किसानों को सर्किल रेट से चार गुना अधिक मुआवजा देने की मांग

maharajgang Updated Wed, 06 Dec 2017 12:05 AM IST
 Demand for farmers four times more compensation from Circle Rate
समस्‍या - फोटो : amarujala
नौतनवां। देवदह बौद्ध विकास समिति के सदस्यों ने मंगलवार को डीएम वीके सिंह को एक ज्ञापन सौंपकर किसानों को सर्किल रेट से चार गुना अधिक मुआवजा की मांग की। ज्ञापन सौंपते समय अध्यक्ष जितेन्द्र राव ने कहा कि देवदह बनरसिंहा कला व खुर्द में भगवान बुद्ध के पुरातात्विक स्थल के आसपास किसानों की अनावश्यक भूमि नहीं लिये जाने और अगर किसानों की सहमति से उनकी भूमि ली जा रही है तो सर्किल रेट से चार गुना अधिक मुआवजा दी जाए। उन्होंने बताया कि नौतनवां तहसील क्षेत्र के देवदह बनरसिंहा कला व खुर्द में भगवान बुद्ध का ननिहाल व ससुराल दोनों ऐतिहासिक स्थल एवं पुरातात्विक भूमि भी है। पिछले दिनों उक्त भूमि का सीमांकन सरकार ने किया है। जिसमें कुछ पुरातात्विक भूमि को छोड़कर अनावश्यक भूमि की भी पैमाइश हो गयी है। जिससे ग्रामीण गुस्से में है। ऐसे में उनकी मांग है कि स्थानीय किसानों की सहमति से पुरातात्विक एवं आवश्यक भूमि का सरकारी रेट से चार गुना अधिक मुआवजा दिया जाय और अनावश्यक भूमि को नहीं लिया जाय। इस मौके पर शिवटहल, विजय बहादुर, सुयश तिवारी, नन्दकिशोर त्रिपाठी, कमलकांत पाण्डेय, संतराम वर्मा, रामसुमेर वर्मा, महेन्द्र जायसवाल, कोमल यादव, सुग्रीव वर्मा, शिव कुमार चौहान मौजूद रहे।
 

Spotlight

Most Read

Lucknow

शिवपाल के जन्मदिन पर अखिलेश ने उन्हें इस अंदाज में दी बधाई, जानें- क्या बोले

राजधानी ‌स्थित लोहिया ट्रस्ट में सोमवार को सपा नेता शिवपाल सिंह ने अपने समर्थकों के साथ जन्मदिन मनाया।

22 जनवरी 2018

Related Videos

ठण्ड ने ली यूपी पुलिस के सिपाही की जान!

यूपी में ठण्ड का कहर जारी है। प्रदेश के महराजगंज जिले में एक सिपाही की मौत ठण्ड लगने से हो गई। सिपाही उल्टी करने के बाद बिस्तर पर मृत पाया गया था।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper