विज्ञापन

अधिकारी नही मानते विज का आदेश

ब्यूरो/अमर उजाला,अंबाला Updated Tue, 02 Dec 2014 12:40 AM IST
Officials did not here the order of Vij
विज्ञापन
ख़बर सुनें
स्वास्थ्य एवं खेल मंत्री अनिल विज के आदेशों की भी जिले के अधिकारियों को परवाह नहीं है। इस बात का खुलासा सोमवार को विज के खुले दरबार के दौरान हुआ। लोगों ने विज को बताया कि उनके तीन आदेशों पर काफी समय बीतने के बावजूद अमल नहीं हुआ है। इस पर विज ने खुले दरबार में अफसरों को चेतावनी दी कि वे लोगों की समस्याओं और शिकायतों के प्रति अपने काम का स्टाइल बदल लें, वरना उन्हें ऐसे लापरवाह अफसरों के खिलाफ सख्त कदम उठाना पड़ेगा।
विज्ञापन
 
पहला केस
विज को नहीं मिला रजिस्ट्रियों का रिकार्ड
अंबाला छावनी उप तहसील में पिछले काफी समय से नियमों को ताक पर रखकर फर्जी एनओसी के आधार पर रजिस्ट्रियां करवाई गई। इस खेल में दलालों, म्यूनिसिपल कारपोरेशन व उप तहसील के अफसरों व कर्मचारियों पर मिलीभगत कर चांदी कूटने का आरोप भी लगा। मामला एमसीए सदन की बैठक में मेयर रमेश लाल मल ने भी उठाया। तत्कालीन एमसीए कमिशनर ने जांच के आदेश भी दिए। विजिलेंस तक भी शिकायतें पहुंची, लेकिन कुछ नहीं हुआ। इसी गड़बड़ियों की शिकायतें आने के बाद विज ने पिछले खुले दरबार में राजस्व विभाग के अफसरों को निर्देश दिया था कि अंबाला छावनी व शहर में पिछले एक साल में जितनी भी रजिस्ट्रियां की गई हैं, उसका रिकार्ड एक सप्ताह के बाद उनके अगले खुले दरबार में प्रस्तुत किया जाए, लेकिन सोमवार को लगने वाले खुले दरबार में उन्हें यह जानकारी उपलब्ध नहीं करवाई गई। इसी बात पर नाराज होकर विज ने राजस्व विभाग के अफसराें को एक बार फिर आदेश दिया कि अगले साप्ताहिक दरबार से पहले उन्हें रजिस्ट्रियों का रिकार्ड उपलब्ध करवाया जाए, अन्यथा वे अपने स्तर पर जांच करवाकर दोषी अधिकारियों व कर्मचारियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई अमल में लाएंगे।


दूसरा केस

टावर हटवाने मौके पर नहीं पहुंचे अधिकारी
स्वास्थ्य मंत्री ने पिछले दरबार में आनंदनगर निवासियों द्वारा अपने क्षेत्र में एक मोबाइल कंपनी के अवैध रूप से लगाए गए टावर को हटवाने का अनुरोध किया था। इस पर विज ने थाना प्रभारी महेशनगर व एमसीए ईओ डा. अरविंद बाल्यान को नियमानुसार जाकर कार्रवाई करने के आदेश दिए थे। दोनों अफसरों ने मंत्री के निर्देशों को हल्के में लिया, जिसके चलते सोमवार को आनंद नगर के बाशिंदे फिर से मंत्री के दरबार में पहुंच गए। इस पर विज ने फिर से उक्त दोनों अफसरों को मौके पर जाकर गंभीरता से इस शिकायत पर कार्रवाई करने के आदेश दिए।

तीसरा केस

मंडौर में नहीं हटा टॉवर
मंडौर गांव के लोगों ने मंत्री के दरबार में पेश होकर दो बार अवैध रूप से लगे टॉवर को हटाने की शिकायत दी थी। मंत्री ने इस शिकायत पर भी नगर निगम व पुलिस को नियमानुसार कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे, लेकिन इस शिकायत पर भी कुछ नहीं हुआ। लोगों का कहना है कि वे मंत्री के आदेशों के बावजूद नगर निगम अफसरों के पास जा चुके हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं करता।


