लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Jammu and Kashmir ›   Jammu News ›   50 years ago on this day the first passenger train reached Jammu railway station

Jammu Kashmir: 50 साल पहले आज ही के दिन जम्मू रेलवे स्टेशन पर पहुंची थी पहली यात्री ट्रेन

अमर उजाला नेटवर्क, जम्मू Published by: kumar गुलशन कुमार Updated Fri, 02 Dec 2022 03:00 PM IST
सार

दो दिसंबर 1972 को आजाद भारत में ये पहला मौका था, जब जम्मू रेलवे स्टेशन पर ट्रेन यात्रियों का लेकर पहुंची थी। इसमें तत्कालीन केंद्र और राज्य सरकार के मंत्री सवार होकर मौजूद थे जो इस ऐतिहासिक पल के गवाह बने थे।

Jammu
Jammu - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन

विस्तार

आज से ठीक 50 वर्ष पहले दो दिसंबर 1972 को जम्मू रेलवे स्टेशन पर पहली यात्री ट्रेन पहुंची थी। एक दिसंबर को नई दिल्ली से चली श्रीनगर एक्सप्रेस (झेलम एक्सप्रेस) दो दिसंबर को जम्मू रेलवे स्टेशन पर पहुंची थी। 50 साल पहले श्रीनगर एक्सप्रेस से शुरू हुआ ये सफर आज देश की सबसे तेज ट्रेन वंदे भारत तक का पहुंच गया है। एक ट्रेन से शुरू हुआ सफर आज प्रतिदिन 22 ट्रेनों तक पहुंचा है। 50 वर्ष के उपलक्ष्य में बेगमपुरा ट्रेन को हरि झंडी दिखाकर रवाना किया गया। इस मौके पर आज एक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया।



दो दिसंबर 1972 को आजाद भारत में ये पहला मौका था, जब जम्मू रेलवे स्टेशन पर ट्रेन यात्रियों का लेकर पहुंची थी। इसमें तत्कालीन केंद्र और राज्य सरकार के मंत्री सवार होकर मौजूद थे जो इस ऐतिहासिक पल के गवाह बने थे। जम्मू तक ट्रेन नहीं आने से पहले लोग पठानकोट तक ही आते थे। जम्मू तक सिर्फ माल गाड़ियां ही आती थीं। दो दिसंबर 1972 पहली बार यात्री ट्रेन जम्मू पहुंची थी। उस समय जम्मू में एक ही प्लेटफॉर्म होता था, वह भी कच्चा था।


जम्मू रेलवे स्टेशन में उस समय एक वॉशिंग लाइन होती थी, जिसमें ट्रेन की धुलाई और तकनीकी जांच की जाती थी। रेलवे क्वार्टर की सुविधा भी न के बराबार थी। पहली ट्रेन चलने के बाद तीन अन्य ट्रेनें शुरू की गईं जिसमें कश्मीर ट्रेन वर्तमान में जम्मू मेल, सियालदह एक्सप्रेस और जम्मू-पठानकोट डीएमयू चलाई गई। इसके बाद यात्रियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए रेलवे ने जम्मू से राजधानी ट्रेन का परिचालन शुरू किया। 1972 से पहले बाहरी राज्यों से आने वाले माता वैष्णो देवी के भक्तों को पठानकोट उतरना पड़ता था, जबकि जम्मू से हरिद्वार जाने वाले यात्रियों को पठानकोट से ट्रेन पकड़नी पड़ती थी। वर्ष 1969 में पहली बार रेलवे लाइन को जम्मू तक पहुंचाने की जमीनी स्तर पर पहल हुई थी। 1969 में कठुआ-जम्मू तक रेल लाइन बिछाने का काम शुरू हुआ जो तीन साल के समय में पूरा किया गया। वहीं, भारत पाकिस्तान के युद्ध के दौरान भी इस रेल प्रोजेक्ट का काम नहीं रुका था।

जम्मू रेलवे स्टेशन का पुनर्विकास कार्य शुरू हो चुका है। अक्तूबर 2022 से शुरू हुआ निर्माण कार्य 30 महीने बाद पूरा होगा। 266 करोड़ की लागत से स्टेशन पर दूसरा प्रवेश द्वार, जिसमें चार प्लेटफार्म, यात्रियों के सुगम आवागमन के लिए सब-वे और आरआरआई बील्डिंग, सिंगल एंड कंट्रोल रूप सहित अन्य ढांचे बनाए जाएगा। जम्मू रेलवे स्टेशन यात्री हब के रूप में तैयार होगा। इससे स्टेशन पर ट्रेनों की संख्या बढ़ेगी और यात्रियों को बेहतर सुविधाएं मिलेंगी।

दो दिसंबर को जम्मू रेलवे स्टेशन पर पहली यात्री ट्रेन पहुंची थी। आज हम 50 वर्ष का तय कर लिया है। वर्तमान में जम्मू रेलवे स्टेशन 22 ट्रेन का संचालन होता और 55 ट्रेनें जम्मू रेलवे स्टेशन से होकर गुजरती हैं। -उचित सिंघल, डीटीएम जम्मू रेलवे स्टेशन

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00