बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

वीरेंद्र हत्याकांड : मुख्य आरोपी सहित चार गिरफ्तार, एक अन्य हत्या कबूली

Updated Sat, 03 Jun 2017 06:07 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
वीरेंद्र हत्याकांड : मुख्य आरोपी सहित चार गिरफ्तार, एक अन्य हत्या कबूली
विज्ञापन


अमर उजाला ब्यूरो
सोनीपत।
गांव सेरसा में हेयर सैलून संचालक वीरेंद्र हत्याकांड में पुलिस ने मुख्य आरोपी सहित चार हमलावरों को काबू कर लिया है। पुलिस ने आरोपियों को रिमांड पर लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। गिरफ्तार आरोपी गांव सेरसा निवासी शांतनु, गांव जांटी कलां निवासी रोहित उर्फ कालू, दिल्ली के गांव टीकरी निवासी हरदीप उर्फ अमित उर्फ मीता व गांव सेरसा निवासी सुमित उर्फ कसाब हैं। पुलिस ने आरोपियों को जींद के गांव नबूरा से काबू किया है। यहां ये शांतनु के साथी राकेश के पास छिपे हुए थे। गिरफ्तार आरोपियों ने गांव के ही मीर सिंह की अपहरण के बाद हत्या करना भी स्वीकार किया है। आरोपियों ने मीर सिंह की हत्या दिल्ली में की थी। इस मामले में दिल्ली पुलिस इन्हें प्रोडक्शन रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी।
28 मई की रात सैलून में मारी थी गोली
गांव सेरसा निवासी जयभगवान ने 29 मई को शिकायत दी थी कि उसका बेटा वीरेंद्र उर्फ धाकड़ गांव में हेयर सैलून चलाता था। 28 मई की रात को वह सैलून पर एक ग्राहक की सेविंग कर रहा था। इसी दौरान बाइक पर आए गांव के शांतनु व अन्य ने उसके बेटे की गोलियां मारकर हत्या कर दी थी। आरोपी शांतनु के भाई संदीप ने अपने साथी अमित के साथ मिलकर 26 मार्च, 2016 को गांव के ही प्रवीण की हत्या की थी। वह उसके बेटे के सैलून पर सेविंग कराने आया था। इस दौरान हमलावरों ने वीरेंद्र को भी गोली मार दी थी। हमले में वीरेंद्र बच गया था और उसने संदीप व अमित के खिलाफ कोर्ट में गवाही दी थी, जिसका बदला लेने के लिए ही शांतनु ने साथियों के साथ मिलकर उसके बेटे की हत्या कर दी। पुलिस ने जयभगवान के बयान पर गांव के शांतनु व दो अन्य को हत्या के मामले में नामजद किया था। वहीं, जेल में बंद संदीप व अमित तथा संदीप मां, बहन योगिता व बहनोई को षड्यंत्र रचने के आरोप में नामजद किया गया था।

मामले में सीआईए स्टाफ प्रभारी इंदीवर को सूचना मिली कि वीरेंद्र हत्याकांड के आरोपी जींद के गांव नबूरा में छिपे हुए है। जिस पर पुलिस ने शनिवार को नबूरा में रेड करते हुए चार आरोपियों शांतनु, रोहित, हरदीप उर्फ अमित व सुमित उर्फ कसाब को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस आरोपियों को अदालत में पेश कर तीन दिन के रिमांड पर लिया है।
हत्याकांड में शामिल थे ये पांच आरोपी
पुलिस जांच में सामने आया है कि वीरेंद्र हत्याकांड में पांच आरोपी शामिल थे। इसमें गिरफ्तार चार आरोपियों के अलावा गांव सफियाबाद का प्रदीप उर्फ शीलू भी शामिल था, जिसकी तलाश पुलिस कर रही है। तीन आरोपी दुकान पर पहुंचे थे और दो अन्य दूसरी बाइक पर उनसे कुछ दूर खड़े थे। वीरेंद्र को पहले गोली शांतनु ने मारी थी और बाद में हरदीप उर्फ अमित उर्फ मीता ने गोली मारी थी।
लूट की बाइक पर आए थे हमलावर
शांतनु ने पुलिस को बताया कि वह वीरेंद्र की हत्या करने के लिए लूट की बाइक पर आए थे। वारदात में शामिल एक बाइक को उन्होंने 23 मई को कुंडली गोल चक्र से गन प्वाइंट पर लूटा था। लूट में सभी आरोपी शामिल थे।
मीर सिंह की हत्या से उठा पर्दा
गिरफ्तार आरोपियों ने मूलरूप से गांव सेरसा फिर दिल्ली के गांव सिंघु निवासी मीर सिंह (47) की हत्या करना भी कबूला है। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने 10-12 दिन पहले अलीपुर दिल्ली स्थित श्रद्धानंद कालेज के पीछे से मीर सिंह का अपहरण किया था। उसे दीपक की इक्को वैन में अपहरण करने के बाद सिंघु गांव के निकट खान में लेकर आए और वहां पहले शांतनु, फिर सुमित उर्फ कसाब ने उसे गोली मारकर मौत के घाट दिया था। अमित ने भी गोली चलाई थी, लेकिन वह मीर सिंह को नहीं लगी थी। बाद में वह उसके शव को खान में छोड़कर दीपक के साथ फरार हो गए थे।
चाचा की हत्या का बदला लेने के लिए की हत्या
आरोपी शांतनु ने पुलिस को बताया कि करीब पांच साल पहले उसके चाचा सुरेंद्र की हत्या की गई थी। उसके चाचा की हत्या का आरोप कुंडली निवासी बिजेंद्र उर्फ बांदरी पर है। इस मामले में शांतनु के परिवार को शक था कि मीर सिंह ने मुखबिरी करके उसके चाचा की हत्या कराई है। उसी का बदला लेने के लिए वारदात को अंजाम दिया गया।
अन्य मामलों में भी शामिल रहा है शांतनु
गिरफ्तार आरोपी शांतनु इससे पहले अवैध हथियार के दो मामलों में गिरफ्तार किया जा चुका है। साथ ही उसके खिलाफ हत्या प्रयास का एक मामला भी भी दर्ज है, जिसमें वह फरार था।
वर्जन
सेरसा के वीरेंद्र हत्याकांड में पुलिस ने चार आरोपियों को काबू किया है। वारदात में प्रयुक्त दो बाइक भी बरामद कर ली है। आरोपियों को तीन दिन के रिमांड पर लिया है। उनका एक साथी भी जल्द गिरफ्तार किया जाएगा। आरोपियों ने एक अन्य हत्या और लूट की दो वारदात भी कबूलीं हैं।
-इंदीवर, सीआईए स्टाफ प्रभारी।
फोटो : 05 : सोनीपत की सीआईए पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए आरोपी पुलिस टीम के साथ।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us