विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

हरियाणाः रेवाड़ी में दो बच्चों को लेकर नहर में कूदी पुलिसकर्मी की पत्नी, महिला-बेटे का शव मिला

हरियाणा से बड़ी खबर आ रही है। रेवाड़ी में एक पुलिसवाले की पत्नी अपने दो बच्चों को लेकर नहर में कूद गई।

21 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

सोनीपत

बुधवार, 21 अगस्त 2019

देवडू के पास युवक की हत्या कर शव फेंका, पहचान छिपाने को चेहरा कुचला

सोनीपत। गांव देवडू के खेत में एक युवक का शव मिला है। पहचान छिपाने के लिए व्यक्ति का चेहरा बुरी तरह से कुचला गया है। सूचना के बाद पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर आसपास के लोगों से पूछताछ की, लेकिन शव की शनाख्त नहीं हो सकी। जिस पर पुलिस ने शव को सामान्य अस्पताल में रखवा दिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। अज्ञात के खिलाफ हत्या व शव को खुर्द-बुर्द करने का मामला दर्ज कर लिया है।
गांव देवडू निवासी ताहिर हुसैन ने सदर थाना पुलिस को बताया कि उसने गांव के पास बाइपास पर तीन एकड़ जमीन पट्टे पर ले रखी है। वह शनिवार सुबह खेत की तरफ गया तो उनके ट्यूबवेल के पास खेत में एक युवक का शव पड़ा मिला। उसने मामले की जानकारी ग्रामीणों को दी। साथ ही पुलिस को सूचित किया गया। सूचना के बाद सदर थाना प्रभारी रमेशचंद्र अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे और शव को कब्जे में ले लिया। पुलिस ने आसपास के लोगों से पूछताछ की, लेकिन शव की पहचान नहीं हो सकी। व्यक्ति के पास से भी पहचान का कोई सबूत नहीं मिला। व्यक्ति के चेहरे को बुरी तरह से कुचला गया था। जिससे उसकी पहचान नहीं हो पाई। पुलिस के अनुसार व्यक्ति की उम्र करीब 35 वर्ष है। वह आसमानी रंग की कमीज पहने है। जिस पर ब्लयू बर्ड का टैग लगा है। साथ ही ग्रे कलर की पैंट पहने हुए है। पुलिस ने शव की पहचान का प्रयास शुरू कर दिया है।
व्यक्ति की जेब से मिले 90 रुपये
पुलिस ने व्यक्ति के कपड़ों क तलाशी ली तो उसके पास से 90 रुपये भी मिले हैं। पुलिस का कहना है कि इससे लगता है कि लूट के इरादे से व्यक्ति की हत्या नहीं की गई है। साथ ही यह भी पता लगाया जा रहा है कि हत्या किसी अन्य स्थान पर करने के बाद उसके शव को यहां फेंका तो नहीं गया है।
आसपास के गांवों से सरपंच बुलाकर की गई पहचान की कोशिश
पुलिस ने आसपास के गांवों के सरपंच व अन्य ग्रामीणों को बुलाकर शव की पहचान की कोशिश की है। कई गांवों के सरपंच व अन्य ग्रामीण मौके पर तथा बाद में अस्पताल में भी पहुंचे, लेकिन पहचान नहीं हो सकी।
व्यक्ति की हत्या कर पहचान छिपाने के लिए चेहरा कुचला गया है। अज्ञात के खिलाफ हत्या व शव को खुर्द-बुर्द करने का मामला दर्ज कर लिया गया है। पुलिस मामले की सभी पहलुओं से जांच कर रही है। शनाख्त के बाद जल्द हमलावरों का पता लगाकर काबू किया जाएगा।
रमेशचंद्र, थाना प्रभारी, सदर सोनीपत। ... और पढ़ें

चौकी के गेट पर हवलदार से हाथापाई, वर्दी भी फाड़ी

गोहाना। शहर की कोर्ट कॉम्पलेक्स चौकी के गेट पर एक व्यक्ति ने हवलदार से हाथापाई कर उनकी वर्दी फाड़ दी। साथ ही सरकारी काम में बाधा पहुुंचाई। आरोपी अपनी पत्नी द्वारा पड़ोसियों के खिलाफ दी गई तांत्रिक क्रिया की शिकायत पर पुलिस की कार्रवाई के बारे में पता करने आया था। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।
कोर्ट कॉम्पलेक्स चौकी में नियुक्त हवलदार विजयेश्वर ने बताया कि उनके पास 5 अगस्त को गोहाना की कृष्णा कॉलोनी निवासी कविता ने पड़ोसियों के खिलाफ तांत्रिक क्रिया करने की शिकायत दी थी। जिसके बाद उसने 11 अगस्त को दोनों पक्षों को चौकी में बुलाया था और पूछताछ की थी। कविता तांत्रिक क्रिया करने के आरोप लगा रही थी जबकि दूसरा पक्ष ऐसा करने से मना कर रहा था। दोनों ही पक्ष बातचीत के बाद अपने घर चले गए। विजयश्वर ने बताया कि शुक्रवार को वह सिपाही सोमदत के साथ गढ़ी उजाले खां जाने के लिए बाइक निकाल रहा था। इसी दौरान कविता का पति मुकेश वहां पर आया और उसने कहा कि उसकी पत्नी की शिकायत पर अब तक क्या कार्रवाई हुई है। विजयश्वर के अनुसार उसने मुकेश को कहा कि दोनों पक्षों की बात सुनी गई है वह इस मामले की जांच कर रहे हैं। जिस पर मुकेश भड़क गया और हाथापाई करने लगा। मुकेश ने उसकी वर्दी फाड़ दी। साथ ही मामले में जांच करने से जाने से रोक दिया। सरकारी काम में भी बांधा डाली। विजयश्वर ने इसकी शिकायत डीएसपी को दी। जिसके बाद पुलिस ने मुकेश के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है। ... और पढ़ें

एचटी लाइन का तार टूटकर ओएचई पर गिरा, दो घंटे तक ठप रहा रेलवे ट्रैक, शहर की कई कालोनियों में बत्ती गुल

सोनीपत। शहर के मोहन नगर के पास शनिवार सुबह एचटी लाइन का तार टूटकर ओएचई पर गिर गया। ओएचई लाइन के टूटने के बाद करीब दो घंटे तक रेल ट्रैक बाधित रहा। दिल्ली की तरफ जाने वाले ट्रेनों को अलग-अलग स्टेशनों पर रोक दिया गया। ट्रेनें नहीं चलने से दैनिक यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। उन्हें रोडवेज बसों और निजी वाहनों में सफर करने को मजबूर होने पड़ा। सूचना के बाद मौके पर पहुंचे रेलवे अधिकारियों व कर्मचारियों ने दो घंटे बाद ओएचई जोड़कर ट्रैक को बहाल किया गया।
फाजिलपुर पॉवर हाउस से 33 केवी सूरज स्टील सब स्टेशन पर बिजली सप्लाई होती है। फाजिलपुर पॉवर हाउस की एचटी लाइन दिल्ली-अंबाला रेलवे ट्रैक से होकर गुजरती है। शनिवार सुबह करीब 6:30 बजे एचटी लाइन का तार टूटकर ओएचई पर गिर गया। इसके बाद ओएचई टूटने से रेलवे ट्रैक बाधित हो गया। दिल्ली की तरफ जाने वाली ट्रेनों को अलग-अलग स्टेशनों पर रोका दिया गया। ट्रेनें नहीं चलने पर दैनिक यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। सूचना के बाद नरेला से पहुंचे मौके पर कर्मचारियों ने ओएचई को जोड़ने का काम शुरू किया। इस दौरान यात्रियों को रोडवेज बसों व निजी वाहनों में दिल्ली की ओर रवाना होना पड़ा।
सोनीपत से साहिबाबाद जाने वाली पैसेंजर को अपने निर्धारित समय से 2 घंटे 10 मिनट बाद सोनीपत स्टेशन से रवाना किया गया। वहीं पानीपत से गाजियाबाद जाने वाली पैसेंजर को सांदल कलां और सोनीपत के बीच एक घंटे तक रोका गया। पानीपत से पुरानी दिल्ली जाने वाली पैसेंजर को गन्नौर रेलवे स्टेशन पर 1 घंटा 20 मिनट तक रोका गया। कुरुक्षेत्र से हजरत निजामुद्दीन जाने वाली पैसेंजर को दीवाना रेलवे स्टेशन पर 30 मिनट तक रोका गया। कुरुक्षेत्र से पुरानी दिल्ली जाने वाले पैसेंजर को भोड़वाल माजरी स्टेशन पर 20 मिनट के लिए रोका गया। झेलम एक्सप्रेस को एक घंटे के लिए पानीपत स्टेशन पर रोका गया, जिसके चलते दिल्ली की ओर जाने वाले यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। डाउन ट्रैक शनिवार सुबह करीब 8:30 बजे दुरुस्त हो पाया।
सूरज स्टील सब स्टेशन की लाइन को मिनी सचिवालय की एचटी लाइन से जोड़ा
सूरज स्टील सब स्टेशन में जाने वाली एचटी लाइन को मिनी सचिवालय की एचटी लाइन से जोड़ा गया। करीब डेढ़ घंटे बाद मंडी क्षेत्र की कॉलोनियों में रहने वाले लोगों को राहत मिल सकी। सूरज स्टील सब स्टेशन की एचटी लाइन को जोड़ने के लिए रेलवे की ओर से अभी तक परमिशन नहीं मिली है। परमिशन मिलने के बाद बिजली निगम की ओर से एचटी लाइन को जोड़ा जाएगा। रेलवे ट्रैक के चालू होने के बाद रेलवे और बिजली निगम के अधिकारियों द्वारा कागजी कार्रवाई भी की गई।
मोहन नगर के पास शनिवार सुबह एचटी लाइन टूटने से ओएचई टूट गई थी। जिस कारण अप और डाउन ट्रैक बाधित रहा। ओएचई तार टूटने के कारण सभी पैसेंजर व एक्सप्रेस ट्रेनों को यथास्थान रोकना पड़ा।
-गजेंद्र सिंह, स्टेशन अधीक्षक
फाजिलपुर पॉवर हाउस से 33 केवी सूरज स्टील सब स्टेशन को जोड़ रखा है। मोहन नगर के पास एचटी लाइन का तार टूटकर ओएचई पर गिर गया, जिसके चलते रेलवे ट्रैक और मंडी क्षेत्र की कॉलोनियों में बिजली गुल हो गई। मिनी सचिवालय की एचटी लाइन से सूरज स्टील सब स्टेशन को जोड़कर मंडी क्षेत्र में सप्लाई शुरू कर दी है।
जेसी शर्मा, एक्सईएन बिजली निगम ... और पढ़ें

सरेआम युवक की चाकू व सुएं से गोदकर हत्या करने वाले दो दोषियों को उम्रकैद

सोनीपत। अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश अश्विनी कुमार की अदालत ने युवक की सरेआम की गई हत्या के मामले में सुनवाई करते हुए दो दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है। दोनों दोषियों पर दस-दस हजार रुपये जुर्माना किया गया है। जुर्माना न देने पर छह माह अतिरिक्त कैद की सजा भुगतनी होगी।
विदित रहे कि वेस्ट रामनगर निवासी सुमन ने 25 मई, 2017 को पुलिस को बताया था कि उसका पति अजय उर्फ गज्जक बाइक पर सवार होकर सूरी पेट्रोल पंप वाली गली से गुजर रहा था। इसी दौरान हमलावरों ने उसे रोककर चाकू व सुएं से हमला कर उसकी हत्या कर दी। महिला ने बताया था उसके पति की हत्या होने से पहले वेस्ट रामनगर निवासी सागर, विशाल नगर निवासी सचिन उर्फ पलटू व एक अन्य उसके पति को घर पूछने के लिए आए थे। उन्होंने ही उसके पति की हत्या की है। पुलिस ने उनके खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया था। परिजनों ने बताया था कि चार साल पहले वेस्ट रामनगर निवासी सागर के भाई नान्हू उर्फ राजा की हत्या की गई थी। उसे भी गली में ही तेजधार से काटकर मौत के घाट उतारा गया था। मामले में सागर के पिता ओमप्रकाश के बयान पर अजय व अन्य के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया था। मामले में अजय व उसका साथी छह माह पहले ही बरी होकर जेल से आए थे। अब अजय की सरेराह हत्या कर दी गई। पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए 26 मई, 2017 को आरोपी सागर व सचिन को गिरफ्तार कर लिया था। दोनों को अदालत में पेश कर जेल भेज दिया गया था। मामले में लंबी सुनवाई के बाद मंगलवार को एएसजे अश्विनी कुमार की अदालत ने सागर व सचिन को दोषी करार दिया है। दोनों दोषियों को आईपीसी की धारा 302 व 34 में उम्रकैद व दस-दस हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है। ... और पढ़ें

चौकी के पास से गाड़ी लूटने के दोषी को तीन साल कैद की सजा

सोनीपत। जिला एवं सत्र न्यायाधीश वाईएस राठौर की अदालत ने बहालगढ़ चौकी के पास से ढाबा मालिक को गन प्वाइंट पर लेकर उनकी गाड़ी लूटने के आरोपी को दोषी करार दिया है। दोषी को तीन साल कैद व पांच हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है। जुर्माना न देने पर तीन माह अतिरिक्त कैद की सजा भुगतनी होगी।
विदित रहे कि गांव खेवड़ा निवासी सोनू ने 2 जनवरी को बहालगढ़ चौकी में शिकायत दी थी कि वह गांव में ढाबा चलाता है। वह रात को गांव से बहालगढ़ सब्जी खरीदने आया था। वह अपनी ब्रेजा गाड़ी में था। जब वह खरीददारी के लिए गाड़ी के पास खड़ा था तो एक युवक ने उसे गन प्वाइंट पर लेकर उसकी गाड़ी छीन ली थी। गाड़ी में उसका मोबाइल व 42 हजार रुपये की नकदी थी। जिस पर पुलिस को अवगत कराया था। पुलिस ने लूट का मुकदमा दर्ज कर वीटी कर दी थी। साथ ही सोनू ने पुलिस को बताया था कि उसकी उसकी गाड़ी में जीपीएस सिस्टम है। जिसकी मदद से राई थाना प्रभारी कुलदीप देशवाल की टीम ने बदमाश का पीछा करना शुरू कर दिया था। साथ ही मामले से तत्कालीन सीआईए प्रभारी इंदीवर व सदर थाना प्रभारी रमेश चंद्र को अवगत कराया था। वह भी बदमाश के पीछे लग गए थे। रोहतक के गांव सांघी के पास पहुंचने पर पुलिस ने गाड़ी पर फायरिंग कर दी थी। गोली गाड़ी में लगने के बाद आरोपी गाड़ी से उतरकर भाग निकला था। जिस पर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था। उसकी पहचान गांव सांघी निवासी सूरज के रूप में हुई थी। पुलिस ने उससे 37 हजार 400 रुपये बरामद किए थे। बाद में उसे अदालत में पेश कर जेल भेज दिया था। मामले में सुनवाई करते हुए सेशन जज वाईएस राठौर की अदालत ने साढ़े सात माह में सुनवाई पूरी कर सूरज को दोषी करार दिया है। उसे तीन साल कैद व पांच हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई गई है। ... और पढ़ें

ड्यूटी पर जाने के लिए निकला व्यक्ति बेसुराग, परिजनों ने जताई अपहरण की आशंका

सोनीपत। गांव जाजी में इंडो एशियन कंपनी का सुरक्षा गार्ड ड्यूटी करने के लिए घर से निकला था जोकि संदिग्ध अवस्था में लापता हो गया। परिजनों ने उसकी तलाश की, लेकिन कोई सुराग नहीं लग सका। मोहाना थाना पुलिस ने अज्ञात पर बंधक बनाकर रखने का मामला दर्ज कर लिया है। मामले में व्यक्ति के परिजनों ने एसपी से मिलकर कार्रवाई की मांग की। जिस पर एसपी ने मामले की जांच सीआईए-2 को सौंप दी है। वहीं गांव जाजी के पास लापता कर्मी की एक चप्पल और खून के धब्बे मिलने से परिजन घबराए हुए हैं।
गांव जाजी निवासी सुमन ने बताया कि उसका पति सुरेंद्र 11 अगस्त को घर से मुरथल की इंडो एशियन कंपनी में सुरक्षा गार्ड की ड्यूटी करने के लिए गया था। वह रात को 10 बजे तक घर आ जाते थे। उसने नौ बजे अपने पति को फोन किया था तो उन्होंने सोनीपत में होने की बात कही थी। जब वह रात साढ़े 10 बजे तक घर नहीं आए तो उसने फोन किया था। जिस पर फोन किसी अन्य ने उठाया था और फिर काट दिया था। उसके बाद बात नहीं हो सकी थी। सुमन ने बताया कि वह रातभर तलाश करने के बाद सुरेंद्र का कोई सुराग नहीं लगा था। 12 अगस्त को उनके घर से करीब 700 मीटर दूर उसके पति की एक चप्पल मिली थी। साथ ही वहां खून भी बिखरा था। राहगीरों ने उसे बताया था कि रात को कार खड़ी थी। उसके बाद उसने पुलिस को शिकायत दी। पुलिस ने महिला के बयान पर अज्ञात के खिलाफ सुरेंद्र को बंधक बनाकर रखने का मामला दर्ज कर लिया था। मोहाना पुलिस सुरेंद्र का सुराग नहीं लगा सकी। जिस पर सोमवार को सुमन व अन्य परिजनों ने एसपी से मुलाकात की। उन्होंने सुरेंद्र का अपहरण करने का आरोप लगाया है। जिस पर एसपी ने मामले की जांच सीआईए-2 को सौंपने का आश्वासन दिया। सुमन ने उसके पति की जल्द तलाश कराने की मांग की है। ... और पढ़ें

आईपीएस विजय ढुल ने वर्ल्ड पुलिस गेम्स में जीता कांस्य पदक

राई (सोनीपत)। गांव रसोई के रहने वाले आईपीएस विजय ढुल ने चीन में हुए 18वें वर्ल्ड पुलिस गेम्स में डिस्कस थ्रो में कांस्य पदक जीता। विजय ढुल के कांस्य पदक जीतने पर गांव और परिजनों में खुशी की लहर है।
आईपीएस विजय ढुल के चाचा रणबीर ने बताया कि विजय की शुरूआती पढ़ाई गांव के ही मोतीलाल नेहरू खेलकूद विद्यालय में हुई है। 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद उन्होंने दिल्ली के सेंट स्टीफन कॉलेज से स्नातक की शिक्षा ग्रहण की। इसके बाद विजय ढुल ने 2012 में यूपीएससी की परीक्षा पास कर आईपीएस चुने गए। उन्होंने बताया कि फिलहाल विजय ढुल वर्तमान में लखनऊ में पुलिस अधीक्षक के पद पर तैनात हैं, इससे पहले वह मेरठ, नोएडा व बस्ती में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं। विजय ने मर्चेंट नेवी में भी अपनी सेवाएं दी हैं। रणबीर सिंह ने बताया कि विजय ढुल के गांव पहुंचने पर स्वागत किया जाएगा। ... और पढ़ें

यमुना में पानी का 9 साल का रिकार्ड टूटा, 200 एकड़ फसल डूबी, टोकी व गढ़ी असदपुर गांव खाली कराए

सोनीपत। हथिनीकुंड बैराज से छोड़ा गया 8.28 लाख क्यूसेक पानी सोनीपत में पहुंच गया है और इस कारण स्थिति बिगड़ती दिख रही है। जहां सोमवार शाम तक यमुना के तटबंध के अंदर लगभग 200 एकड़ की फसल पानी में डूब गई और यमुना के तटबंधों से मिलकर पानी चलने से कई जगहों पर मिट्टी का कटाव भी शुरू हो गया है। जिसको देखते हुए प्रशासन ने टोकी व गढ़ी असदपुर गांव को खाली करा लिया है और उनको गांव के सुरक्षित हिस्से पर रखा गया है। वहीं यमुना में पानी छोड़े जाने का 9 साल का रिकार्ड टूट गया है, क्योंकि पिछली बार वर्ष 2010 में 7.44 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया था। प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों ने टोकी गांव में कैंप शुरू कर दिया है तो डीसी ने अधिकारियों के साथ यमुना किनारे के गांवों का निरीक्षण किया। अधिकारियों ने यमुना में छोड़े गए पानी को सोनीपत से आगे नहीं निकलने तक हाईअलर्ट जारी रखने की बात कही है।
यमुना में पिछले कई दिनों से हथिनीकुंड बैराज से लगातार पानी छोड़ा जा रहा था। लेकिन वह पानी एक लाख क्यूसेक से कम होने के कारण यमुना किनारे बसे गांवों के लिए परेशानी पैदा करने वाला नहीं था। हथिनीकुंड बैराज से शनिवार रात से रविवार दोपहर तक लगभग 8.28 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया, जो पिछले 9 साल में छोड़े गए पानी में सबसे ज्यादा है। यह पानी सोमवार देर शाम को सोनीपत में पहुंच गया, जिससे यमुना के अंदर की लगभग 200 एकड़ फसल डूब गई। इसके साथ ही हरियाणा-यूपी पुल के पास पानी सोमवार शाम तक 215 मीटर के निशान से ऊपर चल रहा था और यह मंगलवार सुबह को काफी ऊपर पहुंच जाएगा। जिससे यमुना किनारे के लगभग 15 गांवों में बाढ़ का खतरा है। जिनमें गढ़ी असदपुर, मनौली, टोकी, बड़ौली, बेगा, पीरगढ़ी, गढ़ी बिलंदा, ग्यासपुर, पबनेरा, चंदौली, टिकौला आदि शामिल हैं। इसको देखते हुए ही डीसी डॉ. अंशज सिंह, एसडीएम विजय सिंह, डीआरओ ब्रह्मप्रकाश अहलावत समेत अन्य अधिकारियों ने यमुना किनारे के गांवों में दौरा किया और वहां लोगों से बातचीत की गई। वहां लोगों से बताया गया कि वह वह यमुना के पास जाने से बचें, क्योंकि यमुना का जलस्तर काफी ऊपर चल रहा है। अधिकारियों का मानना है कि जबतक यह पानी सोनीपत से आगे नहीं निकल जाता है, उस समय तक स्थिति पर नजर रखना जरूरी है। क्योंकि पानी ज्यादा होने के कारण बाढ़ का खतरा बना हुआ है। इसके साथ ही अभी तक जहां यमुना के अंदर ही फसल डूबी है, वहीं पानी तटबंध के ऊपर से उतरकर बाहर के खेतों में आ सकता है। उससे भी सैकड़ों एकड़ फसल डूबने का खतरा बना हुआ है।
टोकी और गढ़ी असदपुर गांव खाली कराए
जिस तरह से यमुना में आठ लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है तो उससे टोकी व गढ़ी असदपुर गांव के लोगों के लिए खतरा बना हुआ है। इस कारण ही सोमवार को डीसी डॉ. अंशज सिंह अपने साथ प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों को लेकर गांव में पहुंचे। जहां लोगों को बताया गया कि यमुना में पानी काफी उफान पर आया हुआ है और उनके लिए खतरा पैदा हो सकता है। इस कारण ही उनको गांव खाली करके सुरक्षित स्थान पर रहना चाहिए। ग्रामीणों ने शुरू में गांव खाली नहीं करने के लिए कहा, लेकिन उनको समझाया गया तो वह तैयार हो गए। जिसके बाद टोकी व गढ़ी असदपुर गांवों को खाली कराया गया। इसके अलावा बिजली के उपकरण व कनेक्शन भी हटवा दिए गए हैं।
200 एकड़ फसल डूबी, पानी बाहर आते ही बड़ा नुकसान
यमुना में उफान की वजह से तटबंध के अंदर की लगभग 200 एकड़ फसल अभी तक डूब चुकी है। इसके साथ ही पानी बाहर आता है तो आसपास के खेतों में फसल का बड़ा नुकसान होने का खतरा है। इसका सबसे बड़ा कारण है कि कई जगह पर ठोकरें नहीं होने के कारण यमुना का पानी खेतों में चला जाता है और उससे काफी फसल बर्बाद हो जाती हैं। पिछले साल भी इस तरह ही फसल बर्बाद हुई थी और इस बार भी पानी तटबंध तक पहुंच गया है और वह बढ़ते ही खेतों में पहुंच जाएगा।
डीसी ने गांवों में पहुंचकर की यमुना पर नहीं जाने की अपील
प्रशासन ने लोगों के यमुना किनारे जाने पर रोक लगा दी है। प्रशासन का मानना है कि यमुना में पानी के तेज बहाव के कारण किनारों से मिट्टी का कटाव होगा और ऐसे में कोई यमुना के किनारे वहां देखने भी जाता है तो मिट्टी गिरने से हादसा हो सकता है। डीसी डॉ. अंशज सिंह ने इसके लिए ही सोमवार को कई गांवों का निरीक्षण किया और ग्रामीणों से बात करके यमुना की ओर नहीं जाने की सलाह दी गई है। इसके लिए यमुना के बांधों पर कर्मियों की ड्यूटी भी लगा दी गई है, जिससे लोगों को यमुना किनारे जाने से रोका जा सके। इसके साथ ही जिन गांवों में ज्यादा खतरा है, वह प्रशासनिक अधिकारी कैंप करने लगे हैं।
एक लाख कट्टों को मिट्टी से भरकर रखवाया
सिंचाई विभाग के अधीक्षक अभियंता राजीव बत्रा ने बताया कि नदियों में जल स्तर लगातार बढ़ा है जो पिछले सालों का रिकार्ड तोड़ रहा है। इसलिए किसी भी आपात स्थिति से निपटने को विभाग तैयार है। सिंचाई विभाग ने यमुना में बढ़ते पानी को देखते हुए तैयारियां पूरी की हुई है। सिंचाई विभाग ने एक लाख मिट्टी के कट्टे भर कर रिजर्व में रखे है, जिससे आपात स्थिति में इनका प्रयोग किया जा सके। इसके अलावा किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं हो, उसके लिए सभी अधिकारी घाटों पर नजर रख रहे हैं।
भाजपा नेताओं ने गांवों का दौरा किया
भाजपा के व्यापारी कल्याण बोर्ड के सदस्य मोहनलाल बडौली ने यमुना नदी में बढ़ते जलस्तर को लेकर टिकोला गांव में यमुना बांध पर निरीक्षण किया, जहां लोगों से बातचीत की गई। इसके बाद वह टिकौला, जैनपुर, मिमारपुर, मेहंदीपुर, बडौली में पहुंचे। वहां भी लोगों से बातचीत की गई और उनको बताया कि प्रशासन की ओर से सभी प्रबंध किए गए हैं। किसी को कोई परेशानी नहीं होने दी जाएगी। इसके अलावा मार्केटिंग बोर्ड की चेयरपर्सन कृष्णा गहलावत मनौली टोकी समेत अन्य कई गांवों में पहुंची और लोगों से बातचीत कर उनको हर तरह से मदद की बात कही गई।
हथिनीकुंड बैराज से छोड़ा गया पानी यहां पहुंचने के कारण यमुना का जलस्तर काफी बढ़ गया है। इसको लेकर यमुना किनारे के गांवों का दौरा किया गया और टोकी व गढ़ी असदपुर गांव को खाली करा दिया गया है। यमुना किनारों पर टीमों को लगाया गया है तो कई गांवों में अधिकारी कैंप कर रहे है। हर जगह ठीकरी पहरा लगाने के लिए कहा गया है और ग्रामीणों को सतर्कता बरतने के लिए कहा गया है। प्रशासन की ओर से गांवों में पूरा ध्यान रखा जा रहा है। डॉ. अंशज सिंह, डीसी
 यमुना तटबंध के अंदर गढ़मिर्कपुर के पास डूबी फसल
यमुना तटबंध के अंदर गढ़मिर्कपुर के पास डूबी फसल- फोटो : Sonipat
यमुना के अंदर किसान की बनाई गई झोपड़ी डूबी व ट्यूब के सहारे बाहर आता युवक
यमुना के अंदर किसान की बनाई गई झोपड़ी डूबी व ट्यूब के सहारे बाहर आता युवक- फोटो : Sonipat
... और पढ़ें

एशियन गेम्स में ब्रांज मेडल वाले को अर्जुन अवॉर्ड, मुझे सिल्वर मेडल और ओलंपिक खेलने पर भी नहीं, कोर्ट जाऊंगी : दीपिका

टोकी गांव को खाली करने के लिए बुग्गी में सामान व बच्चों को लेकर जाते ग्रामीण
अंकित चौहान
सोनीपत। जहां पिछले साल पहलवान बजरंग पूनिया को खेलरत्न नहीं दिए जाने के बाद अवॉर्ड कमेटी पर खूब आरोप लगे थे। वहीं इस बार अर्जुन अवॉर्ड को लेकर विवाद खड़ा हो गया है और भारतीय महिला हॉकी टीम की पूर्व कप्तान दीपिका ठाकुर ने अवॉर्ड कमेटी पर भेदभाव का आरोप लगाया है। दीपिका ठाकुर ने सवाल उठाया है कि एशियन गेम्स में ब्रांज मेडल जीतने वाली हॉकी टीम के खिलाड़ी को अर्जुन अवॉर्ड दिया गया है तो उसे सिल्वर मेडल जीतने के साथ ओलंपिक तक खेलने पर क्यों नहीं मिला। इसके साथ ही खेल मंत्रालय के नियम के अनुसार किसी भी टीम इवेंट में एक को अवॉर्ड नहीं मिल सकता है और महिला व पुरुष दोनों को मिलना चाहिए। अपने पूरे रिकार्ड व नियमों के साथ दीपिका ने मंत्रालय में शिकायत दर्ज कराई है और वहां से न्याय नहीं मिलने पर कोर्ट जाने की चेतावनी दी है।
अर्जुन अवॉर्ड के लिए भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रहीं दीपिका ठाकुर ने भी आवेदन किया हुआ था। लेकिन हॉकी में पुरुष टीम के चिंगलेनसाना को अर्जुन अवॉर्ड दिया गया है और दीपिका ठाकुर के आवेदन को नकार दिया गया है। जिसपर दीपिका ठाकुर ने नाराजगी जताते हुए अवॉर्ड कमेटी पर भेदभाव का आरोप लगाया है। दीपिका ने कहा कि वह देश के लिए 250 मैच खेल चुकी हैं और लंबे समय तक भारतीय महिला हॉकी टीम की उप कप्तान रही हैं तो वह कई बार कप्तान भी रही हैं। भारतीय महिला हॉकी टीम ने एशियन गेम्स 2018 में सिल्वर मेडल तो 2014 में ब्रांज मेडल जीता है और वह दोनों बार टीम में खेलते हुए अहम भूमिका निभाई है। वह रियो ओलंपिक में टीम के लिए खेलीं थीं तो उसे 2015 में बेस्ट प्लेयर व 2014 में बेस्ट डिफेंडर का अवॉर्ड मिल चुका है। इनके अलावा भी वह वर्ल्ड कप, कॉमनवेल्थ गेम्स, एशिया कप, एशियन चैंपियन ट्राफी आदि में खेल चुकी है और इस समय भी टीम के लिए खेल रही है। इन सभी उपलब्धियों को लेकर उसने अर्जुन अवॉर्ड के लिए आवेदन किया था। लेकिन एशियन गेम्स 2018 में ब्रांज मेडल जीतने वाली पुरुष टीम के चिंगलेनसाना को अवॉर्ड दिया गया। उसका आरोप है कि चिंगलेनसाना को उत्तर पूर्व का होने के कारण अवॉर्ड दिया गया है। उसने अपनी उपलब्धियों को लेकर मंत्रालय में शिकायत भेजी है।
खेल मंत्रालय के नियमानुसार दो अवॉर्ड मिलने चाहिए, कोर्ट भी जाऊंगी
भारतीय महिला हॉकी टीम की पूर्व कप्तान दीपिका ठाकुर ने कहा कि खेल मंत्रालय के नियम में साफ लिखा हुआ है कि किसी भी टीम इवेंट में एक को अवॉर्ड नहीं दिया जा सकता है। टीम इवेंट में महिला व पुरुष दोनों को अवॉर्ड दिया जाना चाहिए। केवल एक को उस परिस्थिति में अवॉर्ड मिल सकता है, जब महिला या पुरुष में किसी का आवेदन नहीं आया हो। इस तरह भी अवॉॅर्ड देने में नियमों की अनदेखी की गई है और मंत्रालय न्याय नहीं मिलने पर दीपिका ने कोर्ट में मामला लेकर जाने की चेतावनी दी है, जिसमें खेल मंत्रालय का नियम व अपनी उपलब्धियों को रखा जाएगा। ... और पढ़ें

लेक्चरर पत्नी की हत्या का आरोपी एसडीओ गिरफ्तार

सोनीपत। शहर की आनंद कालोनी में लेक्चरर पत्नी की फंदे पर लटकाकर हत्या करने के आरोप में बिजली निगम के एसडीओ अश्वनी धनखड़ को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में उसने कहा है कि वह करनाल गया था, लौटकर आने पर पत्नी के फंदे पर लटकने की सूचना मिली थी। पुलिस गिरफ्तार आरोपी को सोमवार को अदालत में पेश करेगी। हत्या के मामले में एसडीओ समेत छह लोगों के खिलाफ हत्या, दहेज प्रताड़ना व षड्यंत्र का मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस मामले में अभी भी बिसरा रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।
विदित रहे कि ओल्ड डीसी रोड स्थित आनंद कालोनी में रहने वाले बिजली निगम के एसडीओ अश्विनी धनखड़ की पत्नी सुमन (32) का शव शुक्रवार रात को फंदे पर लटका मिला था। सुमन खरखौदा के स्कूल में गणित की लेक्चरर थी। जींद के गांव पांडू पिंडारा निवासी सुमन के पिता रिटायर्ड तहसीलदार जयवीर सिंह ने उसकी बेटी की हत्या का केस दर्ज कराया था। उन्होंने पुलिस को बताया था कि बेटी की आठ साल पहले शादी करने के बाद से ही उसे दहेज के लिए प्रताड़ित किया जा रहा था। सुमन के बताने पर ससुराल पक्ष को कई बार समझाया भी था मगर वह नहीं माने थे। उनकी बेटी को अक्सर काले रंग को लेकर ताने भी दिए जाते थे। उसका पति उसे तलाक ले लेने को कहता था। ताकि वह दूसरी शादी कर सके। उसकी बेटी ने पति के किसी अन्य महिला संग संबंधों की जानकारी भी दी थी। बाद में शुक्रवार की रात उन्हें सूचना मिली थी की सुमन ने आत्महत्या कर ली है। उसकी बेटी के शरीर पर चोट के निशान भी थे। पुलिस ने मामले में अश्विनी समेत छह के खिलाफ हत्या व अन्य धाराओं में मामला दर्ज कर लिया था।
मामले में कार्रवाई करते हुए एसआई शमशेर सिंह की टीम ने आरोपी एसडीओ अश्विनी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस उसे सोमवार को अदालत में पेश करेगी। पुलिस का कहना है कि शुरुआती पूछताछ में आरोपी ने खुद को करनाल में होने की बात कही है। उसका कहना है कि उसे बाद में पत्नी के आत्महत्या करने की सूचना मिली थी। पुलिस मामले में अभी बिसरा रिपोर्ट व पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। जिससे मौत के असल कारणों से पर्दा उठ सके। पुलिस का कहना है कि जांच के बाद ही मामले की सच्चाई को सामने लाया जाएगा।
वर्जन
लेक्चरर पत्नी की हत्या के आरोपी एसडीओ को गिरफ्तार कर लिया है। उसे सोमवार को अदालत में पेश किया जाएगा। शुरुआती पूछताछ में आरोपी ने करनाल में होने की बात कही है। मामले में बिसरा रिपोर्ट का भी इंतजार है। जिससे मौत के असल कारणों का पता लग सकेगा।
शमशेर सिंह, जांच अधिकारी, सिविल लाइन थाना। ... और पढ़ें

मोहिनी ने वर्ल्ड पुलिस गेम में जीता सिल्वर मेडल

गोहाना। चीन में 8 से 18 अगस्त तक आयोजित हुए वर्ल्ड पुलिस गेम्स में गांव शामड़ी की रहने वाली महिला पहलवान मोहिनी जांगड़ा ने कुश्ती में सिल्वर मेडल जीता। मेडल जीतने के बाद खिलाड़ी ने अपने परिजनों से बातचीत की। परिजनों के साथ पूरे गांव में खुशी का माहौल है।
गांव शामड़ी की रहने वाली मोहिनी जांगड़ा का वर्ष 2015 में हरियाणा पुलिस में सेलेक्शन हुआ था। पुलिस में भर्ती होने के बाद भी मोहिनी पुलिस एकेडमी में कुश्ती का अभ्यास करती रही। जिसके चलते चाइना में 8 से 18 अगस्त तक आयोजित हुए वर्ल्ड पुलिस गेम में मोहिनी ने 72 किलोग्राम में सिल्वर मेडल जीता, जबकि फरवरी 2019 में जयपुर में आयोजित हुई ऑल इंडिया पुलिस प्रतियोगिता में इसी भार वर्ग में मोहिनी ने स्वर्ण पदक जीता था। ... और पढ़ें

