बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

इसने किसी को धन्नासेठ बनाया तो किसी को कर्जदार

अरविंद बाजपेयी/अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Wed, 08 Apr 2015 11:14 AM IST
विज्ञापन
chandigarh money laundering case, exposure about mukesh mittal

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
मनी लांडरिंग मामले में अब परत दर परत राज खुलते जा रहे हैं। मुकेश मित्तल ने कागजों में किसी को धन्नासेठ बना दिया तो किसी को कर्ज में डुबो दिया। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) में अब तक हुए बयान के मुताबिक, इस केस से जुड़े जिन लोगों के बयान हुए हैं, उन्हें पता तक नहीं कि उनके नाम पर करोड़ों-अरबों के लेनदेन हुए हैं या फिर उनके नाम पर मोटा कर्ज चढ़ा है।
विज्ञापन


प्रवर्तन निदेशालय ने मनी लांडरिंग केस से जुड़े मनीष कुमार से पूछताछ की। मुकेश मित्तल के क्लर्क प्रवीण कुमार और उसके भाई मनीष कुमार के नाम पर मुकेश मित्तल की एक कंपनी से चार करोड़ 60 लाख रुपये का लोन दिखाया गया है। प्रवर्तन निदेशालय को मुकेश मित्तल की कंपनी की बैलेंस शीट से यह जानकारी मिली है।


बयान दर्ज कराने पहुंचे मनीष कुमार ने प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों को बताया कि वह नौवीं पास है और उसे इस लोन के बारे में जानकारी तक नहीं है। जब उसकी आमदनी ही इतनी नहीं है तो फिर उसे करोड़ों रुपये का लोन कैसे मिल सकता है?
विज्ञापन
आगे पढ़ें

मनीष के नाम तीन बैंक अकाउंट

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us