लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

संदीप बिश्नोई हत्याकांड: बहन की चूड़ी तोड़ने की रस्म पर 13 साल पहले खाई थी कसम, संदीप की हत्या कर की पूरी

संवाद न्यूज एजेंसी, हिसार (हरियाणा) Published by: भूपेंद्र सिंह Updated Thu, 29 Sep 2022 03:19 AM IST
गैंगस्टर संदीप बिश्नोई।
1 of 5
विज्ञापन
हरियाणा के हिसार के मंगाली गांव निवासी गैंगस्टर संदीप बिश्नोई की हत्या साजिश के तहत की गई। फतेहाबाद जिले के भूना के सुनील पंडित को पता था कि संदीप बिश्नोई अपने कुछ साथियों के साथ 19 सितंबर को नागौर कोर्ट में पेशी पर जाएगा। इस पर वह करीब 400 किलोमीटर दूर बाइक से गया और वारदात को अंजाम दिया।

13 साल बाद सुनील पंडित ने अपनी बहन की चूड़ी तोड़ने की रस्म पर खाई गई कसम को पूरा किया। यह खुलासा नागौर पुलिस द्वारा पकड़े गए तीन शूटरों भूना के सुनील पंडित, जितेंद्र कुुमार और हिसार के संदीप लांबा ने किया है। पुलिस आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। 

वर्ष 2009 में आरोपी सुनील पंडित के जीजा की हुई थी हत्या
नागौर पुलिस अधीक्षक राममूर्ति जोशी ने बताया कि फतेहाबाद जिले के भूना निवासी शूटर सुनील पंडित पंजाब में रह रहा था। गैंगस्टर संदीप बिश्नोई की हत्या का मुख्य आरोपी सुनील पंडित के जीजा संजय कौशिक की हत्या वर्ष 2009 में की थी। हत्या का आरोप संदीप बिश्नोई पर लगा था।
संदीप
2 of 5
तीन बहनों में से एक के विधवा होने पर उसकी चूड़ी तोड़ने की रस्म के दौरान सुनील ने संदीप की हत्या करने की कसम खाई थी। उस कसम को पूरा करने के लिए दीप्ति गैंग में शामिल हुआ। पूछताछ में ये भी खुलासा हुआ है कि वारदात में इस्तेमाल बाइक फतेहाबाद के रहने वाले जितेंद्र के नाम से खरीदी गई है। 

यह भी पढ़ें : Haryana: देशद्रोह प्रकरण में आठ साल से फरार सतलोक आश्रम संचालक रामपाल के भाई समेत दो काबू
विज्ञापन
गैंगस्टर संदीप की हत्या कर इस तरह भागे बदमाश।
3 of 5
ई-कोर्ट एप के जरिये लगाते थे पेशी का पता 
नागौर पुलिस द्वारा पकड़े गए तीन आरोपियों से पूछताछ में खुलासा हुआ है कि भूना निवासी बदमाश सुनील पंडित ने हिसार में बैठकर संदीप बिश्नोई की हत्या की साजिश रची थी। उस समय दीपक उर्फ दीप्ति, अनिल उर्फ छोटिया और पांच-सात अन्य मौजूद थे। इसमें संदीप की रेकी करने का जिम्मा सुनील उर्फ पंडित ने लिया, तब से सुनील और दीप्ति गैंग संदीप को मारने की फिराक में था।
सड़क पर पड़े खाली खोखे।
4 of 5
दीप्ति गैंग के सदस्यों ने हिसार, दिल्ली, गुरुग्राम, झुंझुनू, भीलवाड़ा, जोधपुर आदि कोर्ट में ट्रायल के दौरान संदीप बिश्नोई की पेशी की रेकी करने लगे। ई कोर्ट एप के जरिये संदीप की अदालत में पेशी मालूम कर उसे ठिकाने लगाने की जुगत में लगे रहे। झुंझुनू में उसकी लगातार 12 से अधिक पेशियों पर वे गए, लेकिन संदीप के न आने से कामयाब नहीं हुए।  

सुरक्षा के कारण नहीं लगा था दांव
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार 26 जुलाई और 16 अगस्त को नरेश सांखला हत्याकांड में पेशी पर संदीप के आने की संभावना के चलते सुनील के साथ अनूप, अनिल उर्फ छोटिया आए थे। उस समय सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त थे। उस दौरान वारदात को अंजाम नहीं दे पाए। 19 सितंबर को नागौर में तारीख के दौरान मौका मिलते ही संदीप बिश्नोई पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दी। 
विज्ञापन
विज्ञापन
दीप्ति गैंग की ओर से किया गया कथित पोस्ट
5 of 5
बदला लेने के लिए दिया वारदात को अंजाम 
नागौर पुलिस अधीक्षक राममूर्ति जोशी ने बताया कि गैंगस्टर संदीप बिश्नोई ने मंगाली गांव में दोहरा हत्याकांड की वारदात को अंजाम दिया था। उसके बाद से गांव के ही अनिल और सीसवाला के दीप्ति के साथ दुश्मनी हो गई थी। 2015 में संदीप बिश्नोई ने दीप्ति गैंग के झीड़ी निवासी संदीप की गोली मार कर हत्या कर दी थी। उसके बाद से दोनों एक दूसरे के साथियों की जान के दुश्मन बने हुए थे। पुलिस की 10 टीमों ने 900 सीसीटीवी कैमरे देखने के बाद तीन आरोपियों को पकड़ा है।
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00