विज्ञापन

उत्तराखंड

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

उत्तराखंड: हरिद्वार में एटीएम से छेड़छाड़, हैदराबाद में बजा अलार्म

एटीएम से नकदी नहीं निकलने पर उससे छेड़छाड़ करना ट्रक ड्राइवर को महंगा पड़ गया। ड्राइवर के एटीएम में छेड़छाड़ करते ही बैंक के हैरादाबाद कंट्रोल रूम में अलार्म बज गया। हैदराबाद की सूचना पर गश्ती पुलिस ने एटीएम से ट्रक ड्राइवर को दबोच लिया। पूछताछ करने और बैंक की ओर से तहरीर नहीं मिलने पर ड्राइवर को छोड़ दिया गया। 

पुलिस तत्काल घटनास्थल पर पहुंची
रानीपुर कोतवाल कुंदन सिंह राणा के मुताबिक सिडकुल थाना क्षेत्र के सलेमपुर में रविवार देर रात एटीएम से छेड़छाड़ हुई। अलर्ट सीधे हैदराबाद आंध्र प्रदेश हेड क्वार्टर गया। वहां से हरिद्वार पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना मिली तो पुलिस तत्काल घटनास्थल पहुंच गई।

एटीएम से आरोपी पवन निवासी कुरुक्षेत्र को दबोच लिया गया। पवन ट्रक चालक है और सिडकुल में सामान लेकर आया था। घटनास्थल सिडकुल थाना क्षेत्र में होने के कारण रानीपुर पुलिस से पवन को सिडकुल थाना पुलिस के हवाले कर दिया। 

सिडकुल थानाध्यक्ष लखपत सिंह बुटोला ने बताया कि पूछताछ में आरोपी पवन ने बताया कि उसे बहुत भूख लगी थी। जेब में नकदी नहीं थी। नकदी निकालने के लिए वह एटीम में गया। एटीएम में कार्ड फंस गया और नकदी भी नहीं निकली। उसने एटीएम में छेड़छाड़ की तो अलार्म हैदराबाद बैंक के कंट्रोल रूम में बज गया।

थानाध्यक्ष ने बताया कि मौके से आरोपी के पास एटीएम तोड़ने का कोई सामान नहीं मिला। तलाशी में भी कोई औजार नहीं मिले। बैंक की ओर से पुलिस को तहरीर और रिकार्डिंग नहीं दी गई, जिसके बाद पवन को छोड़ दिया गया।
... और पढ़ें

देहरादून:  देहराखास में हुआ अनैतिक देह व्यापार का खुलासा, आठ महिलाओं सहित 11 लोग गिरफ्तार

देहरादून में पटेलनगर पुलिस ने देहराखास के टीएचटीसी कॉलोनी में एक फ्लैट में काफी समय से चल रहे अनैतिक देह व्यापार  का खुलासा करते हुए 11 महिलाओं और तीन पुरुषों को गिरफ्तार किया है। संचालक महिलाओं को भूटान, बांग्लादेश, सहित विभिन्न राज्यों से बुलाकर दून के होटलों, पर्यटन स्थलों में भेजता था। मौके से पुलिस ने बड़ी मात्रा में आपत्तिजनक सामान बरामद किया है। 

टीम गठित कर फ्लैट में दबिश दी गई
पटेलनगर कोतवाल देवेंद्र चौहान ने बताया कि उन्हें काफी समय से देहराखास स्थित टीएचडीसी कॉलोनी में एक फ्लैट में अनैतिक देह व्यापार के संचालन की जानकारी मिल रही थी। जिसके संबंध में उच्चाधिकारियों को अवगत कराया गया और टीम गठित कर शनिवार रात फ्लैट में दबिश दी गई। दबिश के दौरान एक कमरे में दो महिला व दो पुरुष आपत्तिजनक स्थिति में पाए गए। एक अन्य कमरे को खोला गया तो उसमें छह महिलाएं मिलीं।  

पूछताछ करने पर संचालक राजीव ने बताया कि उसने यहां एक फ्लैट किराये पर ले रखा है। जहां देह व्यापार किया जा रहा था। मौके पर मौजूद महिलाओं ने बताया कि वह अलग-अलग राज्यों से देह व्यापार करने के लिए देहरादून आए हैं। वह संचालक के कहने पर ग्राहकों से फ्लैट के साथ ही अलग-अलग होटलों में जाती थी।
... और पढ़ें

देहरादून:  वाहनों के शीशे तोड़कर चोरी करने वाले टप्पेबाज गैंग का खुलासा, छह लैपटॉप बरामद 

देहरादून की वसंत विहार पुलिस ने रैकी कर सड़कों पर खड़े वाहनों के शीशे तोड़कर चोरी करने वाले टप्पेबाजी गैंग का खुलासा कर गैंग के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया है। उनके कब्जे से दून, दिल्ली आदि शहरों से चोरी किए गए छह लैपटॉप बरामद किए गए हैं। आरोपी लैपटॉप आदि चोरी कर ओएलएक्स के माध्यम से बेच देते थे। पुलिस आरोपियों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई की तैयारी कर रही है। 

गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई
पुलिस कार्यालय में टप्पेबाजी गैंग का खुलासा करते हुए डीआईजी जन्मेजय खंडूडी ने बताया कि 18 अक्तूबर को ऋषभ शाह निवासी नारायण विहार ने थाना वसंत विहार में शिकायत दर्ज कराई थी। बताया कि उनकी कार शाम के समय अलकनंदा एन्कलेव जीएमएस रोड पर खड़ी थी। वह पास ही दुकान में सामान लेने गए थे। कुछ देर में वापस पहुंचे तो कार का बाएं तरफ का शीशा टूटा हुआ था। कार के पिछली सीट में बैग रखा था, जिसमें लैपटॉप, अन्य सामान व नगदी रखी थी। जो गायब थी। सूचना पर वसंत विहार पुलिस को तत्काल मुकदमा दर्ज कर घटना का खुलासा करने के निर्देश दिए गए। 

निर्देश पर वसंत विहार पुलिस ने एक टीम का गठन कर घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज चैक किए। फुटेज में एक कार संदिग्ध प्रतीक हुई। नंबर की जांच की गई तो कार दिल्ली नंबर का होना पाया गया। जिसके बाद कार की तलाश की गई और मुखबिर तंत्र सक्रिय किया गया। मुखबिरों की सूचना पर शनिवार को वाहन सहित तीन टप्पेबाज मनीष उर्फ मोनू निवासी ग्राम मुखमेलपुर थाना अलीपुर नार्थ दिल्ली हाल निवासी अमृत विहार बुराड़ी, संदीप चौहान निवासी संतनगर बुराड़ी व महेंद्र कुमार उर्फ फौजी निवासी बोदरी थाना जौनपुर उत्तर प्रदेश, हाल निवासी सत्य विहार कॉलोनी थाना बुराड़ी को गिरफ्तार कर लिया गया।

उनके कब्जे से वसंत विहार थाने से संबंधित एक लैपटॉप सहित दिल्ली, हरियाणा आदि स्थानों से चोरी किए गए पांच कुछ छह लैपटॉप बरामद किए गए है। बताया कि टप्पेबाजों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया है। डीआईजी जन्मेजय खंडूडी ने बताया कि आरोपी गैंग बनाकर वारदात करते थे। उनके अन्य अपराधों की जानकारी की जा रही है। जल्द ही आरोपियों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई की जाएगी। 

दिल्ली में कर चुके हैं कई घटनाएं 
थानाध्यक्ष वसंत विहार नरेश राठौर ने बताया कि पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि लॉकडाउन में कोई न होने से जल्दी पैसे कमाने के चक्कर में उन्होंने यह काम शुरू किया। इसका आइडिया उन्हें मोहल्ले के कही मोहित वालिया ने दी थी। उसने बताया था कि बडे़ शहरों में लोग कार में कीमती सामान रखते हैं। कार का शीशा तोड़कर उसमें रखा सामान चोरी कर बेचने से अच्छा पैसा मिल जाता है। उन्होंने दिल्ली मेें इस प्रकार की कई घटनाएं की। जिससे उन्हें अच्छे मिल गए। पिछले महीने वह देहरादून घूमने आए थे। यहां भी उन्हें एक कार में बैग रखे दिखाई दिए। इसके बाद उन्होंने गुलेल से कार का शीशा तोड़कर उससे बैग कर लिए थे। 

ओएलएक्स पर बेचते हैं चोरी का माल 
आरोपियों के मुताबिक कार का शीशा तोड़कर लैपटॉप, मोबाइल आदि सामान वह ओएलएक्स पर बेच देते हैं। जिससे उन्हें काफी अच्छा पैसा मिल जाता है। बरामद लैपटॉप को भी वह बेचने के चक्कर में थे।  
... और पढ़ें

रुड़की: बाइक सवार युवकों ने गोली मारकर की किसान की हत्या, गुस्साए परिजनों का जमकर हंगामा

पुरानी रंजिश में दो बाइकों पर सवार चार युवकों ने एक किसान पर गोलियां बरसाकर हत्या कर दी। हत्या से गुस्साए परिजनों और ग्रामीणों ने जमकर हंगामा किया। पुलिस ने जल्द ही गिरफ्तारी का आश्वासन देकर शांत किया। साथ ही शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर हत्या कर फरार
उत्तर प्रदेश के बालावाली निवासी ऋषिपाल (40) पुत्र कालेराम गुरुवार की सुबह ट्रेक्टर से लक्सर क्षेत्र के गांव कुड़ी भगवानपुर आया था। इस दौरान रास्ते में दो बाइकों पर सवार चार युवकों ने उसे रोक लिया और ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर हत्या कर फरार हो गए।

सूचना मिलते ही परिजन और बड़ी संख्या में ग्रामीण मौके पर पहुंचे और जमकर हंगामा किया। सूचना मिलते ही सीओ बहादुर सिंह चौहान और कोतवाली प्रभारी यशपाल बिष्ट मौके पर पहुंचे और परिजनों को शांत किया।

सीओ ने बताया कि मृतक किसान है और हत्या के पीछे जमीनी रंजिश की बात सामने आई है। हत्यारोपियों की जल्द ही गिरफ्तार की जाएगी। वहीं, पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
... और पढ़ें
firing, murder, police firing, murder, police

देहरादून: कुख्यात नरेंद्र वाल्मीकि के भाई सचिन को एसटीएफ ने दबोचा, करता था शूटरों का इंतजाम और लोगों से मांगता था रंगदारी 

टिहरी जेल में बंद कुख्यात नरेंद्र वाल्मीकि के भाई सचिन वाल्मीकि को भी एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया। नरेंद्र वाल्मीकि ने पौड़ी जेल से तीन लोगों को मारने की सुपारी ली थी। सचिन पर आरोप है कि उसने बिहार और पश्चिमी उत्तर प्रदेश से कई शूटरों को हत्या के लिए बुलाया था। इस मामले में लगभग सभी शूटर पकड़े जा चुके हैं। एसटीएफ के अनुसार सचिन इन्हीं की जमानत के लिए वेष बदलकर दून आया था, जिसे आशारोड़ी के पास से पकड़ लिया गया। इसके कब्जे से देसी तमंचा और कारतूस बरामद हुए हैं।

नरेंद्र के जेल जाने के बाद सचिन के हाथों में आई वाल्मीकि गैंग की कमान
एसटीएफ एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि नरेंद्र वाल्मीकि ने पौड़ी जेल में एक लड़की और अपने मुकदमे में गवाह समेत तीन लोगों को मारने की सुपारी ली थी। एसटीएफ को जब इस बात का पता चला तो गत 31 अक्तूबर को पुलिस ने क्लेमेंटटाउन थाना क्षेत्र से तीन शूटरों नीरज पंडित निवासी फरीदाबाद, सचिन निवासी सोरम पट्टी, मुजफ्फरनगर और अंकित निवासी सलारपुर, सहारनपुर को गिरफ्तार कयि गया था। यह सब यहीं पर रुकने वाले थे और फिर हत्या के लिए सभी को हरिद्वार व रुड़की जाना था।

आरोपियों से पूछताछ के आधार पर 17 नवंबर को पंकज निवासी गोल भट्टा, रुड़की को गिरफ्तार किया गया। आरोपियों के पास से भारी मात्रा में अवैध असलाह बरामद किया गया। पता चला था कि इन्होंने सुपारी के चार लाख रुपये एडवांस भी लिए थे। इसी क्रम में एसटीएफ ने नीरज त्यागी और राजकुमार त्यागी नाम के शूटरों को भी मंगलौर क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में पता चला कि इन सभी को नरेंद्र वाल्मीकि के भाई सचिन वाल्मीकि ने बुलाया था। 

नरेंद्र के जेल जाने के बाद सचिन के हाथों में वाल्मीकि गैंग की कमान आई थी। सचिन का काम शूटर बुलाना, रंगदारी मांगना और लोगों से रकम इकट्ठा करना था। मंगलवार रात को एसटीएफ को सूचना मिली थी कि सचिन इन सभी शूटरों की जमानत के लिए देहरादून पहुंच रहा है। लिहाजा, एसटीएफ ने जाल बिछाया और क्लेमेंटटाउन पुलिस के साथ उसे आशारोड़ी चेकपोस्ट से गिरफ्तार कर लिया गया। उसके पास से 315 बोर का तमंचा व कारतूस बरामद हुए। सचिन ने नीरज त्यागी व राजकुमार त्यागी से एक महिला व उसके पति की हत्या के लिए चार लाख रुपये लिए थे।
... और पढ़ें

ऋषिकेश: रविवार को खुलेगा उड़ीसा की युवती की मौत का राज, पुलिस को मिल जाएगी पोस्टमार्टम रिपोर्ट

उड़ीसा की युवती की मौत के राज से जल्द पर्दा उठ सकता है। रविवार को युवती के शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट पुलिस को मिल जाएगी। वहीं पुलिस के हाथ युवती के पति तक भी पहुंच गए हैं।

बीते गुरुवार को आईडीपीएल चौकी क्षेत्र के कृष्णानगर तिराहे पर झाड़ियों में उड़ीसा की 28 वर्षीय युवती का शव मिला था। मौके पर युवती के बैग से बरामद हुए ट्रेन के टिकट और फोन नंबर से पुलिस शव की पहचान करने में कामयाब रही। मृत युवती आरती भुई के पिता रविंद्र भुई ने पुलिस को बताया था कि दो साल पहले उनकी बेटी प्रेम विवाह के बाद घर छोड़ कर चली गई थी।

वह हरिद्वार के सिडकुल की किसी फैक्टरी में काम रही थी। वह सिडकुल स्थित रावली महदूद में रहती थी। उन्होंने बताया कि कभी-कभी उनकी बेटी से फोन पर बात होती थी। शुक्रवार को एक पुलिस टीम युवती के पति के बारे में जानकारी जुटाने हरिद्वार के सिडकुल स्थित फैक्टरी और किराये के मकान में गई। यहां पुलिस को जानकारी मिली कि युवती पिछले चार महीने से रावली महदूद में अपने पति के साथ किराये के मकान में रह रही थी।

पड़ोसियों ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि अभी हाल में युवती का पति अचानक कहीं चला गया था। इसके बाद से युवती काफी परेशान नजर आ रही थी। इसके बाद अचानक युवती गायब हो गई। पड़ोसियों से मिली जानकारी के आधार पर पुलिस युवती के पति तक पहुंच गई है। बताया जा रहा है कि युवती का पति पहले से शादीशुदा है। मृत युवती के पति को पूछताछ के लिए ऋषिकेश कोतवाली लाया जा रहा है। आज युवती के शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी आ जाएगी। ऐसे में पुलिस युवती के मौत के कारणों का खुलासा कर सकती है।

हरिद्वार के सिडकुल में जांच के लिए गई टीम के हाथ कई अहम सुराग लगे हैं। रविवार को युवती के शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बात मौत के कारणों का पता चल पाएगा।
-रवि सैनी, कोतवाली निरीक्षक, ऋषिकेश
... और पढ़ें

उत्तराखंड: अल्मोड़ा जिला जेल में छापा, तीन माह में तीसरी बार बरामद हुए मोबाइल

पहले रंगदारी फिर नशा कारोबार से पूरे प्रदेश में चर्चा में आया अल्मोड़ा जिला कारागार एक बार सुर्खियों में आया है। एसटीएफ और पुलिस की दो कार्रवाई के बाद अब तीसरी बार जेल प्रशासन की कार्रवाई में भी जेल से मोबाइल फोन, सिम कार्ड, डाटा केबल और मोबाइल कवर बरामद हुए हैं। जेल प्रशासन की तहरीर पर जिला पुलिस ने आजीवन कारावास की सजा काट रहे एक कैदी के साथ ही एक अन्य कैदी के खिलाफ केस दर्ज किया है। फिलहाल जेल प्रशासन इस बात की जांच कर रहा है कि कैदी इस बार किस धंधे के लिए मोबाइलों का इस्तेमाल कर रहे थे।

अल्मोड़ा जिला जेल में बंद कैदियों द्वारा जेल के अंदर से ही रंगदारी मांगे जाने की सूचना पर एसटीएफ और पुलिस ने चार अक्तूबर को जेल में छापा मारा था। इसमें टीम को तीन मोबाइल, चार सिम कार्ड और डेढ़ लाख की नकदी बरामद हुई थी। पूरे मामले में हत्यारोपी कलीम और उसके साथी महिपाल को मुख्य आरोपी बनाया गया था। उस वक्त प्रभारी जेलर और चार बंदी रक्षकों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई हुई थी।

इसके बाद 24 नवंबर को एसटीएफ और पुलिस ने फिर एक बार जेल में छापा मारा। उस वक्त भी यहां से मोबाइल और सिम कार्ड बरामद हुए थे। अब तीसरी बार नौ दिसंबर को जेल प्रशासन ने ही जेल में छापा मारा है। इस कार्रवाई में जेल प्रशासन को दो कैदियों से तीन मोबाइल फोन, 10 सिम कार्ड, 10 डाटा केबल और दो मोबाइल कवर बरामद हुए हैं।  प्रभारी अधीक्षक जिला कारागार जयंत पांगती ने इस संबंध में जिला पुलिस को तहरीर सौंपी है जिसके आधार पर पुलिस ने कैदी महिपाल निवासी बस्ती, ऋषिकेश, उत्तराखंड और सलीम भोजीपुरा, यूपी के खिलाफ कैदी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया है। 

