लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Meerut ›   School occupied in Meerut, children created ruckus and said we want justice

UP: मेरठ में स्कूल पर कब्जा, हाथ में पोस्टर लेकर सड़क पर उतरे मासूम बच्चे, बोले- वी वांट जस्टिस

अमर उजाला ब्यूरो, मेरठ Published by: कपिल kapil Updated Mon, 18 Jul 2022 06:35 PM IST
सार

स्कूल के बच्चों ने हाथ में तख्ती और पोस्टर लेकर जमकर हंगामा किया। बच्चों का आरोप है कि उनके स्कूल पर कब्जा कर लिया गया है। बच्चों ने कहा कि वी वांट जस्टिस।

मामले की जांच करती पुलिस।
मामले की जांच करती पुलिस। - फोटो : amar ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

मेरठ जनपद में थाना लिसाड़ीगेट क्षेत्र के जाकिर कॉलोनी में न्यू चाइल्ड पब्लिक स्कूल को कब्जेदारों से वापस लेने के लिए बच्चों ने हंगामा कर दिया। स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों ने हाथ में तख्ती, पोस्टर लेकर सड़क पर नारेबाजी शुरू कर दी। बच्चों ने कहा कि वी वांट जस्टिस। जब तक स्कूल नहीं मिलेगा, हम वापस नहीं जाएंगे। मजबूरन पुलिस को मौके पर पहुंचकर मामला शांत कराना पड़ा।



बताया गया कि सोमवार को स्कूल के प्रिंसिपल और कब्जेदारों के बीच बहस हो गई। इसके चलते वहां लोगों की भीड़ जमा हो गई। जाकिर कॉलोनी में 30 सालों से न्यू चाइल्ड पब्लिक स्कूल चलता है। स्कूल में नर्सरी से आठवीं तक के बच्चे पढ़ते हैं। सोमवार सुबह जैसे ही बच्चे स्कूल पहुंचे तो स्कूल में ताला लगा हुआ था। धीरे-धीरे स्कूल का टाइम हो गया। दूसरे बच्चे, टीचर्स, पेरेंट्स भी स्कूल पहुंच गए। ताला न खुला होने के कारण स्कूल के बाहर भीड़ लग गई। 


वहीं स्कूल के प्रिंसिपल को जब स्कूल बंद की सूचना मिली तो वे मौके पर पहुंची। पता चला कि स्कूल पर कब्जेदारों ने कब्जा कर लिया है। पड़ोसियों ने बताया कि रविवार देर रात कुछ लोग आए और स्कूल में अपना ताला लगा दिया। यही नहीं स्कूल का सामान भी लेकर चले गए। वहीं सोमवार सुबह बच्चों ने स्कूल पर कब्जे की बात सुनी तो वे चिल्लाने लगे। इस दौरान बच्चों ने कॉपियों के पन्ने फाड़कर वी वांट जस्टिस के पोस्टर बना लिए। बच्चे स्कूल गेट के बाहर ही धरने पर बैठकर नारेबाजी करने लगे। 

उधर, बच्चों द्वारा हंगामे की सूचना मिलने पर थाना पुलिस पहुंची। पुलिस और आसपास के लोगों ने बच्चों को समझाया कि वे वापस जाएं, लेकिन बच्चे अड़ गए और बोले जब तक अपना स्कूल वापस नहीं ले लेते, वे तब तक नहीं जाएंगे। बच्चों ने कहा कि हमें इंसाफ चाहिए।

यह भी पढ़ें: Police raid: कई राज्यों में सिंडिकेट कैसिनो का अरबों का धंधा, लग्जरी कारों से रिसॉर्ट आते थे आरोपी, युवतियों को मिलते थे 10 हजार रुपये

कब्जेदारों ने जला दी बच्चों की किताबें
बताया गया कि कब्जेदारों ने बच्चों की किताबें जला दीं और फर्नीचर तोड़ दिया। वहीं स्कूल संचालिका तिलतआरा पत्नी सैय्यद जफर मेंहदी ने कहा कि कब्जेदारों ने रविवार रात को स्कूल का ताला तोड़कर अपना ताला लगा दिया। सुबह से बच्चे स्कूल के बाहर खड़े हैं। इन्होंने बच्चों की किताबों तक में आग लगा दी है। 30 साल से हमारा स्कूल चल रहा है। बच्चों को स्कूल में अंदर नहीं जाने दे रहे। हम सब परेशान हैं। स्कूल में रखा फर्नीचर भी तोड़ दिया गया है, जो झूले लगे थे वो भी हटवा दिए, सब नष्ट कर दिया।

पुराने मालिक और स्कूल संचालक का विवाद, मौके पर पहुंचे कब्जेदार 
मोमीन मलिक ने कहा कि एक महीने पहले ही मैंने स्कूल को खरीदा है और पिछले मालिक ने खुद मुझे ताला खोलकर स्कूल सौंपा है। मैंने रुपये देकर बकायदा स्कूल खरीदा है। पिछले मालिक और स्कूल संचालक का क्या विवाद है मैं नहीं जानता। 

स्कूल बेचने वाले को तलाश रही पुलिस 
मौके पर पहुंची थाना पुलिस ने दोनों पक्षों से बात कर मामले को शांत कराया। पुलिस अब स्कूल बेचने वाले शख्स को ढूंढ़ रही है। इस दौरान कब्जेदार और स्कूल प्रिंसिपल में बहस भी हुई। पुलिस ने किसी तरह मामले को शांत कराया। सीओ कोतवाली अरविंद चौरसिया का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00