मुरथल विवि को मिला रोबोटिक्स के क्षेत्र में प्रदेश का पहला इंक्यूबेशन सेंटर

सोनीपत। दीनबंधु छोटूराम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विवि मुरथल अब रोबोटिक्स के क्षेत्र में उद्यमी बनने वाले युवाओं को प्रशिक्षण देगा। इसके साथ ही साथ जो युवा रोबोटिक्स के क्षेत्र में स्टार्ट अप प्रारंभ करना चाहते हैं, उनको सहयोग देने का कार्य भी किया जाएगा। प्रदेश के युवाओं को रोबोटिक्स के क्षेत्र में उद्यमी बनाने में मुरथल विवि अहम भूमिका निभाएगा। मुरथल विवि को रोबोटिक्स के क्षेत्र में प्रदेश का पहला इंक्यूबेशन सेंटर मिला है।
प्रदेश के तकनीकी शिक्षा विभाग ने इंक्यूबेशन सेंटर के लिए विश्वविद्यालयों से प्रस्ताव को आमंत्रित किए थे। जिनमें डीसीआरयूएसटी ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और इंटरनेट ऑफ थिंग्स आधारित रोबोटिक्स और ऑटोमेशन के क्षेत्र में इंक्यूबेशन सेंटर स्थापित करने का प्रस्ताव भेजा था। विश्वविद्यालय के इसी प्रस्ताव को राज्य सरकार ने मंजूरी दी है। युवाओं के विचार और अनुसंधान को व्यावसायिक रूप देने में इंक्यूबेशन सेंटर अहम भूमिका अदा करेगा। इंक्यूबेशन सेंटर के माध्यम से प्रबंधन प्रशिक्षण, कार्य स्थल और सलाह प्रदान करके स्टार्टअप कंपनियों की मदद की जाएगी। स्वचालन (ऑटोमेशन), चिकित्सा, रक्षा, परिवहन, उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स, मानव रहित वाहन, संगणना और कृषि के क्षेत्र में उभरती हुई कंपनियों को इंक्यूबेशन सेंटर से लाभान्वित किया जाएगा।
छात्र, संकाय सदस्य, पूर्व छात्र, कंपनियां उठा सकेंगी लाभ : कुलपति
कुलपति प्रो. राजेंद्र कुमार अनायत ने कहा है कि इंक्यूबेशन सेंटर विवि में एक अनूठी सुविधा होगी, जिसमें कंपनियों को दक्ष ,अनुभव, नेटवर्किंग और विस्तार प्रदान करके तैयार किया जाएगा ताकि वे बाजार में लंबे समय तक प्रतिस्पर्धा का सफलतापूर्वक सामना कर सकें। इंक्यूबेशन सेंटर का लाभ विवि के छात्र, संकाय सदस्य, पूर्व छात्र, कंपनियां, उद्योग व समाज के लोग उठा सकेगें। इंक्यूबेशन सेंटर राष्ट्र व प्रदेश के विकास को बढ़ावा देगा। कुलपति ने बताया कि विश्वविद्यालय इन्क्यूबेशन सेंटर को पूर्ण सहयोग प्रदान करेगा। इसके साथ ही साथ स्टार्टअप के लिए एक प्रेरक मंच प्रदान करने के लिए एक्सेस टू मेंटर्स एंड एडवाइजर्स विशेषज्ञों की सहायता भी उपलब्ध करवाएगा। उन्होंने कहा कि केंद्र उद्यमियों और नवोन्मेषकों के बीच विचारों के क्रॉस परागण की सुविधा प्रदान करेगा, जिससे वे ज्ञान, अनुसंधान और प्रगति को साझा कर सकें।
एमएचआरडी और आईआईटी बॉम्बे के सहयोग से बनी है लैब
इंक्यूबेशन सेंटर प्रधान अन्वेषक डॉ. पवन कुमार दहिया ने बताया कि पिछले कुछ वर्षों में विवि ने रोबोटिक्स, ऑटोमेशन, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और इंटरनेट ऑफ द थिंग्स के क्षेत्र में योग्यता हासिल की है। विवि में ई. यंत्र लैब एमएचआरडी और आईआईटी बॉम्बे के सहयोग से स्थापित की गई है। रोबोटिक्स लैब के कारण छात्रों ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आयोजित रोबोटिक्स प्रतियोगिताओं में कई पुरस्कार प्राप्त किए हैं। छात्रों को विवि के रोबोटिक्स सोसाइटी के तहत सांय को शिक्षक समन्वयक और साथ ही वरिष्ठ छात्रों द्वारा रोबोटिक्स पर प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। इंक्यूबेशन सेंटर के साथ छात्रों और पूर्व छात्रों के सपने और विचारों को सफल व्यावसायिक प्रस्तावों में परिवर्तित करने में मदद मिलेगी। इस दौरान रजिस्ट्रार प्रो. अनिल खुराना, शैक्षणिक अधिष्ठाता प्रो. राजकुमार, इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी के अधिष्ठाता प्रो. जेएस सैनी व इसीई अध्यक्ष प्रो. मनोज दूहन ने इंक्यूबेशन सेंटर प्रधान अन्वेशक डॉ.पवन कुमार दहिया के प्रयासों की सराहना की। ... और पढ़ें

यमुना में आठ लाख क्यूसक पानी छोड़ा, 15 गांवों में मुनादी करा हाई अलर्ट, लोगों के किनारे पर जाने को रोक

सोनीपत। पहाड़ों पर लगातार बारिश होने के कारण यमुना में जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। यमुना पर बने हथिनीकुंड बैराज से शनिवार रात से रविवार दोपहर तक 8 लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने से यमुना किनारे गांवों में बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है। बाढ़ की स्थिति देखकर 15 गांवों के लोगों की चिंता भी बढ़ गई है। प्रशासन ने गांवों में मुनादी कराने के साथ ही हाईअलर्ट जारी कर दिया है। लोगों के यमुना किनारे जाने पर रोक लगा दी गई है तो मनौली में बांध के अंदर बने मकानों को खाली कराया है। इसके साथ ही राजस्व विभाग के कर्मियों की ड्यूटी यमुना किनारे लगा दी गई है और ग्रामीणों को ठीकरी पहरा लगाने के लिए कहा गया है।
यमुना में पिछले कई दिनों से हथिनीकुंड बैराज से लगातार पानी छोड़ा जा रहा था। लेकिन वह पानी एक लाख क्यूसेक से कम होने के कारण यमुना किनारे बसे गांवों के लिए परेशानी पैदा करने वाला नहीं था। अब हथिनीकुंड बैराज से शनिवार रात से रविवार दोपहर तक लगभग आठ लाख क्यूसेक पानी छोड़ दिया गया है। यह पानी पहाड़ों पर लगातार बारिश होने के कारण यमुना का जलस्तर खतरे के निशान से काफी ऊपर पहुंचने के कारण छोड़ा गया। जिससे यमुना किनारे के लगभग 15 गांवों में बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है। जिनमें गढ़ी असदपुर, मनौली, बड़ौली, बेगा, पीरगढ़ी, गढ़ी बिलंदा, ग्यासपुर, पबनेरा, चंदौली, टिकौला आदि शामिल हैं। क्योंकि यह पानी सोमवार तक सोनीपत में पहुंच जाएगा और उससे भारी नुकसान होने की आशंका है। अभी तक एक लाख से कम क्यूसेक पानी छोड़े जाने के बावजूद यमुना के अंदर की फसल डूबने लगी थी तो आठ लाख क्यूसेक पानी से हालात काफी खराब हो सकते हैं। इन गांवों में पिछले साल भी यमुना में पानी ज्यादा आने से काफी फसल का नुकसान हुआ था। जहां यमुना के अंदर की पूरी फसल बर्बाद हो गई थी, वहीं आसपास के खेतों में पानी भरने से सब्जी व चारा की फसल भी बर्बाद हो गई थी। हथिनीकुंड बैराज से आठ लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने से प्रशासनिक अधिकारियों की चिंता भी बढ़ गई है और किसी तरह से स्थिति संभालने का प्रयास किया जा रहा है।
हजारों एकड़ फसल बर्बाद होने के कगार पर
यमुना मे उफान की वजह से जिले में हजारों एकड़ फसल बर्बाद होने का खतरा पैदा हो गया है। क्योंकि यमुना में पानी कम होने पर किसान अपनी जमीन में अंदर ही धान, सब्जी व गन्ने के साथ ही पशुओं के चारे की बुआई करते है। ऐसे में पानी आने से सब्जी व धान की फसल पूरी तरह बर्बाद हो जाएगी तो गन्ना भी तेज बहाव के कारण बह सकता है। इसके अलावा यमुना के किनारे के खेतों की फसल भी बर्बाद होने का खतरा है, क्योंकि कई जगह पर ठोकरें नहीं होने के कारण यमुना का पानी खेतों में चला जाता है और उससे काफी फसल बर्बाद हो जाती है। पिछले साल भी इस तरह ही फसल बर्बाद हुई थी।
बेगा में कटान रोकने को ईंटों को कट्टे में भरकर डाला जा रहा
बेगा में हर बार यमुना में पानी ज्यादा आने से मिट्टी का कटाव हो जाता है और यमुना का बहाव गांव की ओर बढ़ जाता है। इस कारण ही ग्रामीणों ने खुद ही ईंट मंगवाई हैं, जिनको कट्टों में भरकर किनारों पर लगाया जा रहा है। जिससे मिट्टी का कटाव नहीं हो सके। ग्रामीणों का आरोप है कि सिंचाई विभाग की ओर से मिट्टी का कटाव रोकने के लिए ठोकरें तक नहीं लगवाई है।
मनौली टोंकी में बांध के अंदर रह रहे लोग निकाले, बिजली काटी
मनौली टोंकी में काफी समय पहले लोगों ने यमुना के बांध के अंदर मकान बना लिए थे और उसके बाद वहां रहना शुरू कर दिया था। इस तरह वहां लगभग 30 परिवार रह रहे हैं। जिस तरह से यमुना में आठ लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है तो उनके लिए भी खतरा हो गया है। इस कारण ही नायब तहसीलदार हवा सिंह ने वहां पहुंचकर उन सभी परिवारों को अपना सामान बांधकर गांव की सुरक्षित जगह पर जाने के लिए कहा है। जिससे अचानक पानी आने से किसी तरह की जान-माल की हानि से बचा जा सके। इसके अलावा यमुना किनारे के ट्यूबवेलों की बिजली कट करने के लिस कहा गया है, जिससे पानी में करंट नहीं आ सके।
यमुना किनारे जाने व धार्मिक क्रियाएं करने पर रोक, बोर्ड भी लगाए
यमुना का जलस्तर जिस तरह से लगातार बढ़ता जा रहा है, उसको देखते हुए प्रशासन ने लोगों के यमुना किनारे जाने पर रोक लगा दी है। इसके साथ ही यमुना किनारे पर जाकर धार्मिक क्रियाएं भी नहीं करने के लिए कहा जा रहा है। क्योंकि प्रशासन का मानना है कि यमुना में पानी के तेज बहाव के कारण किनारों से मिट्टी का कटाव होगा और ऐसे में कोई यमुना के किनारे जाकर धार्मिक क्रियाएं करता है तो मिट्टी गिरने से हादसा हो सकता है। डीसी डॉ. अंशज सिंह ने बताया कि ग्रामीणों से बात करके दिन या रात में यमुना की ओर नहीं जाने की सलाह दी गई है। इसके लिए यमुना के बांधों पर कर्मियों की ड्यूटी भी लगा दी गई है, जिससे लोगों को यमुना किनारे जाने से रोका जा सके। इसके अलावा यमुना के किनारे चेतावनी बोर्ड भी लगाए गए है, जिससे किसी को यमुना के तेज बहाव के बारे में नहीं पता हो तो उसे बोर्ड से पढ़कर पता चल सके।
यमुना के पास वाले गांवों में ग्रामीण लगाएंगे ठीकरी पहरा
हथिनीकुंड बैराज से शनिवार की रात से रविवार दोपहर तक छोड़ा गया आठ लाख क्यूसक से ज्यादा पानी सोमवार तक सोनीपत में पहुंच जाएगा। ऐसे में पानी खेतों व गांव में घुस सकता है। इस कारण ही उसपर नजर रखने व किसी तरह की घटना होने पर बचाव के लिए ग्रामीणों ने ठीकरी पहरा देने का फैसला लिया है। प्रशासनिक अधिकारियों ने बेगा, पबनेरा, गढ़ी असदपुर आदि गांवों में ग्रामीणों से ऐसी स्थिति में सहयोग मांगा। इन गांवों में प्रशासन का सहयोग करते हुए ठीकरी पहरा लगाने की बात कही है।
हथिनीकुंड बैराज से छोड़े गए पानी की वजह से यमुना में जलस्तर बढ़ता जा रहा है, जिसपर पूरी नजर रखी जा रही है। यह पानी सोमवार तक सोनीपत में पहुंचेगा, उसको देखते हुए ही आसपास के गांवों में मुनादी कराकर हाईअलर्ट जारी किया गया है। यमुना की ओर जाने पर रोक लगा दी गई है तो मनौली टोंकी में यमुना के बांध के अंदर मकान बनाकर रह रहे परिवारों को वहां से निकाल दिया गया है। इसके अलावा भी अधिकारी पूरा ध्यान रख रहे है और किसी तरह की परेशानी नहीं होने दी जाएगी। डॉ. अंशज सिंह, डीसी ... और पढ़ें

प्रेम विवाह के तीन माह बाद ही युवती ने फंदा लगाकर दी जान

राई (सोनीपत)। बहालगढ़ की इंद्रा कालोनी में किराए पर रही युवती ने प्रेम विवाह के तीन माह बाद ही कमरे में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। सूचना के बाद पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया। पुलिस ने युवती के भाई के बयान पर कार्रवाई करते हुए शव को परिजनों के हवाले कर दिया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
यूपी के जिला हमीरपुर के गांव सरसई की रहने वाली रोशनी (19) ने 16 मई को जालौन के गांव मोहना निवासी धीरेंद्र के साथ प्रेम विवाह किया था। प्रेम विवाह करने के बाद वह बहालगढ़ में किराए पर रह रही थी। शनिवार रात को जब धीरेंद्र घर के बाहर गया तो रोशनी ने कमरे में फंदा लगा लिया। इसी बीच जब धीरेंद्र आया तो उसे फंदे पर लटका देख तुरंत नीचे उतारकर अस्पताल में पहुंचाया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मामले की सूचना के बाद पहुंची बहालगढ़ थाना पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया। पुलिस ने मामले में रोशनी के भाई प्रेम सिंह के बयान पर कार्रवाई की है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
दोनों ने रिश्ता होने के बाद किया था प्रेम विवाह
बताया गया है कि रोशनी व धीरेंद्र के परिजनों ने उनका रिश्ता कर दिया था। रिश्ता होने के बाद काफी समय तक जब उनकी शादी नहीं हुई तो उन्होंने प्रेम विवाह कर लिया था। शादी के बाद दोनों यूपी से बहालगढ़ आ गए थे। यहीं पर धीरेंद्र फैक्टरी में काम करता था। जिसके बाद दोनों यहीं रह रहे थे।
तीन माह पहले प्रेम विवाह करने वाली युवती ने कमरे में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। शव को पोस्टमार्टम करवाने के बाद परिजनों को सौंप दिया है। परिजनों ने बताया कि वह मानसिक रूप से परेशान थी।
-अनिल कुमार, एएसआई बहालगढ़ थाना। ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree