बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
आज कैसे करें शनि प्रदोष व्रत, जानें शुभ मुहूर्त, पूजा और महत्व
Myjyotish

आज कैसे करें शनि प्रदोष व्रत, जानें शुभ मुहूर्त, पूजा और महत्व

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

लापरवाही: लावारिस मिला 8 करोड़ की कोवैक्सीन से लदा ट्रक, कहां जा रही थीं 2.40 लाख डोज?

देश इस वक्त कोरोना वैक्सीन की कमी से जूझ रहा है। कई राज्यों में वैक्सीन की कमी के चलते टीकाकरण अभियान रोक दिया गया है। वहीं दूसरी ओर वैक्सीन के परिवहन में बड़ी लापरवाही उजागर हुई है। मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर में वैक्सीन से भरा ट्रक सड़क किनारे पाया गया है, वह भी चालू हालत में। नरसिंहपुर के करेली बस स्टैंड के नजदीक सड़क किनारे एक कंटेनर ट्रक स्टार्ट हालत में मिला। इस ट्रक में कोवैक्सीन की ढाई लाख डोज रखी हुई थी। ट्रक चालक और उपचालक दोनों फरार है। ऐसे में सवाल उठता है कि टीके को लेकर केंद्र और राज्यों के बीच तकरार चल रही है तो इतनी बड़ी खेफ आखिर कहां जा रही थी। फिलहाल पुलिस मौके पर पहुंच कर जांच शुरू कर दी है। 

हैदराबाद से पंजाब जा रहा था ट्रक
दरअसल, करेली पुलिस को सूचना मिली की एक ट्रक चालू हालत में सड़क किनारे खड़ा है। पुलिस मौके पर पहुंचकर गाड़ी के पेपरों की जांच की तो मालूम चला कि गुरुग्राम की टीसीआई कोल्ड चेन सॉल्यूशन कंपनी का कंटेनर है और भारत बायोटेक कंपनी कि कोवैक्सीन की 2 लाख 40 हजार डोज हैदराबाद से पंजाब के करनाल जा रहा था। पुलिस के मुताबिक कंटेनर ट्रक में 364 बॉक्स में कोवैक्सीन की करीब ढ़ाई लाख डोज रखी हुई थी। जिसकी कीमत करीब 8 करोड़ रुपए है। पुलिस ने ड्राइवर और कंडेक्टर के मोबाइल ट्रेसिंग की,जिसकी लोकेशन 15 किलोमीटर दूर झाड़ियों में दिखा रही थी। पुलिस ने यहां से मोबाइल को बरामद कर लिया है। 






वैक्सीन की कालाबाजारी जोरों पर
दरअसल, पूरे देश में वैक्सीन की कमी है, वहीं दूसरी ओर इसकी कालाबाजारी भी जोरों पर है।  इससे पहले भी मध्य प्रदेश में वैक्सीन कालाबाजारी की खबरें सुर्खियों में रही है। सरकार की ओर से वैक्सीन कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश हैं। बावजूद इसके लावारिस हाल में ट्रक मिलना कई सवालों को जन्म देता है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर किसी बड़ी साजिश को पर्दाफाश करने की बात कह रही है। 
... और पढ़ें

मिसाल: ऑक्सीजन कंसनट्रेटर्स-बेड लगाया, शुरू किया मरीजों का इलाज, इन तीन गांवों ने पैसे जोड़कर किया कमाल

मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण दिन ब दिन विकराल रूप धारण करता जा रहा है। राज्य में बीते 24 घंटे में 12762 नए मरीज मिले हैं। संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने से  अस्पतालों में ऑक्सीजन, बेड और दवाएं कम पड़ने लगे हैं। हालांकि प्रदेश सरकार की ओर से हर संभव मदद करने का भरोसा दिया जा रहा है, लेकिन स्थिति बेकाबू होती जा रही है। ऐसे में मध्य प्रदेश का नक्सल प्रभावित जिला बालाघाट ने एक अनूठा प्रयास शुरू किया है। बालाघाट के तीन गांवों में ग्रामीणों के प्रयास से हॉस्टल को कोविड केंद्रों में तब्दील कर दिया गया है। यहां पर कोरोना मरीजों का विधिवत इलाज किया जा रहा है। खास बात यह है कि मरीजों के इलाज का खर्च पूल मनी से हो रहा है। यानी ग्रामीणों ने आपस में राशि इक्ट्ठा कर कोविड अस्पतालों की शुरुआत और मेडिकल उपकरणों की खरीदारी की है।

ग्रामीणों की पहल से चल रहे हैं कोविड केंद्र
इन केंद्रों पर दिन में दो बार सरकारी डॉक्टर भी अपनी सेवा दे रहे हैं।  स्थानीय विधायक और प्रशासनिक अधिकारियों का भी इस ’DIY अस्पतालों’ को समर्थन मिल रहा है। ग्रामीणों की इस नेक पहल की चर्चा चारों ओर हो रही है। जिले के कई गांव इसके नक्शेकदम पर चल रहे हैं।  दरअसल, लालबर्रा तहसील में कुछ हफ्ते पहले एक व्यापारी अपनी बेटी को इलाज कराने के लिए अस्पताल पहुंचा था, लेकिन अस्पताल में सुविधा नहीं होने से वह काफी दुखी हुआ।

मध्य प्रदेश में बढ़ रहा कोरोना 
उसने अपने मन में ठाना कि आने वाले वक्त में गांव में लोगों की मदद से हेल्थ सेंटर चलाएंगे। उसी का परिणाम है कि तीन गांवों में पूल मनी के जरिए कोविड केंद्रों का संचालन हो रहा है। गौरतलब है कि प्रदेश में अब तक संक्रमित पाए गए लोगों की कुल संख्या 5,50,927 तक पहुंच गई है। मध्य प्रदेश में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी से 95 लोगों की जान जा चुकी है। मरने वालों का आंकड़ा 5,519 के पार पहुंच गया है। 
... और पढ़ें

इंसानियत: पत्नी के गहने बेच अपने ऑटो को बनाया एंबुलेंस, मुफ्त में मरीजों को ले जा रहा अस्पताल

कोरोना की दूसरी लहर मध्यप्रदेश, गुजरात, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल समेत कई राज्यों में कोहराम मचा रही है। कोरोना की दूसरी लहर इतनी भयावह है कि वो लोगों की सांसें तक छीन रही है, यही नहीं मरने के बाद भी मृतकों के शवों के साथ बदसलूकी की जा रही है।

कोरोना काल में लोगों के कई चेहरे देखने को मिल रहे हैं। एक तरफ कालाबाजारी करने वाले लोग हैं, जो आपदा को अवसर बना रहे हैं लेकिन दूसरी तरफ ऐसे लोग भी हैं, जो संपूर्ण मन और निस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा कर रहे हैं और इंसानियत को आगे रख रहे हैं। मध्यप्रदेश के भोपाल से बेहद सुंदर और विचलित मन को शांत करने वाली एक तस्वीर सामने आई है, जो सभी के लिए मिसाल कायम करती है।
 

ऑटो को एंबुलेंस में बदला
भोपाल में एक ऑटो चालक ने अपने ऑटो को एंबुलेंस में तब्दील कर दिया है। ऑटो चालक जावेद खान का कहना है कि उसने देलीविजन और सोशल मीडिया पर देखा था कि राज्य में किस तरह बदहाली है और एंबुलेंस और ऑक्सीजन की कमी से लोग अपने मरीजों को अस्पताल लेकर नहीं जा पा रहे हैं। इसलिए मैंने अपने ऑटो को ऑक्सीजन से लैस एंबुलेंस में तब्दील कर दिया।

मुफ्त में मरीजों को अस्पताल लेकर जाते हैं
जावेद खान बताते हैं कि उनका मोबाइल नंबर सोशल मीडिया पर वायरल है। वो मरीजों को मुफ्त में अस्पताल लेकर जाते हैं। जावेद ने आग बताया कि इस काम के लिए मैंने अपनी पत्नी के ज्वेलरी बेच दी और इसके बाद मैं एक ऑक्सीजन केंद्र के बाहर लाइन में खड़ा रहा और एक सिलिंडर भराकर अपने ऑटो में रख दिया। 

अबतक नौ गंभीर मरीजों को अस्पताल पहुंचाया
बकौल जावेद, वो ये काम पिछले 15 से 20 दिन से कर रहे हैं और अबतक नौ गंभीर मरीजों को अस्पताल लेकर जा चुके हैं।
... और पढ़ें

दुखद: जबलपुर में डिप्रेशन से परेशान महिला ने की खुदकुशी, सूचना मिलते ही पति ने जर्मनी में लगाई फांसी

कोरोना काल में लोग सदमे में आकर सुसाइड कर रहे हैं। ताजा मामला जबलपुर के गोरखपुर थाने में रामपुर इलाके का है, जहां 28 साल की नवज्योति मक्कड़ ने अपने ससुराल में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इसकी सूचना जब जर्मनी में रह रहे नवज्योति के इंजीनियर पति सिमरन मक्कड़ को हुई, तो उन्होंने सदमे में वहीं फांसी लगा ली। जर्मनी पुलिस ने इसकी सूचना गोरखपुर थाना पुलिस को दी है। वहां पुलिस ने उनका कमरा, सामान सील कर दिया है।

गुरुवार रात मृतका ने फोन पर मां से की थी बात
जानकारी के मुताबिक नवज्योति और सिमरन की 4 महीने पहले ही शादी हुई थी। नवज्योति पंजाब के हाेशियारपुर की रहने वाली थी। उसके पिता और भाई दोनों सेना में हैं और इंदौर के पास महू में तैनात हैं। वह 10 दिन पहले ही मायके से जबलपुर लौटी थी। परिजनों से पूछताछ में पता चला कि नवज्योति ने गुरुवार रात होशियारपुर में अपनी मां से फोन पर बात की थी।

मां ने बेटी को बहुत समझाया और अपने दामाद को भी सिमरन की निराशाजनक बातों की सूचना दी। सिमरन ने पिता हरमिंदर को फोन कर नवज्योति को समझाने को कहा। वे जब कमरे में पहुंचे तो वहां बहू का शव फंदे पर लटकता मिला। हरमिंदर ने इसकी सूचना सिमरन को दी, तो सिमरन ने जबलपुर में अपने दोस्त कुलदीप को सूचना दी और बाद में सदमे में आकर खुद फांसी लगा ली। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है। 
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

मध्यप्रदेश: 17 मई तक लॉकडाउन लागू, संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए शादियों पर रोक

मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस का प्रकोप तेजी से फैल रहा है। कोरोना के कोहराम को देखते हुए राज्य सरकार ने 15 मई तक लॉकडाउन लगाने का एलान कर दिया है। बता दें कि राज्य में पहले से ही वीकेंड लॉकडाउन लगाया हुआ है तो ऐसे में 17 मई तक राज्य में लॉकडाउऩ रहेगा। 

इस दौरान राज्य में शादियों पर रोक लगी रहेगी। इसके अलावा जिन गांवों में कोरोना संक्रमित मरीजों के मामले ज्यादा हैं, वहां मनरेगा की मजदूरी भी 15 मई तक बंद कर दी गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ऐसी जगहों पर राशन उपलब्ध कराया जाएगा। 

बता दें कि भोपाल में गुरुवार को लॉकडाउन लगे 24 दिन हो गए हैं। यहां 12 अप्रैल की रात से सब कुछ बंद है। वहीं शादी-विवाह को लेकर सरकार का कहना है कि विवाह आयोजन सुपर स्प्रेडर है। सरकार का कहना है कि शादी में सिर्फ दस लोगों को बुलाने की ही अनुमित है लेकिन यहां 100-200 लोगों को बुला लिया जाता है। 

इस पर जनप्रतिनिधियों से कहा गया है कि वो विवाह वाले परिवारों से बात करके सहमित बनाएं। जो शादियां मई महीने में आयोजित की गई है, उन्हें जून में किया जाए। जून में जो शादी होंगी, उसमें मुख्यमंत्री वर्चुएल तरीके से जुड़कर बधाई देंगे। 

संक्रमण दर 18 फीसदी से कम होगी, तभी मिलेगी ढील- सरकार
यही नहीं सरकार का यह भी कहना है कई जिलों में संक्रमण की दर कम नहीं हो रही है। हालांकि कुछ जिले अच्छा काम कर रहे हैं। जहां संक्रमण दर ज्यादा है, वहां निगरानी की जा रही है कि लापरवाही तो नहीं बरती जा रही। लापरवाही करने वाले लोगों पर सख्ती बरती जाएगी। सरकार ने कहा कि जब तक संक्रमण दर 18 फीसदी से कम नहीं होगी, तब तक ढील नहीं दी जाएगी। 

तीसरी लहर से निपटने की तैयारी शुरू
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर के लिए स्वास्थ्य इंफ्रांस्ट्रक्चर को और दुरुस्त किया जा रहा है। हर जिले में ऑक्सीजन प्लांट और सीटी स्कैन मशीनें लगाई जा रही हैं। जनपद पंचायतों में क्राइसिस मैनेजमेंट समूह बनाए जाएंगे। 
... और पढ़ें

गुहार: कमलनाथ ने मध्यप्रदेश सरकार से की मांग, कहा- कोरोना से मरने वालों के परिजनों को मिले आर्थिक सहायता

मध्यप्रदेश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। ऐसे में कांग्रेस अध्यक्ष एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गुरुवार (6 मई) को राज्य सरकार से मांग की है कि कोरोना से हुई मौत को आपदा से हुई मौत माना जाए। साथ ही, मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जाए। कमलनाथ ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को लिखे पत्र में यह मांग की है।

इस पत्र में उन्होंने कहा, 'मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति भयावह हो गई है। प्रदेश में कुल कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की संख्या छह लाख से अधिक हो चुकी है और अनेक प्रदेशवासी असमय काल कवलित हो चुके हैं। परिजन की असमय मृत्यु होने के कारण अनेक परिवार आज असहाय हो गए हैं। परिवार के मुखिया अथवा आय उपार्जन करने वाले व्यक्ति की मृत्यु से परिवारों की आय समाप्त हो गई है और उनका जीवनयापन कठिन हो गया है। आज ऐसे परिवारों को राहत की अत्यंत आवश्यकता है।'

उन्होंने कहा, 'मध्य प्रदेश में प्राकृतिक आपदाओं एवं अन्य दुर्घटनाओं से जनहानि होने पर राजस्व पुस्तक परिपत्र 6 (4) के अंतर्गत मृतक के आश्रितों को चार लाख रुपये की आर्थिक सहायता दिए जाने का प्रावधान है। इस परिपत्र का मुख्य उद्देश्य आपदाग्रस्त परिवार को आर्थिक सहायता एवं राहत दिया जाना है। वर्तमान परिस्थितियों में इस परिपत्र में संशोधन कर, कोरोना से मृत्यु को आपदा मानकर राहत दिया जाना उचित प्रतीत होता है।'

कमलनाथ ने आगे लिखा, 'मेरा आपसे (मुख्यमंत्री चौहान) अनुरोध है कि कोरोना से मृत्यु के प्रकरणों में आश्रितों को सहायता राशि प्रदान किए जाने हेतु राजस्व पुस्तक परिपत्र 6 (4) में आवश्यक संशोधन करने का कष्ट करें, ताकि कोरोना की इन विपरीत परिस्थितियों में आपदाग्रस्त परिवारों को राहत एवं संबल प्राप्त हो सके।'

मध्य प्रदेश स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी के अनुसार प्रदेश में कोरोना वायरस से अब तक 6,24,985 लोग संक्रमित हो चुके हैं और इनमें से अब तक 6,074 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि, मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं प्रदेश के पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने दावा किया कि राज्य में कोरोना महामारी से अब तक एक लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।
... और पढ़ें

फैसला: हैदराबाद में शेरों के संक्रमित होने के बाद मध्यप्रदेश के सभी टाइगर रिजर्व, सैंक्चुरी बंद

हैदराबाद के चिड़ियाघर में आठ शेरों में कोरोना वायरस के लक्षण मिलने के बाद देश के कई टाइगर रिजर्व और अभयारण्य सतर्क हो गए हैं। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित वन विहार को हाई अलर्ट कर दिया गया है। साथ ही प्रदेश के सभी टाइगर रिजर्व, सैंक्चुरी और चिड़ियाघरों को भी सतर्क रहने के लिए कहा गया है। भोपाल के वन विहार में अब वन्य प्राणियों के कमरों को अब हर दिन सैनेटाइज किया जा रहा है।

जानवरों को गर्म पानी में डालकर मांस खाने को दिया जा रहा है। इतना ही नहीं जानवरों की देखरेख करने वाले सभी कर्मचारियों को कोरोना वैक्सीन लगा दी गई है। इंदौर तथा ग्वालियर के चिड़ियाघरों में भी वन्य प्राणियों को मिनरल्स और एंटीवायरल दवाएं देना शुरू कर दिया गया है। राज्य के सतपुड़ा, बांधवगढ़, कान्हा, पेंच, संजय डुबरी सहित सभी टाइगर रिजर्व, सैंक्चुरी को आगामी आदेश तक के लिए बंद कर दिया गया है।
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश: पूर्व भाजपा उपाध्यक्ष विजेश लूनावत का निधन, सियासी जगत में शोक की लहर

वन विहार भोपाल
मध्यप्रदेश भाजपा के पूर्व उपाध्यक्ष विजेश लूनावत का गुरुवार को भोपाल में निधन हो गया। वह 55 वर्ष के थे। पारिवारिक सूत्रों ने बताया कि वह काफी समय से अस्वस्थ थे और हाल ही में कोविड-19 संक्रमित भी पाए गए थे। वह अपने पीछे पत्नी और दो बेटियां छोड़ गए हैं। विजेश लूनावत के निधन के समाचार के बाद पार्टी में शोक की लहर है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने उनके निधन पर दुख व्यक्त किया। 

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने एक ट्वीट में कहा, 'मध्यप्रदेश भाजपा के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष और हम सभी के प्रिय साथी विजेश लूनावत के निधन की सूचना से स्तब्ध और दुखी हूं। यह मध्य प्रदेश भाजपा परिवार के लिए अपूरणीय क्षति है। मैं उनके चरणों में श्रद्धासुमन अर्पित करता हूं। मेरी संवेदनाएं शोकाकुल परिजनों के साथ हैं। ईश्वर से प्रार्थना है कि वे दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें।'

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने उनके निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा, 'समझ ही नहीं पा रहा हूं कि इतना कर्मठ, यारबाज और कुशल संगठक किसी बीमारी की चपेट में कैसे आ गया? वे तो कभी कोई लड़ाई नहीं हारे, तब कमबख्त कैंसर कैसे हावी हो गया। मध्यप्रदेश भाजपा के बीते दो दशक में ऐसा कोई काम नहीं, जिसमें वे शरीक न हों। चुनाव, मीडिया प्रबंधन में वे बेजोड़ थे।' 

मध्यप्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने ट्वीट किया, 'विजेश लूनावत के आकस्मिक निधन से स्तब्ध हूं। लूनावत ने हमेशा एक समर्पित कार्यकर्ता के रूप में संगठन के लिए कार्य किया। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दें और उनके परिजनों को इस वज्रपात को सहन करने की शक्ति दें। अत्यंत दुखद।’ 

वहीं, मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट किया, 'भाजपा के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष विजेश लूनावत के दुखद निधन का समाचार प्राप्त हुआ। परिवार के प्रति मेरी शोक संवेदनाएं। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान व पीछे परिजनों को यह दुख सहने की शक्ति प्रदान करे।' उन्होंने लिखा कि विजेश भाई, मिलने का वादा कर कहां चले गए!
... और पढ़ें

भोपाल: पति ने बिस्तर पर उल्टी की तो भड़क गई महिला, रात डेढ़ बजे दीवार से कूद दे दी जान

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से एक दर्दनाक मामला सामने आया है। भोपाल में पंचशील नगर में रहने वाली एक दंपती के बीच बहस हो गई तो महिला ने बाउंड्रीवॉल से कूदकर अपनी जान दे दी। दरअसल, पति ने शराब के नशे में आकर अपने बिस्तर पर उल्टी कर दी थी, जिससे नाराज होकर पत्नी ने बाउंड्रीवॉल से छलांग लगा दी।
 
शराब के नशे में धूत पति ने बिस्तर पर की उल्टी
इस बाउंड्रीवॉल की लंबाई करीब छह फीट थी। पत्नी के कूदने पर बेटी ने शोर मचाया तो पड़ोसियों ने आकर उसकी मदद की और इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया। प्रारंभिक इलाज के बाद पत्नी को घर भेज दिया गया लेकिन सुबह एक बार फिर पत्नी की तबीयत बिगड़ गई और आनन-फानन में उसे अस्पताल ले गए।

पेशे से टेलर था सुनील गुप्ता
हालांकि इसी बीच महिला की मौत हो चुकी थी। टीटी नगर पुलिस के मुताबिक पंचशील नगर निवासी सुनील गुप्ता पेशे से टेलर हैं। इस इलाके में सुनील अपनी 36 वर्षीय पत्नी किरण गुप्ता और बेटी के साथ रहता था। टीआई शैलेंद्र शर्मा ने बताया कि रविवार देर रात सुनील ने नशे में धुत होकर बिस्तर पर ही उल्टी कर दी थी। 

रात के करीब डेढ़ बजे किरण ने छत से छलांग लगा दी
पति की इस हरकत पर सुनील और किरण के बीच बहस छिड़ गई। ये बहस इस हद तक बढ़ गई कि किरण ने रात करीब डेढ़ बजे बाउंड्रवॉल के ऊपर से छलांग लगा दी। इसके बाद बेटी ने शोर मचाया तो घायल किरण को जेपी अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां डॉक्टरों ने प्रारंभिक इलाज के बाद महिला को छु्ट्टी दे दी। 

इसके बाद सोमवार सुबह छह बजे किरण की एक बार फिर तबीयत खराब हुई और उसे अस्पताल ले जाने लगे, लेकिन इसी बीच किरण ने दम तोड़ दिया। पड़ोसियों ने इसकी सूचना किरण के घरवालों को दी और उनके भोपाल आने का इंतजार किया।
... और पढ़ें

वायरल वीडियो: गधे पर मस्ती में बैठा दूल्हा, जमकर डांस कर रहे रिश्तेदार, मजे ले रहे लोग

अभी तक दूल्हे घोड़ी पर चढ़कर शादी करने जाते हैं, यह तो हम सबने सुना है , लेकिन एक जगह दूल्हे घोड़ी की जगह गधे पर बैठकर शादी करने चल दिया। वह भी बड़े मजे के साथ..मामला मध्य प्रदेश के देवास जिले का है। सोशल मीडिया पर वायरल यह वीडियो तहलका मचाया है। अबतक कई हजार लोग इस वीडियो को देख चुके हैं।  वायरल वीडियो में दिखाई दे रहा है कि दूल्हा गधे पर मजे से बैठा है और रिश्तेदार आसपास डांस कर रहे हैं। 



दरअसल, जिले की बागली तहसील के करोंदिया गांव का है।  वीडियो वायरल होने के बाद लोग तरह-तरह के कमेंट्स कर रहे हैं, लेकिन गांव के लोगों का कहना है कि इस गांव में दूल्हा गधे पर बैठकर विवाह करने जाता है।  गांव में यह परंपरा कई वर्षों से चली आ रही है
... और पढ़ें

दुखद: कोरोना ने छीन ली एक और जिंदगी, नहीं रहे प्रसिद्ध साहित्यकार, चित्रकार और पत्रकार प्रभु जोशी

इंदौर के प्रसिद्ध साहित्यकार, चित्रकार और पत्रकार प्रभु जोशी का निधन हो गया। वह पिछले कुछ दिनों से कोरोना संक्रमित थे, उनका इलाज चल रहा था।  उनके निधन की खबर सुन साहित्य जगत में शोक की लहर छा गई है। प्रभु जोशी एक चित्रकार, कहानीकार, संपादक, आकाशवाणी अधिकारी और टेलीफिल्म निर्माता के तौर पर जाने जाते थे। इनके चित्र लिंसिस्टोन तथा हरबर्ट में ऑस्ट्रेलिया के त्रिनाले में प्रदर्शित हुए थे। प्रभु जोशी को गैलरी फॉर केलिफोर्निया (यूएसए) का जलरंग के लिए थामस मोरान अवॉर्ड से भी नवाजा जा चुका है। ट्वेंटी फर्स्ट सैचुरी गैलरी, न्यूयार्क के टॉप सेवैंटी में वे शामिल रहे।  भारत भवन का चित्रकला और मध्य प्रदेश साहित्य परिषद का कथा-कहानी के लिए अखिल भारतीय सम्मान भी उन्हें मिला।

प्रभु जोशी को मिल चुके हैं कई अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार 
प्रभु जोशी इंदौर आकाशवाणी में प्रोग्राम एक्जीक्यूटिव पद पर भी कार्यरत थे। कई रेडियो प्रोग्रामों को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहुंचाने का श्रेय उन्हें जाता है। इसके लिए उन्हें कई अंततराष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हुए। वर्तमान में लेखन और चित्रकारी में सक्रिय थे । हाल ही में उन्हें जर्मनी के बर्लिन में संपन्न अंतरराष्ट्रीय जनसंचार स्पर्धा में आफ्टर आल हाउ लांग रेडियो कार्यक्रम को जूरी का विशेष पुरस्कार दिया गया था। 'इम्पैक्ट ऑफ इलेक्ट्रानिक मीडिया ऑन ट्रायबल सोसायटी' विषय पर किए गए अध्ययन को 'आडियंस रिसर्च विंग' का राष्ट्रीय पुरस्कार प्रभु जोशी को मिला चुका था। उनकी हिंदी और अंग्रेजी कहानियों का प्रकाशन अनेक समाचार पत्र-पत्रिकाओं में हुआ है।
... और पढ़ें

अजब गजब: हर्ष फायर में दूल्हे के जीजा के घुटने में लगी गोली, डॉक्टर ने लिखा सिर का एक्सरे

मध्यप्रदेश के मेहगांव से बड़ी लापरवाही सामने आई है। शादी के बीच हर्ष फायर में दूल्हे के जीजा को घुटने में गोली लगी। लेकिन डॉक्टर ने सिर के एक्सरे के लिए लिख दिया। घायल एक्सरे कराने गया तो मामला सामने आया।

मुश्तरा गांव, मेहगांव निवासी सुदामा बघेल के घर बेटे विकास की शादी थी। दो अप्रैल को सुदामा बेटे की बारात लेकर मेहगांव के पास बरासो थाना क्षेत्र के भूरे के पुरा गांव गया। यहां बारात में लड़के का जीजा वीरेंद्र (28) पुत्र हरिराम फुसावली हस्तिनापुर जिला ग्वालियर भी शामिल हुआ था। रात करीब 10:30 बजे टीका की रस्म चल रही थी। इसी बीच भूरे का पुरा निवासी रवि बघेल पिस्टल लेकर आ गया और हर्ष फायर करने लगा।

इसी दौरान एक गोली सीधे दूल्हे के जीजा वीरेंद्र के पैर में जा लगी। गोली लगते ही जश्न में खलल पड़ गया। आरोपी मौके से फरार हो गया। मामले की जानकारी पुलिस को दी गई। पुलिस ने घटनास्थल का मुआयना किया। इसके बाद घायल को एमएलसी ( मेडिकल चेकअप) के लिए मेहगांव चिकित्सालय ले जाया गया। 

पीड़ित वीरेंद्र के ससुर सुदामा बघेल के मुताबिक सुबह जिला अस्पताल पहुंचे। यहां रेडियोलॉजी विभाग में जाकर एक्स-रे के लिए संबंधित को डॉक्टर का पर्चा दिया। वहां मौजूद एक्स-रे कर्ता ने बताया, डॉक्टर ने सिर का एक्स-रे किए जाने का पर्चे पर लिखा है, जबकि गोली पैर में घुटने के पास लगी है। उसने एक्स-रे करने से इनकार करते हुए पर्चा सुधरवाकर लाने के लिए कहा। इसके बाद परिजन तुरंत वापस करीब 20 किलोमीटर मेहगांव चिकित्सालय पहुंचे। यहां देखा तो डॉ. तोमर छुट्टी पर थे। जिला अस्पताल आकर ये बात बताई। इसके बाद दूसरे डॉक्टरों को दिखाकर काफी मशक्कत के बाद पैर का एक्सरे हो पाया।
... और पढ़ें

भोपाल: सरकारी आंकड़ों में कोरोना से सिर्फ 109 की मौत, लेकिन अप्रैल में हुए 2500 अंतिम संस्कार

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना का कहर तेजी से फैल रहा है। हालांकि सरकारी आंकड़ों और जमीनी स्थिति में काफी अंतर है। भोपाल प्रशासन की माने तो अप्रैल महीने में जिले कोरोना वायरस से 109 मौतें दर्ज की गईं लेकिन शमशान घाट और कब्रिस्तान का आंकड़ा कुछ और ही बताता है।

कोविड-19 मरीजों के लिए जिले में तीन शमशान घाट और एक कब्रिस्तान हैं और यहां से जुटाए गए आंकड़ों का कहना है कि 1-30 अप्रैल तक जिले में 109 कोविड मृतकों के अलावा 2,567 शवों का कोविड प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार किया गया है। वहीं इन चारों जगहों के कर्मचारियों का कहना है कि इस अवधि के दौरान 1,273 गैर कोविड मरीजों का भी अंतिम संस्कार किया गया है। 

भोपाल में छह शमशान घाट और चार कब्रिस्तान हैं। जिसमें चार शमशान घाट और एक कब्रिस्तान कोविड मरीजों के लिए आरक्षित किया हुआ है। कब्रिस्तान और शमशान के अधिकारियों और कर्मचारियों का कहना है कि शवो की भीड़ से निपटने के लिए उन्हें काफी संघर्ष करना पड़ता है। 

वहां काम कर रहे कर्मचारियों का कहना है कि हमारे शमशान घाट की हालत बेहद खराब हो गई है। यहां जगह-जगह पर पीपीई किट और दस्ताने पड़े मिलते हैं। उनकी मांग है कि नगर निगम इन जगहों को कम से कम सैनिटाइज और साफ करे, ताकि दूसरे शवों को जलाने में आसानी हो। 

इसके अलावा उनकी शिकायत है कि शमशान घाटों और कब्रिस्तान में जगह कम पड़ गई है और काम करने वाले लोग भी कम हैं। शवों के लिए जमीन खोदने वाले लड़के अब थक चुके हैं। शवों की संख्या बहुत ज्यादा आती है। वहीं प्रदेश के सार्वजनिक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी का कहना है कि प्रदेश की ओर से मृतकों का आंकड़ा नहीं छुपाया जा रहा है। 

उन्होंने आगे कहा कि कुछ ऐसे मामले जरूर हैं, जो कंफर्म कोविड मरीज नहीं है, संदिग्ध हैं लेकिन उनका अंतिम संस्कार कोविड प्रोटोकॉल के तहत किया जा रहा है। उन्होंने आगे कहा कि ऐसे कई मामले पहले भी सामने आए हैं।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X