एचआरटीसी का केलांग डिपो कुल्लू शिफ्ट

Kullu Updated Sat, 24 Nov 2012 12:00 PM IST
केलांग। बर्फबारी की आशंका के चलते एचआरटीसी के केलांग डिपो का कार्यालय कुल्लू शिफ्ट कर दिया है। रोहतांग दर्रा समेत ऊंचाई वाले रिहायशी इलाकों में रुक-रुक कर हिमपात हो रहा है। घाटी का न्यूनतम पारा शून्य से करीब सात डिग्री नीचे लुढ़क चुका है। बावजूद इसके लाहौल घाटी समेत चंबा के किलाड़ में तकरीबन सभी मुख्य रूटों पर केलांग डिपो की बस सेवा जारी है। इससे स्थानीय लोगाें को ऑफ सीजन में भी राहत मिल रही है।
एचआरटीसी का केलांग डिपो पूरे प्रदेश में एकमात्र ऐसा डिपो है जिसे सर्दी के दिनों में अस्थाई तौर पर कुल्लू शिफ्ट कर दिया जाता है। इलाके में जबरदस्त ठंड के कारण जहां लोगाें का घराें से बाहर निकलना मुश्किल है वहीं लाहौल घाटी के भीतर निगम की आठ बसें और एक जीप, किलाड़ में नौ बसें तथा दो जीपें लोगाें की आवाजाही के लिए फिलहाल चल रही हैं।

लंबे रूटों पर दौड़ रही 24 बसें
कार्यालय शिफ्ट होने के बाद केलांग डिपो, कुल्लू-मनाली से ही लंबी रूटों की करीब चौबीस बसें चला रहा है। केलांग डिपो के क्षेत्रिय प्रबंधक मंगलचंद मानेपा ने बताया कि डिपो के बेडे़ में अधिकतम दूरी तय कर चुकी आठ बसों को ट्रांसफर करने का आग्रह किया है। निगम कर्मियों को स्नो किट उपलब्ध करवा दी है।

एचआरटीसी कर्मियों की प्रशंसा
लाहौल पंचायत प्रधान संघ के अध्यक्ष वीर सिंह, पूर्व अध्यक्ष सुरेश कुमार, जिप सदस्य शशि किरण, रिगजिन समफेल हायरपा और अध्यक्ष बीडीसी लाहौल संजीव कुमार ने कड़ाके की ठंड के बीच भी रोहतांग दर्रा होकर बस सेवा जारी रखने पर मंगलचंद मानेपा समेत डिपो के तमाम कर्मचारियों की तारीफ की है।

Spotlight

Related Videos

बर्फ से ढकी हिमाचल की सड़कों पर पहली बार चली ये खास मशीन

हिमाचल प्रदेश ऊंचे इलाकों में बर्फबारी लगातार हो रही है। इस कारण रास्ते जाम हो गए हैं। इस हालात से निपटने के लिए पहली बार स्नो कटर का इस्तेमाल हो रहा है यहां के जलोड़ी दर्रा नेशनल हाईवे पर।

17 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper