सेकेंड में, गांव आसी के जग्गी ने 20.93 सेकेंड में, गांव आसी के ही जग्गी सिंह ने 20.97 सेकेंड में और गांव कैनूर के  सरपंच निरंजन सिंह ने 21.10 सेकेंड में इस दौड़ को पूरा किया। वीरवार को हुई बैलगाड़ी दौड़ में 15 प्रतिभागियों ने 22 सेकेंड से कम वक्त में दौड़ पूरी की।



किला रायपुर खेलों में सात साल से लेकर सत्तर साल तक के खिलाड़ी अपनी प्रतिभा के जौहर दिखाने के लिए तैयार हैं। इन ग्रामीण खेलों को लेकर पंजाब में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी भारी क्रेज रहता है। इन खेलों के आयोजक गरेवाल स्पोर्ट्स एसोसिएशन के प्रधान गुरशनदीप सिंह गरेवाल ने कहा कि 30 जनवरी से 2 फरवरी तक होने वाले इन खेलों में पंजाब के पारंपरिक एवं लुप्त हो रहे खेल देखने का अवसर मिलेगा।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

सरकारी बेरुखी ने बनाया इस गोल्ड मेडेलिस्ट को मजदूर

स्पेशल ओलिंपिक्स वर्ल्ड समर गेम्स-2015 में 2 स्वर्ण पदक विजेता 17 साल के चैंपियन साइक्लिस्ट राजबीर सिंह आजकल बदहाली में जी रहे हैं। राजबीर की ये बदहाली सरकार के खेलों को बढ़ावा देने के दावों की कलई खोल रही है।

27 दिसंबर 2017