क्या दो कार्रवाइयों  के बाद भी जेल में आते रहे मोबाइल 
जिला जेल में इससे पहले दो बार एसटीएफ और पुलिस छापा मार चुकी है और दोनों बार मोबाइल व सिम बरामद हुए हैं। अब तीसरी बार फिर मोबाइल और सिम बरामद होने से यह स्पष्ट  है कि दो बड़ी कार्रवाइयों के बाद भी जेल में मोबाइल फोन आए। पहली बार मिले मोबाइल अल्मोड़ा से ही खरीदे जाने की पुष्टि हुई थी। दूसरी बार मिले मोबाइल महिपाल ने बाहर से मंगाए थे। अब तीसरी बार मोबाइल लोकल से खरीदे गए या फिर अभी भी बाहर से जेल में मोबाइलों की सप्लाई हो रही है, यह जांच का विषय है। संवाद

बंदी रक्षकों की नाराजगी से तो नहीं हुआ खुलासा
पहली बार अल्मोड़ा जिला जेल में छापा पड़ने के बाद जेल प्रशासन की पहली कार्रवाई बंदी रक्षकों के खिलाफ की गई। फिर दूसरी बार छापा पड़ा तो बंदी रक्षकों ने एकजुट होकर जेलर का घेराव किया। तब उनका कहना था कि जेल प्रशासन की लापरवाही से सजा उन्हें मिलती है। कहा जा रहा है तीसरा छापा जेल प्रशासन ने मारा लेकिन सूत्रों का कहना है कि बंदी रक्षकों ने इसके लिए पहल की और छानबीन कर मोबाइल, सिम बरामद किये। जिसके बाद जेल प्रशासन ने कार्रवाई की। अगर बंदी रक्षक जेल की व्यवस्था से नाराज नहीं होते तो यह खुलासा होना भी संभव नहीं था। 

क्या जेल में तैयार किया जा रहा है नया गिरोह
जिला जेल में पहली कार्रवाई से खुलासा हुआ था कि कलीम ने रंगदारी के लिए महिपाल की मदद से जेल के कुछ कर्मचारियों के साथ मिलकर गिरोह तैयार किया। कलीम के दूसरी जेल में शिफ्ट होन के बाद महिपाल ने बागेश्वर से एनडीपीएस एक्ट में गिरफ्तार हुए अंकित के साथ चरस तस्करी के लिए नया गिरोह खड़ा कर दिया। अब अंकित ने महिपाल और कलीम पर रंगदारी मांगने का आरोप लगाकर मुकदमा दर्ज कराया है, लेकिन इस बार एक नया नाम सलीम, महिपाल के साथ जुड़ गया है। सलीम के साथ मिलकर क्या महिपाल नया गिरोह खड़ा कर रहा था। या सलीम पहले से ही पूरे खेल में शामिल है और अब तक जेल प्रशासन, पुलिस या एसटीएफ को इसकी भनक नहीं लग सकी थी। 

जेल में अभी भी ध्वस्त नहीं हुआ अपराध का नेटवर्क
तीसरी कार्रवाई से यह भी सवाल खड़ा होता है कि क्या जेल में अभी भी अवैध धंधों का नेटवर्क धवस्त नहीं हुआ। हर बार जेल में मंगाए गए मोबाइलों से अलग-अलग अवैध धंधे किये गए। इस बार फिर जेल में मोबाइल मिले। और इनसे भी रंगदारी या चरस कारोबार को अंजाम दिया जा रहा था या फिर कोई नया अवैध कारोबार किया जा रहा था। फिलहाल यह जांच के बाद स्पष्ट होगा। 

अल्मोड़ा जिला कारागार के प्रभारी अधीक्षक जयंत पांगती ने पुलिस को एक तहरीर सौंपी है। इसके आधार पर नौ दिसंबर को जेल प्रशासन ने जेल में छापा मारा। इसमें कैदियों के पास से तीन मोबाइल, 10 सिम कार्ड और 10 डाटा केबल बरामद हुए।  जेल में बंद कैदी महिपाल और सलीम के खिलाफ केस दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है। 
- पंकज भट्ट, एसएसपी अल्मोड़ा
... और पढ़ें

मसूरी: आईटीबीपी के जवान पर दुष्कर्म के आरोप में मुकदमा दर्ज , कैंपस में तैनात महिला कर्मचारी ने लगाए आरोप

प्रतीकात्मक तस्वीर
आईटीबीपी में कार्यरत एक जवान के खिलाफ वहीं तैनात महिला कांस्टेबल ने दुष्कर्म का आरोप लगाया है। एसएसपी के निर्देश पर शहर कोतवाली में नामजद मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस ने पीड़िता का मेडिकल कराकर आरोपी की गिरफ्तारी के लिए टीम का गठन भी कर दिया है। आरोपी फरार है और पुलिस उसके हर संभव ठिकानों पर उसे तलाश रही है।

आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज के आदेश

शहर कोतवाल गिरीश चंद्र शर्मा ने बताया कि आईटीबीपी अकादमी के कांबेट विंग में कार्यरत सिपाही (जीडी) मोहन सिंह दानू के खिलाफ आईटीबीपी की ही एक महिला कांस्टेबल ने दुष्कर्म का आरोप लगाया है। शिकायत के अनुसार दुष्कर्म की घटना पांच दिसंबर को हुई। इसकी सूचना वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस उप महानिरीक्षक के पास भी पहुंचे।

उन्होंने शहर कोतवाली पुलिस को तत्काल आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज के आदेश दिए। इस पर दुष्कर्म की धाराओं में मामला दर्ज कर आरोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम बनाई गई। दूसरी और पीड़िता का मेडिकल कराया गया। पुलिस अभी मेडिकल रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।

इसकी जांच कैंट थाने की महिला उप निरीक्षक पिंकी पंवार को सौंपी गई है। चूंकि मामला आईटीबीपी अकादमी से जुड़ा है, इस लिए आईटीबीपी प्रशासन से संपर्क किया जा रहा है। इस संबध में आईटीबीपी अकादमी के कांबेट विंग के अधिकारियों का पक्ष लेने की कोशिश की गई लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका।
... और पढ़ें

ऑनलाइन इंश्योरेंस ठगी: फ्रॉड करने वाले रैकेट का भंडाफोड़,  एसटीएफ ने आरटीओ के बाहर से चार को पकड़ा 

ऑनलाइन इंश्योरेंस में ट्रिक इस्तेमाल कर इंश्योरेंस संबंधी फ्रॉड करने वाले रैकेट का एसटीएफ ने भंडाफोड़ किया है। एसटीएफ ने आरटीओ देहरादून के बाहर से तीन दलाल समेत चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पेमेंट एप और अन्य वेबसाइट के माध्यम से हो रही इस धोखाधड़ी में ये चारों करीब दो साल से शामिल थे। उनके इस काम से न सिर्फ आरटीओ प्रशासन को अंधेरे में रखा जा रहा था, बल्कि सरकार को भी करोड़ों रुपये के जीएसटी का चूना लगाया गया है। बताया जा रहा है कि देश में इस तरह की यह पहली कार्रवाई है। 

एसटीएफ एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि कुछ लोग बहुत ही कम रेट पर ऑनलाइन वाहन बीमा कर रहे हैं। यह बीमा पेमेंट एप और अन्य वेबसाइट के माध्यम से किया जा रहा है। जो लोग वाहन ट्रांसफर करवाते हैं या फिर फिटनेस आदि के लिए आते हैं उनके साथ यह किया जा रहा है। इसमें वाहन स्वामियों की भी मिलीभगत होती है। इस पर एसटीएफ ने जाल बिछाया और आरटीओ देहरादून के बाहर पड़ताल की। पता चला कि वहां पर बीमा कराते वक्त चार पहिया वाहन का नंबर वास्तविक फीड किया जाता है। लेकिन, भुगतान की गणना के वक्त उसने वाहन का प्रकार दोपहिया कर दिया जाता है। 

ऐसे देते हैं धोखाधड़ी को अंजाम 

काफी समय से इंश्योरेंस कंपनियों ने ऑनलाइन सर्विस शुरू की हुई है। लेकिन कोविड के दौरान इसे पेमेंट एप के माध्यम से भी शुरू कर दिया गया था। सभी 24 जनरल इंश्योरेंस कंपनियां इस सेवा को दे रहीं थी। अब चालबाजों ने भी इसमें ट्रिक ढूंढ ली। वह इस तरह कि यदि ठग फोन पे पेमेंट एप से इंश्योरेंस करना चाहते हैं। तो सबसे पहले फोन पे पर इंश्योरेंस सेक्शन में क्लिक करना होता है। वहां पर फोर व्हीलर और टू व्हीलर इंश्योरेंस का ऑप्शन होता है। इसमें फोर व्हीलर न चुनकर टू व्हीलर चुन लिया जाता है। इसके खुलते ही वहां पर नंबर फोर व्हीलर का डाल दिया जाता है। इसके बाद किसी भी कंपनी का कोई भी मॉडल उसमें भर दिया जाता है। इसके हिसाब से ही प्रीमियम की गणना हो जाती है। इसके बाद ऑनलाइन भुगतान किया जाता है और कवर नोट का प्रिंट निकाल लिया जाता है। इस पर तो यह टू व्हीलर लिखा होता है लेकिन इसे फोटो शॉप के माध्यम से फोर व्हीलर कर दिया जाता है। 
... और पढ़ें

रामनगर: पहले छात्रा से अश्लील बातें कीं, शिकायत पर परिजन स्कूल पहुंचे तो बाथरूम में खुद को कर लिया बंद

छात्रा से अश्लील बातें करने का आरोपी शिक्षक परिजनों के विद्यालय पहुंचने पर बाथरूम में घुस गया। पुलिस के पहुंचने के बाद भी वह बाहर निकलने को तैयार नहीं हुआ। दरवाजा काटने की बात पर करीब दो घंटे बाद वह बाहर निकला। पुलिस ने परिजनों की तहरीर पर पॉक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज कर शिक्षक को हिरासत में ले लिया।

घटना के बाद से अवकाश पर था शिक्षक

एक विद्यालय की छात्रा ने अपने परिजनों को बताया था कि शिक्षक ने अश्लील बातें की हैं। घटना के बाद से शिक्षक अवकाश पर था। शनिवार को शिक्षक के स्कूल पहुंचने की जानकारी मिलने पर परिजन भी पहुंच गए। उन्होंने प्रधानाचार्य को मामले की जानकारी दी। इधर, शनिवार को ही शिक्षक ने छात्रा के चाचा के खिलाफ झूठे आरोप में फंसाने, धमकी और गालीगलौज करने की तहरीर थाने में दी।

स्कूल के बाथरूम में घुस गया और खुद को बंद कर लिया

सोमवार को छात्रा के चाचा और एबीवीपी कार्यकर्ता स्कूल पहुंचे तो शिक्षक भागकर स्कूल के बाथरूम में घुस गया और खुद को बंद कर लिया। सूचना पर पहुंचे एसआई मनोज अधिकारी, राजेंद्र सिंह नेगी, एचसीपी मोहन चंद्र ने शिक्षक से बाहर निकलने को कहा, लेकिन वह नहीं माना। शिक्षकों और प्रधानाचार्य ने भी मारपीट नहीं होने का भरोसा दिया।

एसएसआई मुनव्वर हुसैन ने फायर ब्रिगेड की टीम को बुलाकर बाथरूम का गेट काटने को कहा। इसके बाद शिक्षक बाहर आने को तैयार हुआ। एसएसआई ने बताया कि आरोपी शिक्षक को मंगलवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। प्रधानाचार्य का कहना है शिक्षक पर लगे आरोपों की जांच कॉलेज प्रशासन कर रहा है।
... और पढ़ें

हरिद्वार: कारोबारी के परिवार को तमंचे की नोक पर बंधक बनाकर लूट, बदमाश फरार

हरिद्वार में पथरी क्षेत्र के धनपुरा में बदमाशों ने एक भैंस कारोबारी के परिवार को तमंचे की नोक पर बंधक बनाकर लूट को अंजाम दे डाला। घर से लाखों के जेवरात और नकदी लेकर बदमाश फरार हो गए। पुलिस और एसओजी की टीमें बदमाशों की तलाश में जुटी है।

तमंचे के बल पर पूरे परिवार को काबू में किया

पुलिस के मुताबिक, गांव धनपुरा में लक्सर रोड पर भैंस कारोबारी मासूम का घर है। परिवार में चंद दिनों बाद ही दो बेटों की शादी होनी है। इसलिए जेवरात आदि सामान खरीद कर रखा गया था। सोमवार आधी रात कुछ बदमाश मासूम के घर घुस गए और तमंचे के बल पर पूरे परिवार को काबू में कर लिया।

धरपकड़ के लिए टीमें गठित

बदमाश घर से जेवर नकदी समेटकर फरार हो गए। परिवार ने जैसे-तैसे पुलिस को सूचना दी। लूट की जानकारी मिलने से पुलिस में हड़कंप मच गया। पुलिस और एसओजी की टीम में बदमाशों की तलाश में जुट गई है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि बदमाशों की धरपकड़ के लिए टीमें गठित कर दी गई है। जल्दी आरोपियों को गिरफ्तार कर घटना का खुलासा कर लिया जाएगा।
... और पढ़ें

हरिद्वार: युवती को ब्लैकमेल कर युवकों ने दो साल तक किया दुष्कर्म, बीमार पिता को देखने पीड़िता के घर आता था एक आरोपी

दो युवकों ने युवती को पानी में नशीला पदार्थ पिलाकर उसके साथ दुष्कर्म करने के साथ ही अश्लील वीडियो भी बना ली। युवती की शिकायत के बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर दो युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है।


कनखल थाना प्रभारी दीपक कठैत के मुताबिक थाना क्षेत्र की एक कालोनी में रहने वाली युवती ने शिकायत देकर बताया कि उसके घर में विधवा मां व दो छोटे भाई हैं। युवती ने बताया कि दो साल पहले जब उसके पिता बीमार थे तो उनको देखने के लिए गोपाल निवासी गांव जगजीतपुर का उनके घर पर आना-जाना रहता था। आरोप है कि उसके पिता की मौत से चार दिन पहले आरोपी गोपाल उसे अपने दोस्त जोनू के कमरे पर जगजीतपुर लेकर गया और उसे पानी में नशीला पदार्थ मिलाकर पिला दिया।

इसके बाद आरोपी गोपाल ने उसके उसके साथ दुष्कर्म किया और जोनू ने अश्लील वीडियो बना लिया। युवती का आरोप है कि इसके बाद जोनू ने उसके साथ दुष्कर्म किया और गोपाल ने वीडियो बनाया। आरोपी उसकी अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देते हुए उसके साथ पिछले दो साल से दुष्कर्म कर रहे हैं।

वहीं किसी को भी बताने पर उसकी मां व भाईयों को जान से मारने की धमकी भी दे रहे हैं। पीड़िता ने आरोपियों से परेशान होकर कई आत्महत्या करने की कोशिश भी की, लेकिन उसकी मां व पड़ोसी ने उसे फांसी के फंदे से उतारा। थाना प्रभारी दीपक कठैत ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

मध्यप्रदेश की महिला से देवबंद के व्यक्ति ने हरिद्वार में किया दुष्कर्म
वहीं फेसबुक पर दोस्ती करने के बाद मध्यप्रदेश की 31 वर्षीय महिला से देवबंद के व्यक्ति ने हरिद्वार के एक होटल में लाकर दुष्कर्म किया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी युवक की तलाश शुरू कर दी है। नगर कोतवाल राकेंद्र कठैत के मुताबिक मध्यप्रदेश के नरसिंहगढ़ निवासी 31 वर्षीय महिला ने शिकायत देकर बताया कि उसके पति की मौत हो चुकी है।

वर्ष 2020 में उसकी दोस्ती फेसबुक पर सहारनपुर के देवबंद कस्बा निवासी संदीप गिरि से हुई थी। आरोपी ने खुद को अविवाहिता बताते हुए पहले फेसबुक मैसेंजर पर और उसके बाद मोबाइल पर बात करनी शुुरू कर दी थी। महिला ने बताया कि उसके पति की मौत हो चुकी है और संदीप ने खुद को अविवाहिता बताया था तो महिला ने उससे बातचीत करनी शुरू कर दी थी। इसके साथ ही संदीप ने उससे शादी का वायदा भी किया था।

महिला का आरोप है कि संदीप ने उसे मध्यप्रदेश से 25 नवंबर को बहला-फुसलाकर हरिद्वार बुलाया। इसके बाद रेलवे स्टेशन पर आरोपी संदीप महिला को मिला और उसके लेकर एक होटल में चला गया। जिसके बाद महिला से उसकी बिना सहमति के उसका शारीरिक शोषण किया। महिला का आरोप है कि 26 नवंबर को आरोपी संदीप उसके हरकी पैड़ी पर छोड़कर बिना बताए कहीं चला गया। जिसके बाद पीड़िता आरोपी के बताए पते पर पहुंची तो उसके जानकारी हुई थी आरोपी शादी शुदा है। कोतवाल राकेंद्र कठैत ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर आरोपी की तलाश शुरू कर दी गई है।
... और पढ़ें

हरिद्वार: हरियाणा के युवकों की कार से देसी पिस्टल-चाकू बरामद, शराब पीकर मचा रहे थे हुड़दंग

शराब पीकर गुरुवार देर रात के समय खड्डा पार्किंग में हुड़दंग मचा रहे हरियाणा के तीन युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। तलाशी के दौरान युवकों की कार से पुलिस ने देसी पिस्टल व चाकू भी बरामद किया। पुलिस ने संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर आरोपियों को न्यायालय में पेश किया है।

कार से देसी पिस्टल व चाकू बरामद
नगर कोतवाल राकेंद्र कठैत के मुताबिक गुरुवार की देर रात 10 बजे के करीब पुलिस को सूचना मिली कि हाईवे पर रोडीबेल वाला चौकी क्षेत्र में स्थित खड्डा पार्किंग में कुछ युवक शराब पीकर हुड़दंग मचा रहे हैं। बताया गया कि उक्त युवक गलत दिशा में वाहन चला रहे थे। पार्किंग कर्मचारी ने उन्हें रोका तो उनक युवकों ने उस पर चाकू से हमला भी किया।
 
जिसके बाद चौकी प्रभारी अंशुल अग्रवाल पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे और युवकों को पकड़ लिया। इस दौरान उनकी कार की तलाशी ली गई तो कार से देसी पिस्टल व चाकू भी बरामद हुआ।

आर्म्स एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज
पूछताछ के दौरान आरोपी युवकों ने अपना नाम रॉकी कुमार निवासी गांव भैसूरकलां जिला रोहतक, विकास शर्मा व विशाल निवासी गांव खटकर थाना कुंडली जिला सोनीपत हरियाणा बताया। पुलिस ने देसी पिस्टल रखने के मामले में रॉकी व चाकू रखने के संबंध में विशाल कुमार के खिलाफ आर्म्स एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।
 
वहीं आरोपी युवकों की कार को भी पुलिस ने सीज कर दिया है। कोतवाल राकेंद्र कठैत ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर आरोपियों को न्यायालय में पेश किया गया है।
... और पढ़ें
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00