लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Chandigarh ›   Water cannon used as BJP workers protest against Punjab Government

पंजाब में सियासी घमासान: सीएम आवास घेरने निकली भाजपा, कई हिरासत में, आप ने निकाला शांति मार्च

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़ Published by: ajay kumar Updated Thu, 22 Sep 2022 07:34 PM IST
सार

पंजाब में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी की सरकार में अविश्वास को लेकर उपजे विवाद के बीच गुरुवार को भाजपा सरकार के खिलाफ सड़क पर उतर आई। भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं ने चंडीगढ़ में पंजाब सरकार के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया। भाजपा की योजना सीएम आवास को घेरने की थी।

भाजपा कार्यकर्ताओं पर वाटर कैनन का इस्तेमाल।
भाजपा कार्यकर्ताओं पर वाटर कैनन का इस्तेमाल। - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

आम आदमी पार्टी के विधायकों की खरीद फरोख्त को लेकर सामने आए कथित ऑपरेशन लोटस को लेकर भाजपा और आप आमने-सामने आ गई है। गुरुवार को भाजपा ने सीएम हाऊस को घेरने के मकसद से जहां सड़क पर उतरकर उग्र प्रदर्शन किया तो वहीं आम आदमी पार्टी के विधायकों ने ऑपरेशन लोटस के खिलाफ विधानसभा से राज भवन तक शांति मार्च निकाला। भाजपा कार्यकर्ताओं को काबू करने के लिए पुलिस ने वाटर कैनन का इस्तेमाल किया। इसके बाद दोनों दलों में टकराव गहरा गया है।



आप सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरी भाजपा, कई हिरासत में
पंजाब में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी की सरकार में अविश्वास को लेकर उपजे विवाद के बीच गुरुवार को भाजपा सरकार के खिलाफ सड़क पर उतर आई। भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं ने चंडीगढ़ में पंजाब सरकार के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया। भाजपा की योजना सीएम आवास को घेरने की थी।


भाजपा कार्यकर्ताओं ने जैसे ही पंजाब के सीएम हाउस की तरफ कूच किया तो पुलिस ने इन्हें रोकने के लिए वाटर कैनन का इस्तेमाल किया। पुलिस ने पानी की तेज बौछारों से भाजपा नेताओं को तितर-बितर कर दिया। जिसके चलते भाजपा कार्यकर्ता आगे नहीं बढ़ सके। इसके बाद प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अश्वनी शर्मा समेत 60 से अधिक नेताओं को चंडीगढ़ पुलिस ने हिरासत में ले लिया। 



बताया जा रहा है कि इस दौरान कुछ भाजपा कार्यकर्ता चोटिल भी हुए हैं। पंजाब भाजपा प्रमुख अश्वनी शर्मा ने कहा कि भाजपा आप सरकार के राज्य में सभी मुद्दों पर फेल होने का पर्दाफाश करेगी। पंजाब भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि आप सरकार ने चुनाव के दौरान महिलाओं को हर माह 1,000 रुपये देने का वादा किया था। इसे पूरा करने में सरकार असफल साबित हुई है। इसके साथ ही सरकार कई सार्वजनिक मुद्दों को लेकर भी फेल रही। 

आप विधायकों ने निकाला शांति मार्च।
आप विधायकों ने निकाला शांति मार्च। - फोटो : अमर उजाला
सरकार जनता की आवाज को नहीं दबा सकती। शर्मा ने कहा कि पंजाब की भगवंत मान सरकार केवल दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को खुश करने की कोशिश कर रही है और पंजाब में ड्रग्स, भ्रष्टाचार और बिगड़ती कानून व्यवस्था जैसे मुद्दों का समाधान नहीं ढूंढा जा रहा है। विरोध प्रदर्शन करना हमारा लोकतांत्रिक अधिकार है और कोई भी वाटर कैनन भाजपा को सार्वजनिक मुद्दों को उठाने से नहीं रोक सकती है।

भाजपा नेता सुनील जाखड़ ने आप के 25 करोड़ रुपये के ऑफर पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि जो माल पांच लाख रुपये में बिकाऊ हो, उसके कोई 25 करोड़ क्यों देगा। गौर हो कि बीते दिनों आम आदमी पार्टी की सरकार ने पंजाब में भाजपा पर विधायकों को तोड़ने की साजिश का आरोप लगाया था। इस बीच आप ने राज्यपाल से विशेष सत्र बुलाने की मंजूरी मांगी थी, जिसे ठुकरा दिया गया। इसके बाद भाजपा और आप में टकराव की स्थिति पैदा हो गई। 

आप ने विधानसभा से राजभवन तक निकाला शांति मार्च
उधर, आम आदमी पार्टी के मंत्रियों और विधायकों ने गुरुवार को विशेष विधानसभा सत्र को रद्द करने के विरोध में विधानसभा से राजभवन तक शांति मार्च निकाला। आप विधायकों ने लोकतंत्र के हत्यारे, कांग्रेस-बीजेपी कर रही लोकतंत्र की हत्या, ऑपरेशन लोट्स बंद करो जैसे बैनर हाथ में लेकर जमकर नारेबाजी की।



विधायकों ने आरोप लगाया कि भाजपा कांग्रेस के साथ मिलकर आप सरकार को रोकने की कोशिश कर रही है। उन्होंने राज्यपाल द्वारा सत्र को रद्द करने के फैसले को लोकतंत्र का मजाक करार दिया और कहा कि केंद्र के इशारे पर राज्यपाल ने अपने फैसले को बदला है। विधायकों ने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली आप सरकार के असाधारण कामकाज से कांग्रेस और शिअद-भाजपा समेत विपक्षी दल बौखला गए हैं और लोकतंत्र को कमजोर करने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं लेकिन उनके इस एजेंडे को आप के ईमानदार सिपाही कभी सफल नही होने देंगे। 

उन्होंने कांग्रेस पर भाजपा की बी-टीम होने और भगवा के लिए काम करने का आरोप लगाया। कहा कि कांग्रेस नेता सीबीआई और ईडी की छापेमारी की धमकियों से घबराकर अपने पद को बचाने के लिए भाजपा की बोली बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि आप सरकार राज्य से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा के लिए 27 सितंबर को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाएगी। कानून के अनुसार मंत्रिपरिषद की सहमति के बिना अनुमति रद्द करने के राज्यपाल के मनमाने और अलोकतांत्रिक फैसले के खिलाफ सरकार सुप्रीम कोर्ट का भी दरवाजा खटखटाएगी।

आप और भाजवा खेल रहे दोस्ताना मैच: बसपा
बहुजन समाज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जसवीर सिंह गढ़ी ने आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाया है कि दोनों दल वास्तविक मुद्दों से लोगों का ध्यान भटका रहे हैं। गढ़ी ने गुरुवार को कहा कि भाजपा और आप एक समान नीति पर काम कर रहे हैं, इसलिए वे सड़कों पर और मीडिया में नाटक कर लोगों का ध्यान वास्तविक मुद्दों से हटाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब की आप सरकार और भाजपा की केंद्र सरकार की जनविरोधी नीतियों से लोग तंग आ चुके हैं। दोनों पार्टियां लोगों का ध्यान भटकाने के लिए फ्रेंडली मैच खेल रही हैं।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00