विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अयोध्या प्रकरणः कल्याण सिंह बतौर आरोपी 27 को अदालत में तलब, विशेष न्यायाधीश ने दिया आदेश

अयोध्या प्रकरण के विशेष न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री व राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को बतौर आरोपी तलब किया है।

22 सितंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

घाटमपुर

रविवार, 22 सितंबर 2019

पत्नी से जुदाई बर्दाश्त न कर सका तो फांसी लगा दी जान, दो बेटियों के सिर से उठा पिता का साया

फौजी के घर की दीवार काटकर लाखों की चोरी, गांव के बाहर खेतों में पड़ा मिला बक्सा और सामान

कानपुर के घाटमपुर में पुलिस चौकी साढ़ के असवानगर गांव में एक मकान की पिछली दीवार काटकर घुसे चोर जेवर-नगदी समेत करीब पांच लाख रुपये का सामान पार कर ले गए। रविवार सुबह घरवालों को घटना की जानकारी हुई। मकान से चोरी गया बक्सा और अन्य सामान गांव के बाहर खेत में बिखरा पड़ा मिला। हालांकि पुलिस ने अभी तक रिपोर्ट नहीं लिखी है। 

गांव निवासी रामशंकर यादव संपन्न किसान है। उसके तीन बेटे हैं इनमें दो बेटे अनिल और सुनील सेना में जवान हैं। रामशंकर ने बताया कि सुनील छुट्टी पर घर आया हुआ है। शनिवार की देरशाम खाना खाने के बाद परिवार के सदस्य मकान की छत पर सोने चले गए। रामशंकर घर के बाहर मवेशियों के पास सो रहे थे।
 
... और पढ़ें

दिनदहाड़े भाजपा नेता समेत 2 को गोलियों से भूना, वर्चस्व और जमीनी विवाद वजह, गांवों में पीएसी तैनात

मौसम विभाग की भविष्यवाणी, यूपी के कई शहरों में आज से 27 सितम्बर तक होगी झमाझम बारिश

झमाझम बारिश झमाझम बारिश

प्रधानपति की हत्या के विरोध में गुलाबी गैंग ने लगाया जाम

घाटमपुर (कानपुर)। रामसारी गांव के प्रधान पति और अधिवक्ता की गोली मारकर हुई हत्या के विरोध में शुक्रवार को गुलाबी गैंग की महिलाओं ने मुख्य चौराहे पर जाम लगाकर विरोध प्रदर्शन किया। वह ग्राम प्रधान पूजा सिंह को न्याय दिलाने और मुख्य आरोपी को पकड़े जाने की मांग कर रही थीं। वहीं, गुरुवार को मुख्य चौराहे पर जाम लगाने में पुलिस ने प्रधान और अन्य लोगों को खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।
प्रधान के पति सतेंद्र सिंह की 13 सितंबर की रात गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने इस मामले में गांव के युवक संदीप उर्फ गुरू को गिरफ्तार किया था। कोर्ट ने उसे जेल भेज दिया था। मृतक की पत्नी और भाई का आरोप है कि जेल भेजे गए युवक ने तो सुपारी लेकर हत्या की है। घटना का मुख्य आरोपी गांव का एक पूर्व प्रधान है। उसे पुलिस बचा रही है। उसी को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर आंदोलन किया जा रहा है। गुरुवार की दोपहर भी रामसारी गांव से आए लोगों ने मुख्य चौराहा जाम कर हंगामा किया था। गुलाबी गैंग की महिलाओं ने मुख्य चौराहे पर 35 मिनट तक हंगामा किया। पुलिस ने उनके खिलाफ जाम लगाने का मुकदमा दर्ज करने की चेतावनी दी तो वह चौराहे से कोतवाली पहुंच गईं। वहां करीब पांच मिनट पुलिस से नोंकझोंक करने के बाद वापस लौट गईं।
महिलाओं का कहना था कि वह ग्राम प्रधान पूजा सिंह को न्याय दिलाने की मांग कर रही हैं। उधर, गुरुवार को हत्या के विरोध में मुख्य चौराहे पर जाम लगाने में पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। प्रधान पूजा सिंह, उनके देवर उपेंद्र सिंह और मृतक के चाचा रामसिंह भदौरिया सहित आठ लोगों को नामजद करते हुए 50-60 अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है।
... और पढ़ें

यमुना उफान पर, बाढ़ का पानी गांवों में घुसा

घाटमपुर (कानपुर)। तहसील क्षेत्र में यमुना नदी लगातार उफान पर है। तटवर्ती कई गांवों में बाढ़ आई हुई है। गड़ाथा, कटरी, मऊनखत, महुवापुरवा और मोंहटा गांवों में नदी का पानी गांव के अंदर गलियों और लोगों के घरों के बाहर जमा हो रहा है। सैकड़ों बीघे खरीफ की फसलें पानी में डूबकर बर्बाद हो गईं हैं। मंगलवार की दोपहर बाद सीडीओ और एडीएम ने गड़ाथा और कटरी गांवों का दौरा करके वहां के हालत का जायजा लिया।
गांववालों ने बताया कि बीते चार दिनों से यमुना नदी लगातार बाढ़ पर है। गड़ाथा गांव के निवासियों राजू दुबे, उमेश सिंह, देवसिंह, राजबहादुर निषाद, जुग्गीलाल सविता और त्रिभुवन दुबे ने बताया कि सोमवार की रात से लेकर मंगलवार की शाम 7 बजे तक यमुना नदी का जलस्तर बढ़ने से पूरा गांव बाढ़ के पानी से घिर गया है। अमिरतेपुर गांव की ओर के रास्ते से किसी तरह लोग घरों से खेतों की ओर आ-जा रहे हैं। बताया कि मार्ग के ऊपर दो-ढाई फीट पानी बह रहा है। बताया कि बाढ़ की वजह से गांव के लोगों ने मवेशियों को खुला छोड़ दिया है।
इधर, कटरी, महुवापुरवा, मऊनखत और मोंहटा गांवों का भी यही हाल है। मऊनखत-टिकवांपुर मार्ग पर नाव से लोग इस पार से उस पार जा रहे हैं। तहसील प्रशासन ने बाढ़ की आशंका के चलते संबधित गांवों में स्थापित की गई बाढ़ चौकियों में तैनात कर्मचारियों से प्रत्येक तीन घंटे में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं। वहीं, गहराई वाले मोहल्लों में बसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। गड़ाथा और कटरी गांवों में बाढ़ का जायजा लेने पहुंचे सीडीओ अक्षय त्रिपाठी ने बताया कि गड़ाथा गांव में एतिहात के तौर पर 10-15 परिवारों को गांव के परिषदीय स्कूल में ठहराया गया है। सीडीओ के साथ एडीएम राजस्व वीरेंद्र पांडेय और तहसील का प्रशासनिक अमला भी साथ था। बताया कि, गड़ाथा को छोड़कर अन्य गांवों में अभी स्थिति सामान्य है लेकिन, निगरानी कराई जा रही है। तहसीलदार विजय यादव ने बताया कि अभी बाढ़ का पानी कुछ और बढ़ने की आशंका है।
... और पढ़ें

डेढ़ घंटे बारिश से जलभराव

flud in ghatampur
घाटमपुर(कानपुर)। सोमवार की दोपहर कस्बे में करीब डेढ़ घंटे तक हुई झमाझम बारिश से चारों ओर जलभराव का नजारा दिखा। कस्बे के कई मोहल्लों में निचली बस्ती के मकान टापू की शक्ल में तब्दील हो गए। वहीं, पोस्ट आफिस रोड, पुराना अस्पताल रोड, रेलवे स्टेशन रोड, रोडवेज बस स्टाप, चौरसिया गली, नगर पालिका रोड और श्री गांधी विद्यापीठ इंटर कालेज के बगल वाली गली में पानी नाले की शक्ल में बहता दिखा। कानपुर रोड पर भी बस स्टॉप के पास से लेकर पंजाब नेशनल बैंक शाखा के सामने तक पानी बहता दिखाई दिया।
इधर, कानपुर-सागर राजमार्ग के किनारे डाली जा रही नेयवेली पावर प्लांट के लिए वाटर लाइन के काम के चलते जगह-जगह खोदे गहरे तालाबनुमा गड्ढों में पानी भरने से रोड के किनारे स्थित मकानों और दुकानों के क्षतिग्रस्त होने और गिरने का खतरा बढ़ गया है। भाजपा के नगर महामंत्री अंकुर दीक्षित, पारस कांप्लेक्स के मालिक मनीष सचान, मोबाइल शॉप संचालक राजा पांडेय, सुजीत चौरसिया और साइकिल दुकानदार रमेश शर्मा ने बताया कि पावर प्लांट के लिए डाली जा रही पाइप लाइन के कस्बे के निवासियों लिए परेशानी की वजह बन गई है।
इधर, कस्बे के कई मोहल्लों की निचली बस्ती में बने मकानों के अंदर पानी भरने से समस्या पैदा हो गई थी। वहीं, दीना मार्केट रोड, टाकीज रोड, पुराना अस्पताल रोड, चौरसिया गली और नगरपालिका रोड पर कई दुकानों के भीतर पानी भर जाने से नुकसान हुआ है।
वहीं, सोमवार की दोपहर हुई झमाझम बारिश का पानी कोतवाली और तहसील भवन के अंदर भी भर गया। कोतवाली के दफ्तर, मालखाना और सिपाहियों की बैरकों में पानी भर जाने से समस्या हुई। दफ्तर के अंदर भरे पानी को बाहर निकालने के लिए फायर ब्रिगेड को बुलवाकर पंप से पानी निकाला गया।
कोतवाली के हेड मोहर्रिर राजन सिंह और डाक प्रभारी बलवंत सिंह ने बताया कि बारिश का पानी भर जाने से महत्वपूर्ण अभिलेखों के भीग जाने और उनके खराब होने की आशंका है।
... और पढ़ें

गांव के ही युवक ने की थी, प्रधानपति की हत्या

घाटमपुर(कानपुर)। बीते शुक्रवार की रात रामसारी गांव में हुई ग्राम प्रधान के वकील पति की हत्या में हत्यारा उसी के गांव का ही एक युवक निकला। पुलिस ने उसको गिरफ्त में ले लिया है लेकिन, अभी घटना का अधिकृत खुलासा नहीं किया है। कोतवाल आरबी सिंह ने बताया कि पुलिस हत्याकांड की तह तक पहुंच चुकी है। लेकिन, मुख्य आरोपी से पूछताछ और पर्याप्त साक्ष्य जुटाने के बाद ही खुलासा किया जाएगा।
बीते 13 सितंबर की रात करीब 10.30 बजे रामसारी गांव की प्रधान पूजा सिंह के पति सतेंद्र सिंह भदौरिया (32) की उनके गांव रामसारी में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने इस मामले में गांव के ही एक पुराने हिस्ट्रीशीटर सहित कई लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था। इस मामले में पुलिस ग्राम प्रधानी की रंजिश, आशनाई और भूमि विवाद आदि बिंदुओं पर जांच कर रही है। सतेंद्र पेशे से वकील थे और घाटमपुर कस्बा के जैतीपुर रोड पर निजी मकान में पत्नी के साथ रहते थे। जबकि, गांव रामसारी में भी उनका मकान है और वहां भी आते-जाते थे।
इधर, सोमवार को अचानक पुलिस के हाथ ठोस सुराग लगा जिसके चलते रामसारी गांव के एक युवक को गिरफ्त में लेकर पूछताछ शुरू की तो सारा मामला साफ हो गया। सूत्रों के मुताबिक हिरासत में लिए गए युवक ने ही प्रधानपति की गोली मारकर हत्या की थी। इतना ही नहीं घटना के समय वह युवती के भेष में सलवार-कुर्ता पहनकर गया था। जिससे किसी के देख लेने पर उसकी पहचान भी न हो सके। लेकिन, घटना के समय अपने मकान की छत पर मौजूद एक युवक ने उसको भागते हुए देख लिया था। उसी के सुराग देने पर पुलिस हत्यारोपी तक पहुंची।
पकड़ा गया युवक पेशेवर हत्यारा बताया गया है। गांववालों के मुताबिक करीब चार साल पहले उसने गांव के श्यामसिंह नामक युवक की भी दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या की थी। जिसमें वह जेल गया था और इस समय जमानत पर जेल से बाहर था। वहीं, बर्रा कानपुर में भी सुपारी लेकर हत्या करने की बात कही।
... और पढ़ें

स्कूल के पास शव दफनाए जाने पर विरोध

भीतरगांव (कानपुर)। पुलिस चौकी साढ़ के चिरली गांव में सरकारी स्कूल के पास बीमारी से मरे वृद्ध का शव दफनाए जाने का गांववालों ने विरोध किया। इसकी सूचना पर रात में ही पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी गांव पहुंचे। रविवार की सुबह गांववालों के साथ वार्ता की और शव को वहां से निकलवाकर दूसरी जगह दफन करवाया गया।
गांव निवासी रंगीलाल बाल्मीकि चौकीदार के पद पर तैनात है। बीते शनिवार को उसके वृद्ध पिता हरदेव बाल्माकि की बीमारी से मौत हो गई। गांववालों ने बताया कि रात के अंधेरे में चौकीदार ने अपने बड़े भाई रामकिशन के साथ मिलकर गांव के बाहर स्थित परिषदीय स्कूल के पास पड़ी गांव समाज की जमीन पर गड्ढा खोदा और उसमें पिता के शव को दफन कर दिया।
इधर, जानकारी होने पर गांववालों ने स्कूल के पास शव दफनाए जाने का विरोध किया। इसकी सूचना एसडीएम और पुलिस को दी। जिसपर रात में ही सीओ रवि सिंह और कोतवाल आरबी सिंह चिरली गांव पहुंचे। उन्होंने ग्रामीणों को समझा-बुझाकर शांत किया। वहीं, रविवार को फिर तमाम ग्रामीण पुलिस चौकी साढ़ पहुंचे।
इधर, सूचना पाकर नर्वल एसडीएम ज्ञानप्रकाश त्रिपाठी और तहसीलदार विनीत कुमार दल-बल के साथ गांव पहुंचे। उन्होंने स्कूल के पास स्थित भूमि की पैमाइश कराने के बाद बताया कि विवादित जगह ग्राम पंचायत की है। दोपहर बाद प्रशासन के निर्देश पर परिजनों ने शव को खोदकर निकाला और उसकी दूसरी जगह दफन किया।
... और पढ़ें

मऊनखत-टिकवांपुर मार्ग बंद हुआ, नाव से आ-जा रहे लोग

घाटमपुर (कानपुर)। तहसील क्षेत्र में यमुना नदी लगातार उफान पर है। सोमवार को पानी कई गांवों की गलियों के अंदर तक पहुंचने से निचली बस्ती के घरों की दहलीज पर दस्तक दे रहा है। मऊनखत से टिकवांपुर गांव की ओर जाने वाला मार्ग बंद हो जाने से लोग नाव से इधर से उधर आ-जा रहे हैं। वहीं, तहसील प्रशासन ने अभी किसी तरह के चिंताजनक हालात से इंकार किया है। नायब तहसीलदार हरिश्चंद्र सोनी ने बताया कि बाढ़ चौकियों के जरिए नदी के जलस्तर पर लगातार निगरानी कराई जा रही है।
बीते दिनों मध्यप्रदेश और राजस्थान के बांधों से बड़ी मात्रा में पानी बेतवा और यमुना नदियों में छोड़ा गया है। जिसके चलते तहसील क्षेत्र के गड़ाथा, अमिरतेपुर, कटरी-काटर, कोटरा-मकरंदपुर, बीरबल का अकबरपुर, मऊनखत, बीबीपुर, हरदौली, महुवापुरवा, मोंहटा, रामपुर और समुही-भटपुरवा सहित करीब पंद्रह गांव प्रभावित हैं।
मऊनखत गांव निवासी लालता प्रसाद और राजू निषाद ने बताया कि उनके गांव में यमुना नदी का पानी गलियों के भीतर तक पहुंच गया है। बताया कि निचले इलाके की बस्ती में कई घरों के अंदर तक पानी पहुंच जाने से समस्या है। बताया कि मऊनखत-टिकवांपुर मार्ग पर पानी भर जाने से आने-जाने के लिए उसपर नाव चलाई जा रही है।
वहीं, गड़ाथा गांव में सोमवार को पानी बढ़ जाने से पक्की रोड के ऊपर से होकर बह रहा था। जबकि, गांव की कई गलियों में तीन-चार फिट तक पानी भरा हुआ है। तहसील प्रशासन ने निचले इलाके में बसे कई लोगों को सामान सहित सुरक्षित जगहों पर पहुंचवाया है।
महुवापुरवा और मोंहटा (रामपुर) गांवों के निवासियों ने बताया कि उनके यहां यमुना नदी का पानी गांवों की गलियों और कई लोगों के घरों के बाहर भरा हुआ है। जबकि, गड़ाथा गांव से लेकर समुही-भटपुरवा गांव तक सैकड़ों एकड़ खरीफ की फसलें पानी में डूबी हुई हैं। किसानों ने बताया कि बाढ़ के पानी से तिली-उड़द, ज्वार-बाजरा और मक्का की फसलों को भारी नुकसान हुआ है। वहीं, नदी के किनारे खेतों में बोई गई मौसमी सब्जियां भी सड़ गई हैं। इन गांवों में बीमारियां फैलने का भी खतरा बढ़ रहा है। घाटमपुर ब्लॉक प्रमुख देविका सिंह के पति इंद्रजीत सिंह कुशवाहा ने बताया कि उन्होंने बाढ़ के बाद गांवों में बीमारियां फैलने की आशंका के चलते गांवों में मच्छररोधी दवा का छिड़काव कराने और ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण कराने के लिए स्वास्थ्य विभाग को पत्र भेजा है।
तहसील क्षेत्र की यमुनापट्टी के कई गांवों में बाढ़ का पानी खेतों और बस्ती के अंदर तक पहुंचने की जानकारी होने पर एसडीएम वरुण कुमार पांडेय ने सोमवार की शाम कटरी गांव का दौरा किया। उन्होंने नदी के किनारे पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया। गांववालों से बातचीत की और उनको सतर्क रहने के निर्देश दिए। एसडीएम ने बताया कि बाढ़ चौकियों में राजस्व लेखपालों और उनके साथ दो-दो कर्मचारी तैनात किए गए हैं। गांववालों की मदद से डोंगी, नाव, जाल और अन्य सामान की व्यवस्था भी करवाई गई है। बताया कि फिलहाल अभी यमुना नदी का पानी गांवों की बस्ती के पास ही पहुंचा है। बताया कि बाढ़ से खरीफ की फसलों को नुकसान पहुंचने की आशंका है।
... और पढ़ें

खड़े कंटेनर से टकराई वैन, दो की मौत, चार घायल

घाटमपुर/पतारा(कानपुर)। रविवार की भोर पहर कानपुर-सागर राजमार्ग पर तेज रफ्तार वैन रोड किनारे खड़े कंटेनर से जा टकराई। वैन की चपेट में आकर टायर की गिट्टी निकाल रहे कंटेनर चालक की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि, वैन पर सवार एक किशोरी समेत पांच लोग घायल हो गए। इलाज के दौरान सीएचसी में किशोरी की भी मौत हो गई। घायलों को इलाज के लिए कानपुर रेफर किया गया है।
ग्राम सुभाषपुरा जनपद शिवपुरी (मध्य प्रदेश) निवासी मलखान सिंह मिर्धा (45) कंटेनर लेकर कानपुर से घाटमपुर की ओर जा रहा था। सुबह करीब 5 बजे के आसपास रिंद नदी का पुल पार करने के बाद उसने कंटेनर को एक ओर खड़ा कर दिया और टायरों में फंसी गिट्टी निकालने लगा। तभी, पीछे से तेज रफ्तार में आई वैन कंटेनर चालक को चपेट में लेती हुई खड़े वाहन से जा टकराई।
हादसे में कंटेनर चालक मलखान सिंह की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि, वैन चालक अमन यादव (22), निवासी बर्रा (कानपुर) के अलावा वैन पर सवार राजेश कुमार (23) निवासी रेउना (घाटमपुर), उसकी भतीजी राखी (10) पुत्री अनिल कुमार, रमाशंकर (35) निवासी कोरियां (सजेती) और अनिल कुमार (22) निवासी कस्बा घाटमपुर सहित पांच लोग घायल हो गए।
सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने वहां मौजूद लोगों की मदद से घायलों को एंबुलेंस से सीएचसी पतारा भिजवाया। जहां डॉक्टरों ने परीक्षण के बाद राखी को भी मृत घोषित कर दिया। जबकि, प्राथमिक उपचार के बाद चार घायलों को कानपुर रेफर कर दिया। पतारा चौकी इंचार्ज हरिशंभू सिंह ने बताया कि परिजनों को सूचना देने के साथ ही शवों को पोस्टमार्टम के लिए रवाना किया गया। दुर्घटनाग्रस्त वैन एक समाचार पत्र के बंडल लेकर घाटमपुर की ओर जा रही थी।
... और पढ़ें

फोन पर तीन तलाक, रिपोर्ट दर्ज करने के निर्देश

घाटमपुर(कानपुर)। कस्बे के मोहल्ला पचखुरा निवासी एक युवती को उसके शौहर ने फोन पर तीन तलाक दे दिया है। युवती ने पति के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए एसएसपी (कानपुर) के यहां गुहार लगाई। अधिकारियों के निर्देश पर आरोपी के खिलाफ कोतवाली घाटमपुर में रिपोर्ट दर्ज करने की कार्रवाई की जा रही है।
कस्बा निवासी कलीमुज्जमा की पुत्री हिना खातून ने बताया कि उसका निकाह 5 दिसंबर 2016 को 130/309 निवासी अजीतगंज थाना बाबूपुरवा (कानपुर) निवासी इंतजार अहमद उर्फ शिराजी के साथ हुआ था। बताया कि उसकी ससुराल वाले ग्राम नारा, थाना मंझनपुर (कौशांबी) के मूल निवासी हैं। बताया कि निकाह के दौरान करीब पांच लाख रुपये खर्च हुए थे। लेकिन जब वह ससुराल बाबूपुरवा पहुंची तो पता चला कि उसके पति ने झूठ बोलकर निकाह किया था और वह खर्चे के लिए अपनी बहनों पर आश्रित है।
बताया कि शादी के बाद उसे ससुराल में प्रताड़ित किया जाने लगा। चप्पल का कारखाना लगाने के नाम पर उसके मायके वालों से डेढ़ लाख रुपये की मांग की जाने लगी। किसी तरह उसके माता-पिता ने 50 हजार रुपये की व्यवस्था करके दिए। उस समय हिना खातून पति और ननदोई इकरार अहमद के साथ दिल्ली में रह रही थी।
बताया कि वहां से जब वह वापस कानपुर लौटी तो उसके साथ ननद और देवर ने मिलकर मारपीट की उसको चप्पलों से पीटकर घर से निकाल दिया गया। वहीं बदनाम करने के लिए अश्लील फोटो बनाकर इंटरनेट पर भी डालने का आरोप लगाया। बताया कि ससुराल वाले फोन पर उसको गालियां बकते रहे और दूसरी शादी करने की धमकी देते रहे।
हिना खातून ने बताया कि बीते 18 अगस्त 2019 की सुबह 6.30 बजे उसके पति का मोबाइल पर फोन पर आया। जिसमें उसने तीन बार तलाक कहने के बाद कहा कि मैं तुमको अपनी जिंदगी से आजाद करता हूं। बताया कि जब उसने फोन करके ग्राम नारा (कौशांबी) से पता किया तो बताया गया कि इंतजार अहमद गांव की ही किसी दूसरी लड़की से निकाह करके दुबई भागने की तलाश में है। जिसके लिए उसने अपना विजिट वीजा भी बनवा रखा है। हिना खातून ने एसएसपी (कानपुर) के सामने पेश होकर अपनी फरियाद सुनाई जिसपर आरोपी के खिलाफ थाना घाटमपुर में रिपोर्ट दर्ज करने की कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree