अकाली नेताओं ने घेरा सांसद आवास

जालंधर। Updated Sat, 01 Feb 2014 10:13 PM IST
Akali leaders, MP House, jalandhar
यूथ अकाली दल ने शनिवार को जालंधर से कांग्रेस के सांसद मोहिंदर सिंह केपी की कोठी के समक्ष घेराव कर धरना दिया। हालांकि धरने में सीनियर लीडरशिप की गिनती अधिक थी।

धरने का नेतृत्व अकाली दल के पूर्व जिला प्रधान गुरचरण सिंह चन्नी ने किया। इसमें एसजीपीसी मेंबर कुलवंत सिंह मन्नण व परमजीत सिंह रायपुर भी शामिल हुए।  चन्नी ने कहा कि अगर राहुल गांधी सिख दंगों में संलिप्त नेताओं के नाम जानते हैं तो वे उन नेताओं के नामों को सर्वजनिक करें।

चन्नी ने कहा कि 1984 में हुए दंगों में प्रभावित लोगों की जिंदगी आज तक दरुस्त नहीं हो सकी है। मगर, इन दंगों में संलिप्त नेताओं को सजा न हो, इसके लिए कांग्रेस ने पूरा जोर लगा रखा है। दंगों में आरोपी नेताओं को कांग्रेस बचा रही है। प्रभावित परिवार लगातार इंसाफ के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

चन्नी ने कहा कि अब लोकसभा चुनाव नजदीक आ चुके हैं तो कांग्रेस ऐसी बातें कर सिख वोटर को लुभाने का प्रयास कर रही है। इस मौके जालंधर शहरी से यूथ अकाली दल की प्रधानगी के दावेदार प्रिंस सनन में भी काफी जोश दिखा। इस मौके पर प्रिंस सनन ने कहा कि प्रभावित परिवारों को इंसाफ नहीं मिला है।

इस मौके सुभाष सोंधी, प्रिंस सन्न, गुरप्रीत सिंह खालसा, रणजीत सिंह राणा, परमिंदर कौर पन्नी, चरणजीव सिंह लाली, बिशनदास सहोता, दिलबाग सिंह, गुरदेव सिंह, राजबीर सिंह शेंटी मौजूद थे।

Spotlight

Most Read

Mahoba

मंडल में जीएसटी की कम वसूली देख अधिकारियों के कसे पेंच

कर चोरी पर अब होगी सख्त कार्रवाई-

19 जनवरी 2018

Related Videos

लेडी खली कविता ने खोला राज, बताया कैसे पहुंची WWE तक

WWE में पहुंचनेवाली पहली भारतीय महिला कविता देवी ने अपने इंटरव्यू में की कई अहम मुद्दों पर खुलकर बात। कविता ने बताया कि उन्हें द ग्रेट खली से कितना सपोर्ट मिला और उन्हें ट्रेनिंग के कितने कड़े शेड्यूल से होकर गुजरना पड़ा।

21 अक्टूबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper