विज्ञापन

एके-47 लेकर जंगल में घूम रहा हप्पू

ब्यूरो/अमर उजाला, बागपत Updated Mon, 25 Jul 2016 12:54 AM IST
विज्ञापन
पुलिस लाइन में मीडिया को जानकारी देता परमवीर तुगाना।
पुलिस लाइन में मीडिया को जानकारी देता परमवीर तुगाना। - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो
ख़बर सुनें
हिस्ट्रीशीटर परमवीर तुगाना ने कई राज उगले हैं। उसने कहा अजीत उर्फ हप्पू के पास हथियारों का जखीरा है। दो एके-47 और बुलेट प्रूफ जैकेट भी है।  बावली का हप्पू अधिकांश समय जंगलों में रहता है।
विज्ञापन

 परमवीर ने बताया प्रमोद की हत्या अजीत उर्फ हप्पू ने की है। क्योंकि हप्पू का आदित्य उर्फ चट्टान निवासी एलम साथी था। प्रमोद ने उसकी हत्या कर दी थी। इसी रंजिश में हप्पू ने अपने गांव के साथियों के साथ उसे मौत के घाट उतारा था।
पुलिस ने कुछ सफेदपोश से मिलकर साजिश के तहत उसे प्रमोद की हत्या के केस में झूठा फंसाया है।  जिस समय प्रमोद की हत्या हुई। उस समय वह छपरौली क्षेत्र में था, लेकिन घटनास्थल के आसपास नहीं था।
गांगनौली गांव के पप्पू की हत्या का उस पर लगाया आरोप भी गलत है। हप्पू से किसी तरह का वास्ता होने से इंकार कर दिया। पिछले डेढ़ साल में उसकी अजीत उर्फ हप्पू से कोई मुलाकात नहीं हुई। पुलिस सूत्रों की माने तो उस पर आर्मी की भी बुलेट प्रूफ जैकेट है। 

ईख के खेत में पैर न रखने की खाई थी कसम 
परमवीर ने बताया वह प्रमोद के साथ कई बार ईखों के खेतों में रहा। प्रमोद की हत्या के बाद उसने कसम खाई थी कि वह कभी ईख के       खेत में कदम नहीं रखेगा। तभी से वह बाहर रहा, लेकिन कभी ईख के खेत में नहीं छुपा।  

इन स्थानों पर परमवीर ने काटी फरारी 
परमवीर तुगाना ने कहा उसने राजस्थान के उदयपुर, जयपुर के अलावा दिल्ली, गोवा, मुंबई, कोलापुर, काठमांडू समेत कई स्थानों में फरारी काटी। 

विधानसभा चुनाव लड़ने की ख्वाहिश
बागपत। हिस्ट्रीशीटर परमवीर तुगाना ने कहा  वह बेशक दो साल हत्या के केस में फरार रहा, लेकिन वह अब भी किसी से कम नहीं है। उसने अपनी मर्जी से ही इस बार ब्लाक प्रमुख का चुनाव नहीं लड़ा।

विधानसभा का चुनाव लड़ा जाएगा। किस पार्टी से चुनाव मैदान में उतरूंगा, किसकी अभी घोषणा नहीं की। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव 2015 में उसकी पत्नी बीडीसी के पद पर विजय हुई। पिछली योजना में उसकी मां बीरमति छपरौली ब्लाक प्रमुख थी। 

सपा को वोट दिलवाने का दावा
बागपत। परमवीर तुगाना ने कहा  सपा की चुनावी सभा में उसने मंच पर भारी मत दिलवाने की घोषणा की थी। उसने छपरौली क्षेत्र से करीब 37 हजार वोट लोकसभा चुनाव में दिलवाए थे। 

परमवीर को बड़ौत लाई एसटीएफ 
बड़ौत। राजस्थान से पकड़े गए 50 हजार के ईनामी परमवीर तुगाना को लेकर नोएडा एसटीएफ की टीम बड़ौत कोतवाली पहुंची। उससे बंद कमरे में पांच घंटे तक पुलिस के अधिकारियों ने गहन पूछताछ की। उसने बताया कि ट्यौढ़ी गांव में दोहरा हत्याकांड अपने भाई नीटू की हत्या का बदला लेने के लिये किया था। पुलिस फिलहाल उससे इस हत्याकांड में कोई हथियार बरामद नहीं कर पाई है।

पूछताछ के बाद पुलिस ने उसे न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया है। अब बड़ौत पुलिस न्यायालय से कस्टडी रिमांड लेकर पूछताछ करेगी।
गत शुक्रवार को पश्चिमी उप्र एसटीएफ ने राजस्थान के उदयपुर से 50 हजारी इनामी बदमाश परमवीर तुगाना को गिरफ्तार किया था।

नोएडा में उस पर कोई मुकदमा न होने के कारण वहां की एसटीएफ टीम के प्रभारी राकेश पालीवाल व एसआई आकांश पंवार उसे लेकर रविवार की तड़के बड़ौत कोतवाली पहुंचे। वहां बंद कमरे में बागपत स्वाट टीम के प्रभारी फिरोज अख्तर, सीओ सीपी सिंह, कोतवाली प्रभारी वीके सिंह, छपरौली थाना प्रभारी रणवीर यादव व अन्य अधिकारियों ने पांच घंटे तक गहन पूछताछ की।

लेकिन, पुलिस उससे दोहरे हत्याकांड में इस्तेमाल हथियार बरामद नहीं कर पाई। कोतवाली प्रभारी वीके सिह ने बताया कि पूछताछ में परमवीर ने बताया कि 12 अगस्त 2015 में बड़ौत तहसील के रजिस्ट्रार प्रभारी ट्यौढ़ी निवासी रामकिशोर व राजवीर की हत्या उसने भट्ठे के विवाद के कारण अपने भाई नीटू की हत्या का बदला लेने के लिए की थी। 

20 मुकदमे दर्ज
बड़ौत। परमवीर तुगाना पर 20 मुकदमे दर्ज हैं। जिनमें छह मुकदमे कोतवाली बड़ौत पर और पांच मुकदमे छपरौली थाने में हैं। इसके अलावा सरूरपुर खुर्द, दोघट, मुरादनगर, गाजियाबाद और बागपत में मुकदमे दर्ज हैं। अजित उर्फ हप्पू ही पुलिस के निशाने पर है।

... नहीं तो लगा दूंगा लाशों के ढेर
बागपत। राजस्थान के उदयपुर में पकड़े गए 50 हजार रुपये के इनामी हिस्ट्रीशीटर परमवीर तुगाना ने पुलिस अभिरक्षा में चेतावनी दी कि ट्यौढ़ी कांड में समझौता नहीं हुआ तो वह लाशों के ढेर लगा देगा।

वह जेल के पीले कपड़े पहनेगा तो दूसरों को कफन पहनाने में देर नहीं लगाएगा। रविवार को एसटीएफ परमवीर को पहले बड़ौत कोतवाली लेकर पहुंची। रविवार शाम करीब पौने चार बजे पुलिस लाइन से मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया। तुगाना ने कहा कि 12 अगस्त 2014 को ट्यौढ़ी में दोहरा हत्याकांड रंजिश में अंजाम दिया गया था।

रामकिशोर पक्ष के लोगों ने उसके भाई नीटू की ईंट भट्टे के बंटवारे के समय हत्या कर दी थी। परमवीर ने कहा कि रामकिशोर के परिवार के लोग उस पर व उसके परिजनों पर झूठे मुकदमे दर्ज करा रहे हैं। 20 दिन पहले ही रामकिशोर के बेटे सुगम किशोर ने स्कार्पियो पर कंकड मारकर पुलिस को गोली लगना बताकर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया। 
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us