Xiaomi मेक इन इंडिया को देगी बढ़ावा, अपने स्मार्टफोन में इसरो की तकनीक का करेगी इस्तेमाल

टेक डेस्क, अमर उजाला Published by: अजय वर्मा Updated Wed, 26 Feb 2020 10:54 AM IST

सार

  • शाओमी अपने स्मार्टफोन में जल्द देगा NavIC नेविगेशन सिस्टम
  • कंपनी की सीईओ मनु कुमार जैन ने डॉ. के शिवन को गिफ्ट किया रेडमी के20 प्रो
  • डॉ. के शिवन सैमसंग गैलेक्सी नोट 8 का करते हैं इस्तेमाल
Xiaomi logo
Xiaomi logo - फोटो : social media
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

शाओमी (Xiaomi) भारत की पहली ऐसी स्मार्टफोन निर्माता कंपनी बनने वाली है, जो स्वदेशी नेविगेशन सिस्टम NavIC का इस्तेमाल करेगी। कंपनी के सीईओ मनु कुमार जैन ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर एक तस्वीर शेयर की है, जिसमें वह इसरो के चेयरमैन डॉ. के शिवन को रेडमी के20 प्रो (Redmi K20 Pro) देते हुए नजर आ रहे हैं। तो ऐसे में माना जा रहा है कि कंपनी उनके फोन को Redmi K20 Pro से बदलना चाहती है। हालांकि, रेडमी के20 प्रो NavIC नेविगेशन सिस्टम को सपोर्ट नहीं करता है। उम्मीद की जा रही हैं कि कंपनी जल्द ही अपने सभी मोबाइल में इस नेविगेशन सिस्टम का सपोर्ट देगी।
विज्ञापन

डॉ. के शिवन करते हैं गैलेक्सी नोट 8 का इस्तेमाल 

मनु कुमार जैन की तरफ से शेयर की गई तस्वीर में डॉ. के शिवन की शर्ट से एक फोन बाहर निकला हुआ दिखा है। इस तस्वीर में डॉ. के शिवन की जेब में सैसमंग गैलेक्सी नोट 8 को स्पॉट किया गया है। तो ऐसे में माना जा रहा है कि कंपनी उनके डिवाइस को के20 प्रो से चेंज करना चाहती है। साथ ही इस फोन में NavIC नेविगेशन सिस्टम भी मौजूद हो सकता है। हालांकि, कंपनी ने अब तक साफ नहीं किया है कि रेडमी के20 प्रो में इस सिस्टम का सपोर्ट दिया गया है या नहीं।

इसरो ने NavIC को किया तैयार

हाल ही में क्वालकॉम ने तीन नए प्रोसेसर स्नैपड्रैगन 720जी, 662 और 460 लॉन्च किए थे। इन सभी चिपसेट में मेक इन इंडिया के तहत बनाया गया NavIC नेविगेशन सिस्टम का सपोर्ट दिया गया है। आपको बता दें कि इसरो ने ही इस खास सिस्टम को तैयार किया है। वहीं, वर्तमान में लोग सबसे ज्यादा गूगल मेप्स का इस्तेमाल करते हैं।

NavIC सिस्टम की खूबियां

NavIC नेविगेशन सिस्टम जीपीएस की तुलना में ज्यादा सटीक जानकारी देता है। साथ ही यूजर्स को इस सिस्टम से पांच मीटर तक की एक्युरेट पोजीशन की जानकारी मिलेगी। आपको बता दें कि 1999 कारगिल युद्ध के दौरान जब अमेरिका ने भारत को पाकिस्तान की लोकेशन से संबंधित जानकारी देने से मना कर दिया था, तो भारत को इस सिस्टम का जरूरत महसूस हुई थी। इसके बाद से ही NavIC नेविगेशन सिस्टम को बनाने की प्रक्रिया तेजी से शुरू हो गई थी।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all Tech News in Hindi related to live news update of latest mobile reviews apps, tablets etc. Stay updated with us for all breaking news from Tech and more Hindi News.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00