नहीं हो रहा शिकायतों का फालोअप
खुले दरबार में आए संजय, राजीव कुमार, सुशील वर्मा और नीरज का कहना है कि मंत्री विज ने तो उनकी एप्लीकेशन आगे विभाग के अफसरों को मार्क कर दी है, लेकिन अब संबंधित विभाग के अफसर ही उन्हें टरकाए जा रहे हैं। इन लोगों का कहना है कि विज खुले दरबार में उन शिकायतों का फालोअप लेने की व्यवस्था भी बनाएं, तभी सही मायनों में लोगों की शिकायतें दूर हो पाएंगी।


खुले दरबार र्में आइं 219 शिकायतें
 
बंद करवाओ अवैध खनन का खेल
स्वास्थ्य, खेल एवं युवा कार्यक्रम मंत्री अनिल विज ने सोमवार को लोक निर्माण विभाग विश्राम गृह अंबाला छावनी में साप्ताहिक जनता दरबार के दौरान खनन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अवैध खनन को तुरंत बंद करवाएं। उन्होंने कहा कि वे किसी भी समय अवैध खनन के मामले का स्वयं निरीक्षण करेंगे और निरीक्षण के दौरान यदि कोई अनियमितताएं पाई गई तो किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा।


अफसरों वर्करों से इकट्ठी करवा दी मदद की राशि
गोबिंदनगर अंबाला छावनी निवासी शांति देवी सरकारी सहायता की फरियाद लेकर स्वास्थ्य मंत्री के दरबार में पहुंची थी। अधिकारियों से चर्चा करने पर महिला का मुद्दा किसी सरकारी योजना में कवर न होने की स्थिति में स्वास्थ्य मंत्री ने स्वयं, उपस्थित अधिकारियों और भाजपा के पदाधिकारियों से मौके पर ही 31 हजार रुपये की राशि एकत्रित करके शांति देवी की सहायता की।

स्वास्तिक चौक पर हैलोजन बल्ब लगवाने की मांग
रेलवे रोड निवासी देवेंद्र आनंद टोनी ने मंत्री अनिल विज को बताया कि स्वास्तिक चौक पर खंभों पर पहले हैलोजन बल्ब वाली स्ट्रीट लाइटें लगी हुई थीं, लेकिन इलाके में कई खंभे टूट गए। बाद में सीमेंट के खंभे तो खड़े कर दिए गए, लेकिन उसमें हैलोजन बल्ब वाली स्ट्रीट लाइट नहीं लगाई गई। इस वजह से रात को इस इलाके में अंधेरा हो जाता है। विज ने इस मांग पर ईओ डा. अरविंद बाल्यान को निर्देश दिए कि तुरंत इलाके में हैलोजन स्ट्रीट लाइट लगाई जाएं।


अधिकारियों की कार्यशैली में कई तरह की खामियां हैं। सरकार बदलने के  साथ-साथ व्यवस्था को भी परिवर्तित किया जाएगा और जो अधिकारी और कर्मचारी अपनी कार्यशैली परिवर्तित नहीं करेंगे उनके विरुद्ध सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
- अनिल विज, कैबिनेट मंत्री, हरियाणा सरकार

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Chandigarh

अमृतसरः निरंकारी भवन पर आतंकी हमले का आरोपी बिक्रमजीत कोर्ट में पेश, 5 दिन की रिमांड मिली

पंजाब के अमृतसर में निरंकारी भवन पर आतंकी हमला करने वाले आरोपी बिक्रमजीत सिंह को अदालत में पेश किया गया। अब वह पांच दिन के रिमांड पर है।

22 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

रेप की घटनाओं पर बोले सीएम खट्टर, अनबन होने पर लड़कियां करा देती हैं FIR

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने महिलाओं और महिलाओं के साथ होने वाली रेप की घटनाओं पर विवादित बयान दे डाला है।

18 नवंबर 2018

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree