विज्ञापन

पंजाब

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

बठिंडा: ढाई साल की बेटी को जहर खिलाकर मारा, फिर खुद भी दे दी जान, गांव दियोण में हुई दर्दनाक घटना

बठिंडा में एक महिला ने अपनी ढाई साल की मासूम बच्ची को जहर दे दिया और उसके बाद खुद भी जहर खाकर जान दे दी। घटना बठिंडा के गांव दियोण की है। दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल में भेज दिया गया है। घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। फिलहाल खुदकुशी करने के सही कारणों का पता नहीं चल सका है। 

गांव दियोण की रहने वाली मनप्रीत कौर पिछले कुछ समय से किसी बात को लेकर मानसिक तौर पर काफी परेशान चल रही थी। इसी परेशानी के चलते रविवार की शाम को उसने अपनी ढाई साल की बेटी गगनदीप कौर को खाने की चीज में जहर मिलाकर खिला दिया। इसके बाद खुद भी जहर निगल लिया। हालत गंभीर होने पर दोनों को गांव के लोगों ने पहले सरकारी अस्पताल में दाखिल करवाया। वहां से हालत गंभीर होने पर उनको एक निजी अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। जहां पहले बेटी ने दम तोड़ दिया, थोड़ी देर बाद ही मनप्रीत की भी मौत हो गई। जहर निगलने के कारणों का पता नहीं चल सका है। थाना सदर पुलिस मामले की जांच कर रही है।
... और पढ़ें

पंजाब: पठानकोट में श्मशानघाट की दीवार पर लिखे देश विरोधी नारे, पुलिस ने काले पेंट से मिटाया

पंजाब के पठानकोट में रविवार सुबह माहौल उस समय तनावपूर्ण हो गया जब कुछ शरारती तत्वों ने गांव लाहड़ी महंता के श्मशानघाट की दीवार पर देश विरोधी नारा लिख दिया। इसकी भनक हिंदू संगठनों को लगी तो वहां लोगों का जमावड़ा हो गया। कुछ हिंदू संगठनों के लोगों ने वहां पहुंचकर रोष प्रदर्शन किया। 

सूचना पाकर थाना तारागढ़ प्रभारी राजेश हस्तीर पहुंचे और दीवार पर लिखे शब्दों पर काला पेंट कर मिटा दिया। हालांकि, पुलिस इस पूरे प्रकरण में चुप्पी साधे है। मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने भी मीडिया से दूरी बनाए रखी। वहीं, हिंदू संगठनों में इस मामले को लेकर खासी नाराजगी है। शिवसेना टकसाली के राष्ट्रीय महामंत्री बिन्नी वर्मा ने बताया कि सुबह उन्हें सूचना मिली थी कि कीड़ी-सुंदरचक्क रोड पर गांव लाहड़ी महंता में श्मशानघाट की दीवार पर देश विरोधी नारे लिखे हैं। इसके बाद वह वहां पहुंचे और प्रशासनिक अधिकारियों को इसकी जानकारी दी।

इसके बाद थाना प्रभारी पहुंचे और इसे मिटाकर चलते बने। उन्होंने कहा कि आए दिन कुछ शरारती तत्व पंजाब का माहौल खराब करने में लगे हैं। पंजाब की खुफिया एजेंसियां नींद में हैं। केंद्रीय एजेंसियों ने भी इन घटनाओं पर आंखें मूंदी हैं। बिन्नी वर्मा ने कहा कि पठानकोट जैसे शांतिप्रिय जिले में इससे पहले ऐसी कोई घटना देखने को नहीं मिली। 

वर्मा ने कहा कि श्री काली माता मंदिर (पटियाला) की घटना बेहद निंदनीय है। उन्होंने एसएसपी पठानकोट अरुण सैनी से अपील करते हुए कहा कि ऐसे शरारती तत्वों पर नकेल कसी जाए। उन्होंने कहा कि श्मशानघाट के पास पेट्रोल पंप पर सीसीटीवी लगे हैं। वहां से सुराग लेकर आरोपियों पर कार्रवाई की जाए। इस मौके पर मौजूद अमित वर्मा, बबलू वर्मा, बलवीर सिंह, अंकुश ककड़िया मौजूद रहे।
... और पढ़ें

बठिंडा: बेटी को पीटने वाला पिता गिरफ्तार, वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने की कार्रवाई

पंजाब के बठिंडा के रामपुरा निवासी निर्मल सिंह ने अपनी आठ साल की बेटी की बेरहमी से पिटाई की थी। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ। इसके बाद थाना सिटी रामपुरा पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने यह कार्रवाई बच्ची की मां की शिकायत पर की है। 

रामपुरा निवासी राजविंदर कौर ने पुलिस को बताया कि निर्मल सिंह उनका पति है, जिससे वह अलग रहती हैं। उनकी आठ साल की बेटी मनप्रीत कौर पति के साथ रहती थी। बीते दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें निर्मल सिंह मनप्रीत को बेहरमी से पीट रहा था। बेटी के गले में चुन्नी डालकर उसे जमीन पर घसीट रहा था। पुलिस ने वायरल वीडियो के आधार पर आरोपी निर्मल सिंह के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
... और पढ़ें

राजपुरा: दस माह पहले हुई थी शादी, पत्नी और ससुरालियों की मारपीट से परेशान व्यक्ति ने दी जान

राजपुरा के थाना खेड़ी गंडिया इलाके में आते गांव अलाल माजरा के एक व्यक्ति ने पत्नी और ससुरालियों से परेशान होकर भाखड़ा नहर में छलांग लगा दी। घटना 13 मई सुबह साढ़े नौ बजे की है। उसे बाहर निकाला तो सांसें चल रही थीं। अस्पताल ले जाने पर डाक्टरों ने उसे मृत बता दिया। मृतक की पहचान हरभजन सिंह (35) के रूप में हुई है।

हरभजन की करीब दस माह पहले ही शादी हुई थी। घटना के बाद पुलिस ने हरभजन सिंह के पिता बलकार सिंह के बयान हरभजन सिंह की पत्नी गुरप्रीत कौर, ससुर काला सिंह (पंजाब पुलिस में क्लास फोर मुलाजिम), सास सरबजीत कौर और साले परमिंदर सिंह निवासी गांव चौरा राजपुरा रोड पटियाला के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। शनिवार दोपहर को परिजनों ने पोस्टमार्टम के लिए राजपुरा के सरकारी अस्पताल पहुंचे, जहां उन्होंने आरोपी ससुर काला सिंह के खिलाफ सही कार्रवाई न करने का आरोप लगाया और पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की।

हरभजन सिंह कपड़ों की दुकान पर काम करता था और करीब 10 माह पहले ही उसकी शादी हुई थी। शादी के बाद से ही गुरप्रीत कौर झगड़ा करने लगी और हरभजन के साथ उसके ससुर व अन्य रिश्तेदारों ने मारपीट भी की। शादी के दो माह बाद ही समझौते के तहत गुरप्रीत कौर ने ससुरालियों से अलग अपने पति के साथ रहना शुरू कर दिया था। आरोप है कि गुरप्रीत कौर ने अपने पति को उसके भाई भतीजों व मां-बाप से बोलने से मना किया हुआ था, ऐसा करने पर वह घर में झगड़ा करती थी। यही नहीं ससुरालियों ने भी आकर कई बार हरभजन सिंह को पीटा। वह पुलिस मुलाजिम होने की धमकियां देता था। ससुराल से पहले सास फिर बाद में साला परमिंदर सिंह भी हरभजन सिंह के घर पर आकर रहने लगे थे। ऐसे में परेशान होकर हरभजन 13 मई को नरड़ू पुल पर स्थित भाखड़ा नहर में कूद गया। मौके पर मौजूद लोगों ने उसे बाहर निकाला तो सांसें चल रही थीं, लेकिन अस्पताल पहुंचते ही उसने दम तोड़ दिया।

परिवार की मांग आरोपी तुरंत गिरफ्तार हों

सिविल अस्पताल में रोष प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों और व मृतक के भाई गुरबचन सिंह ने कहा कि उनकी मांग है कि आरोपियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाए, तभी वह शव का पोस्टमार्टम करवाएंगे। क्योंकि आरोपी काला सिंह पुलिस मुलाजिम होने की धमकियां देता था और वह हर बार घर आकर हरभजन सिंह से मारपीट करता था। पुलिस आरोपी काला सिंह व उनके पारिवारिक सदस्यों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करे, क्योंकि इन लोगों ने गुरप्रीत कौर के पहले से शादीशुदा होने की बात छिपाई थी। यही नहीं रिश्ता देखते ही एक हफ्ते के अंदर शादी करवा दी थी। मौके पर पहुंचे खेड़ी गंडिया थाना प्रभारी कृपाल सिंह ने मृतक के परिजनों को आश्वासन दिया कि आरोपी बख्शे नहीं जाएंगे। उन्हें जल्द गिरफ्तार किया जाएगा। पुलिस के आश्वासन के बाद शनिवार को शाम मृतक के परिजनों ने पोस्टमार्टम करवाने की बात कही।
... और पढ़ें
राजपुरा में प्रदर्शन करते युवक के परिजन। राजपुरा में प्रदर्शन करते युवक के परिजन।

तरनतारन में वारदात: घरेलू कलह में सोती पत्नी को मारी गोली, फिर की आत्महत्या की कोशिश 

तरनतारन के गांव बोपाराय में एक युवक ने अपनी पत्नी का कत्ल करने के बाद खुद को भी गोली मार ली। दोनों की सात साल पहले शादी हुई थी और दोनों में लंबे समय से विवाद चल रहा था। महिला की अस्पताल ले जाते हुए मौत हो गई, जबकि पति की हालत गंभीर बनी हुई है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। मृतका की पहचान परमजीत कौर के तौर पर हुई है, जबकि पति का नाम इंद्रजीत सिंह है। 

परिवार वालों ने बताया कि विवाद के बाद परमजीत मायके में आकर रहने लगी थी। रात करीब 1:30 बजे इंद्रजीत घर में आया और सो रही परमजीत कौर को गोली मार दी। इसके बाद इंद्रजीत कमरे से बाहर आया और बरामदे में खड़े होकर खुद को भी गोली मार ली। परिवार तुरंत परमजीत कौर को अस्पताल ले गया, लेकिन उसकी रास्ते में ही मौत हो गई। इंद्रजीत को भी तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। पुलिस ने पति के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करके कार्रवाई शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

कपूरथला में वारदात: पैसे के लेन-देन में युवक की तेजधार हथियार से हत्या, पुलिस ने साले समेत चार को किया राउंड अप

कपूरथला में एक युवक की बेरहमी से हत्या कर शव रेलवे स्टेशन के नजदीक फेंक दिया गया। शव पड़े होने की सूचना मिलने के बाद डीएसपी सब डिवीजन, सिटी थाना पुलिस टीम व जीआरपी पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच शुरू कर दी है। घटनास्थल के नजदीक पड़े सामान की जांच फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट टीम की ओर से की जा रही है। फिलहाल मृतक के साले समेत चार लोगों को पूछताछ के लिए राउंड अप किया गया है।

इन दिनों रेलवे स्टेशन पर इलेक्ट्रिकल लाइन बिछाने का कार्य चल रहा है। युवक सुखवीर (27) निवासी दिल्ली भी लुधियाना में इसमें काम करता है। बुधवार सुबह कपूरथला रेलवे स्टेशन के नजदीक उसका शव बरामद हुआ तो हड़कंप मच गया। युवक का बेरहमी से कत्ल किया गया था। डीएसपी सब डिवीजन सुरिंदर सिंह ने बताया कि सुखवीर लुधियाना में इलेक्ट्रिकल लाइन बिछाने का कार्य करता था। 

प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि देहात रेलवे स्टेशन के पुराने क्वार्टर में सुखवीर, रवि आदि ने शराब पी। पैसे के लेन-देन को लेकर शराब के नशे में आपस में झगड़ा हो गया, जिसके बाद सुखवीर की किसी तेजधार हथियार से वार कर हत्या कर दी गई। शव की गर्दन पर निशान हैं और शरीर पर भी कई जगह तीखे हथियारों से वार के निशान दिख रहे हैं। वहीं जिस क्वार्टर में हत्या की गई है, वहां भी काफी खून बिखरा था। लाश को घसीटकर बाहर ले जाने के निशान भी दिख रहे हैं। इसको लेकर क्वार्टर में पड़े सामान की जांच के लिए फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट के इंचार्ज मनोज कुमार, दलजीत सिंह व कुलवंत सिंह की टीम जुटी हुई है। 

डीएसपी सुरिंदर सिंह ने बताया कि मृतक सुखवीर के साले रवि सहित चार लोगों को पूछताछ के लिए राउंडअप किया गया है। फिलहाल हत्या के लिए उपयोग किए जाने वाला हथियार बरामद नहीं हुआ है। पुलिस हत्या के पीछे के कारणों का पता लगाने में जुटी है। मौके पर जीआरपी के डीएसपी अश्वनी कुमार अत्री, एसएचओ बलबीर सिंह घुम्मन भी टीम भी अपने स्तर में जांच में जुट चुकी है।
... और पढ़ें

पंजाब: मोहाली में इंटेलिजेंस ऑफिस के बाहर हमला, एफएसएल टीम जांच में जुटी, सीएम मान ने डीजीपी से मांगी रिपोर्ट

तस्कर गिरफ्तार
पंजाब पुलिस के मोहाली स्थित इंटेलिजेंस विंग के हेडक्वार्टर पर हमला हुआ है। शुरुआती जानकारी में पता चला है कि इंटेलिजेंस विंग की दूसरी मंजिल पर यह यह हमला हुआ है। इसके फ्रंट साइड में हमला बताया जा रहा है, जिससे दफ्तर के कांच टूट गए। मोहाली एसपी रविंदर पाल सिंह ने बताया कि मामूली धमाका है। हमला इमारत के बाहर से हुआ है। इसे रॉकेट जैसी चीज से हमला किया गया है। कोई हताहत या नुकसान नहीं हुआ। हमारे वरिष्ठ अधिकारी और एफएसएल टीम इसकी जांच कर रही है।
 
पुलिस ने हमले में फिल्हाल आतंकी एंगल से इंकार किया है। हालांकि एसपी से यह पूछे जाने पर कि क्या इसे आतंकवादी हमला माना जा सकता है तो मोहाली के एसपी (मुख्यालय) रविंदर पाल सिंह ने कहा कि इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। हम इसकी जांच कर रहे हैं। 



इससे पहले मोहाली पुलिस द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में कह गया था कि मोहाली के सेक्टर 77 में एसएएस नगर में पंजाब पुलिस इंटेलिजेंस हेड क्वार्टर में सोमवार शाम करीब 7:45 बजे एक मामूली विस्फोट की सूचना मिली। किसी नुकसान की सूचना नहीं है। वरिष्ठ अधिकारी मौके पर हैं और जांच की जा रही है। फोरेंसिक टीमों को बुलाया गया है। 

आशंका है कि पंजाब इंटेलिजेंस दफ्तर पर रॉकेट लॉन्चर से हमला हुआ है। लेकिन इस हमले ने एक बार फिर सुरक्षा इंतजामों की सवाल खड़े कर दिए हैं। पुलिस ने सारे क्षेत्र को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। मुख्यालय के बाहर से कोई विस्फोटक सामग्री फेंकी गई है। स्थानीय पुलिस के अलावा खुफिया एजेंसियों ने मुख्यालय को घेर कर जांच शुरू कर दी है। 

फिलहाल पूरे इलाके को सील कर दिया गया है। मीडिया को भी दफ्तर से दूर रोक दिया गया है। मौके पर प्रशासनिक अमला पहुंच गया है। बिल्डिंग के आसपास आवासीय क्षेत्र नहीं है। मीडिया सूत्रों के अनुसार साढ़े सात बजे के आसपास धमाका हुआ है। जानकारी के अनुसार पूरे क्षेत्र को सील कर दिया गया है। मोहाली एसएसपी भी मौके पर पहुंचे हैं। सीएम भगवंत मान ने भी घटना की रिपोर्ट मांगी है। मुख्यमंत्री ने डीजीपी से मामले की पूरी जानकारी ली है। मुख्यमंत्री भगवंत मान लगातार अफसरों के संपर्क में हैं।
... और पढ़ें

फिरोजपुर: धार्मिक स्थल पर सेवादार की नियुक्ति को लेकर भिड़े दो गुट, फायरिंग, दो जख्मी 

फिरोजपुर के गांव आसल में धार्मिक स्थल पर नए सेवादार की नियुक्ति को लेकर दो गुटों में हुए झगड़े में गोली चल गई। इस वारदात में दो लोग गंभीर जख्मी हुए हैं। एक व्यक्ति के पेट में गोली लगी है, दूसरे के सिर पर तेजधार कापे से वार किया गया है। दोनों को स्थानीय अस्पताल में दाखिल करवाया गया, जहां से एक को फरीदकोट स्थित गुरु गोबिंद सिंह मेडिकल कॉलेज और दूसरे को चंडीगढ़ पीजीआई रेफर कर दिया गया। थाना सदर पुलिस ने रविवार को चार आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। 

पीड़ित अंग्रेज सिंह वासी गांव आसल ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि वह अपने अन्य साथियों के साथ धार्मिक स्थल पर खड़ा था। वहां पर अमनदीप कौर पहुंची और कहने लगी कि देखती हूं कि इस धार्मिक स्थल में नए सेवादार की नियुक्ति कैसे होती है। इसी दौरान अमनदीप कौर के अन्य साथी भी वहां पर पहुंच गए। दोनों गुट के सदस्य कहासुनी के बाद गाली-गलौच और हाथापाई पर उतारू हो गए। उसी समय आरोपी आकाशदीप सिंह पुत्र बलविंदर सिंह ने कापे से अंग्रेज के सिर पर वार कर दिया।

इसके बाद अंग्रेज को जान से मारने की नीयत से आरोपी सुक्खा ने अपनी लाइसेंसी पिस्तौल से दो फायर किए जो उसके पास से गुजर गए। तीसरा फायर उसने उसके भतीजे आकाशदीप पुत्र बलवीर सिंह पर किया, जो उसके पेट में जाकर लगा। आरोपी वारदात को अंजाम देकर वहां से भाग गए। दोनों जख्मियों को स्थानीय अस्पताल ले जाया गया। जहां से अंग्रेज को फरीदकोट और आकाशदीप सिंह को चंडीगढ़ रेफर कर दिया गया। थाना सदर पुलिस ने अंग्रेज के बयान पर आरोपी अमनदीप कौर, सुक्खा सिंह, हरबंस सिंह वासी आसल व आकाशदीप सिंह वासी गांव महालम के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। सभी आरोपी फरार है, जिनकी तलाश की जा रही है।
... और पढ़ें

पंजाब पुलिस की कार्रवाई: बब्बर खालसा के दो आतंकी गिरफ्तार, पाक से ड्रोन के जरिए आने वाले हथियारों को आगे पहुंचाते थे

करनाल पुलिस ने गुरुवार को विस्फोटक सामग्री के साथ जिन चार आतंकियों को गिरफ्तार किया था, उनके दो साथियों को फिरोजपुर में पुलिस ने दबोच लिया है। ये लोग पाक से ड्रोन के जरिए आने वाले हथियारों को भारत में छिपकर बैठे बब्बर खालसा के स्लीपर सेलों तक पहुंचाते थे। इनके पाकिस्तान में बैठे बब्बर खालसा के सरगना हरविंदर सिंह उर्फ रिंदा से अच्छे संबंध हैं और रिंदा के इशारों पर ये भारत के विभिन्न जगहों पर विस्फोटक सामग्री व हथियार पहुंचाते थे, इसके बदले में इन्हें मोटी रकम मिलती थी। थाना कैंट पुलिस ने शुक्रवार को बीकेआई के दोनों सदस्यों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक पुलिस टीम छावनी क्षेत्र में गश्त कर रही थी कि मुखबिर ने जानकारी दी कि आरोपी पाक में बैठे बब्बर खालसा इंटरनेशनल संगठन से जुड़े हैं और उनके इशारे पर काम करते हैं। यही नहीं इनके संबंध करनाल में विस्फोटक सामग्री संग पकड़े गए आरोपी गुरप्रीत सिंह, अमनदीप सिंह और परमिंदर सिंह वासी विंजोके (मक्खू) जिला फिरोजपुर और लुधियाना निवासी भूपिंदर सिंह के साथ भी है। 

थाना कैंट पुलिस ने नाकाबंदी कर बाबा शेरशाह वली चौक के नजदीक स्कार्पियो गाड़ी में सवार बब्बर खालसा के सदस्य आकाशदीप सिंह उर्फ आकाश पुत्र विजय गोरिया वासी पीरके, नजदीक कैनाल कालोनी जिला फिरोजपुर और जश्नप्रीत सिंह उर्फ जस पुत्र बूटा सिंह वासी गुलाम पतरा (मौजूदा क्वार्टर नंबर-छह सिविल अस्पताल फरीदकोट) जिला फिरोजपुर को गिरफ्तार किया है। आकाश की सरहद के पास जमीन होने की बात कही जा रही है, यहीं पर पाक ड्रोन के जरिए हथियार उतारे जाते थे। उसके बाद वे स्कार्पियो नंबर-एचआर02एटी9917 और इनोवा गाड़ी डीएल01वीबी7869 के जरिए उसे बताई हुई जगह पर पहुंचाते थे।

यही बात करनाल में पकड़े गए गुरप्रीत सिंह ने भी कही थी कि आकाश की जमीन पर पाक ड्रोन हथियार फेंकता था, वहीं से उठाकर लाते थे। ये सभी लोग पाक में बैठे आतंकी हरविंदर सिंह उर्फ रिंदा के संपर्क में थे, उसी के इशारे पर काम करते हैं। इन्हें पकड़ा जाए तो इनके पास से विस्फोटक सामग्री व घातक हथियार बरामद हो सकते हैं। पुलिस उक्त दोनों आरोपियों से गहन पूछताछ करने में जुटी है। इनसे भारी संख्या में विस्फोटक सामग्री व हथियार मिलने की उम्मीद है। बता दें कि हथियार कहां छिपाकर रखे हैं इसकी जानकारी गुरप्रीत को है। फिरोजपुर पुलिस शनिवार को बड़ा खुलासा कर सकती है। 

गुरप्रीत और अमनदीप का ममेरा भाई है जश्नप्रीत

फिरोजपुर पुलिस की तरफ से गिरफ्तार किया गया जश्नप्रीत करनाल से गुरुवार को गिरफ्तार किए गए आतंकी गुरप्रीत सिंह और अमनदीप सिंह के मामा का बेटा है। उसके पिता फरीदकोट सेहत विभाग में बतौर चालक तैनात हैं। 12वीं कक्षा में पढ़ने वाला जश्नप्रीत गुरप्रीत और अमनदीप के साथ हजूर साहिब गया था।  

इस दौरान उसके पिता और माता ने कहा कि कल जो गिरफ्तारियां हुई, उसमें शामिल गुरप्रीत और अमनदीप उनके भांजे हैं लेकिन उनका हमारे घर आना जाना नहीं है। उनका बेटा कुछ दिन पहले उनके साथ हजूर साहिब जरूर गया था। पुलिस हमारे बच्चे को क्यों साथ ले कर गई, उसका कारण हमें नहीं बताया गया। उन्होंने कहा कि हमें पता होना चाहिए कि हमारे बेटे का क्या कसूर है। 
 
... और पढ़ें

पठानकोट में दर्दनाक हादसा: नेशनल हाईवे पर ट्राले की चपेट में आए दो युवक, एक की मौत, दूसरा गंभीर

पंजाब के पठानकोट में शनिवार देर शाम पठानकोट-अमृतसर नेशनल हाईवे पर गांव बहलोलपुर के पास दर्दनाक हादसे में एक युवक की मौत हो गई। जबकि, दूसरे की हालत गंभीर बताई जा रही है। मृतक की पहचान गांव समराला कुल्लां निवासी सुरिंदर कुमार और घायल की पहचान गांव सुकालगढ़ निवासी रोहित के तौर पर हुई है। घायल को मलिकपुर के एसकेआर अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जिसे हालत गंभीर होने पर सिविल अस्पताल रैफर कर दिया गया।

हादसे के बाद ट्राला चालक मौके से भाग गया। थाना सदर की पुलिस मामले की जांच में लगी है। जानकारी के मुताबिक रोहित और सुरिंदर दोनों पेंट का काम करते थे। शनिवार देर शाम 8 बजे के करीब वह मलिकपुर से अपने गांव जा रहे थे। जैसे ही वह गांव बहलोलपुर के पास पहुंचे तो पीछे से आ रहे 28 टायरी ट्राले ने उन्हें चपेट में ले लिया। दोनों युवक ट्राले के नीचे जा घुसे।

ट्राले में बजरी लदी थी। हादसे में सुरिंदर की मौत हो गई और रोहित बुरी तरह घायल हो गया। समाचार लिखे जाने तक सुरिंदर का शव ट्राले के नीचे से निकाला नहीं जा सका था। स्थानीय लोगों और पुलिस ने कई जैक लगाकर युवक के शव को ट्राले के नीचे से निकालने की कोशिश की गई। लेकिन, सफल नहीं हुए। जिसके बाद देर रात 9 बजे के करीब 2 हाईड्रा मंगवाकर ट्राले के नीचे से युवक के शव को निकालने की कोशिश की जा रही थी।
... और पढ़ें

बटाला में हत्या: प्रेमी से शादी की जिद पर अड़ी थी तलाकशुदा बेटी, पिता ने सिर में ईंट मारकर ले ली जान

बटाला में पुलिस थाना फतेहगढ़ चूड़ियां के अधीन पड़ते गांव डाला चक्क में एक पिता ने अपनी तलाकशुदा बेटी के सिर में ईंट मारकर उसकी हत्या कर दी। पुलिस के अनुसार बेटी का गांव के रहने वाले एक लड़के के साथ प्रेम प्रसंग था और लड़की उसी युवक से शादी करना चाहती थी। वहीं उसके मायके वाले उक्त युवक से शादी से राजी नहीं थे। इसके बाद पिता ने अपनी बेटी को रोकने के लिए ईंट मार कर उसकी हत्या कर दी। थाना फतेहगढ़ चूड़ियां की पुलिस ने आरोपी पिता और दादा के खिलाफ हत्या का मामला दर्जकरके आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर बटाला के सिविल अस्पताल भेज दिया है।

थाना फतेहगढ़ चूड़ियां के एसएचओ प्रभजोत सिंह ने बताया कि प्राथमिक जानकारी के अनुसार प्रीति (28) का दो साल पहले तलाक हो गया था। इन दिनों वह अपने मायके गांव डाला चक्क में ही रह रही थी। प्रीति का पांच साल का एक बेटा भी है। उसका गांव के ही एक लड़के से प्रेम प्रसंग था और वह उससे शादी करना चाहती थी जबकि प्रीति के परिवार वाले इस शादी को स्वीकार नहीं कर रहे थे। गांव की पंचायत ने भी प्रीति को समझाया लेकिन वह उनकी बात मानने को तैयार नहीं थी।

बुधवार की रात भी जब प्रीति शादी करने की जिद करते हुए उक्त लड़के के घर जाने लगी तो प्रीति के पिता लियाकत मसीह ने उसके सिर में ईंट मार दी। प्रीति की मौके पर ही मौत हो गई। एसएचओ ने बताया के पुलिस ने मृतका के शव को अपने कब्जे में लेकर आरोपी लियाकत मसीह और दादा बरकत मसीह के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। फिलहाल दोनों आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। पुलिस मामले में नामजद उक्त दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए छापे मार रही है। जल्दी ही दोनों नामजद आरोपी गिरफ्तार कर लिए जाएंगे।
... और पढ़ें

पंजाब: नशा बेचने का वीडियो वायरल होने के बाद फरीदकोट पुलिस ने 7 युवक दबोचे, 300 ग्राम नशीला पाउडर बरामद

पंजबा फरीदकोट रेलवे स्टेशन के पास सरेआम नशा बेचने का मंगलवार को वीडियो वायरल होने के बाद हरकत में आई जिला पुलिस ने यहां की संजय नगर बस्ती के 7 युवकों को काबू किया है। आरोपियों की पहचान शिवम, रवि, दीपक, बलजीत सिंह, हीरा सिंह, अमृतपाल सिंह व प्रदीप कुमार के रूप में हुई। पुलिस ने इनसे 300 ग्राम नशीला पाउडर बरामद किया है और इनके खिलाफ थाना कोतवाली में केस दर्ज करके कार्यवाही की जा रही है।

जानकारी के अनुसार एक दिन पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो बड़ी तेजी के साथ वायरल हो रहा था, जिसमें एक व्यक्ति रेलवे पटरी पर बैठकर नशा बेच रहा था। इस मामले के ध्यान में आते ही एसएसपी अवनीत कौर सिद्धू ने टीमें बनाकर जांच करवाई तो सामने आया कि यह वीडियो संजय नगर बस्ती से सटे रेलवे स्टेशन का है।

इसके बाद आरोपियों की शिनाख्त के बाद मंगलवार रात कार्यवाही करते हुए संजय नगर बस्ती से उक्त सात युवकों को नशीले पाउडर सहित काबू किया गया। एसएसपी अवनीत कौर सिद्धू ने कहा कि जांच में सामने आया है कि यह वीडियो कुछ माह पुराना है और पुलिस ने मुख्य आरोपी की भी शिनाख्त कर ली है जिसे जल्द ही काबू कर लिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि जिला पुलिस ने नशा तस्करों के खिलाफ मुहिम शुरू की हुई है और पुलिस ने जिस भी माध्यम से तस्करों के बारे में सूचना मिलती है, तुरंत कार्यवाही की जा रही है। इस वीडियो के बारे में भी पुलिस ने तेजी के साथ कार्यवाही करते हुए आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

वीडियो पर शुरू हो गई थी राजनीति
नशा बेचने की वीडियो वायरल होने के बाद राज्य में राजनीति भी शुरू हो गई थी। बुधवार को नवजोत सिंह सिद्धू ने भी इस वीडियो को अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर करके आम आदमी पार्टी की सरकार पर सवाल खड़े किए थे।
... और पढ़ें
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00