'My Result Plus

वैज्ञानिकों ने जताई चिंता, रिसर्च में सामने आई मैदानों में बढ़ रही धुंध और ठंड की वजह

मनोज शर्मा, अमर उजाला, नगवाईं (मंडी) Updated Sun, 14 Jan 2018 12:58 PM IST
Research reveals environmental imbalance leads to fog and cold waves in plains
ख़बर सुनें
पेड़ों का अंधाधुंध कटान, सैलानियों के साथ वाहनों की भारी भीड़ और खुले में कचरा जलाने जैसी मानव गतिविधियों से हिमाचल में पर्यावरण संतुलन गड़बड़ाता जा रहा है।
इसका सीधा प्रभाव पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और दिल्ली के मैदानी इलाकों में असाधारण धुंध और ठंड के रूप में देखने को मिल रहा है। इसका मुख्य कारण हिमालयी पर्यावरण में रेडिएशन में बदलाव माना जा रहा है।

प्रदूषण रोकने की तमाम नीतिगत कोशिशें देवभूमि की आबोहवा में पर्यावरण संतुलन साधने में नाकाम हो रही हैं। बदलते तापमान से सेब समेत अन्य पैदावार भी प्रभावित हो रही है।

गोविंद बल्लभ पंत राष्ट्रीय हिमालयी पर्यावरण एवं सतत विकास संस्थान के शोध में यह खुलासा किया गया है। चिंता जताई गई है कि हालात यही रहे तो मौसम परिवर्तन खासी दिक्कतें बढ़ाएगा।
आगे पढ़ें

बढ़ रहा है तापमान

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Meerut

कपड़े की फैक्ट्री में लगी आग

लिसाड़ीगेट के इस्लामाबाद निवासी हाजी मुन्ना की किदवई नगर में कपड़े बनाने की फैक्ट्री है।

20 अप्रैल 2018

Related Videos

हिमाचल के रोहड़ू में भीषण अग्निकांड, 40 घर राख

घर में होनेवाला छोटा सा शॉर्ट सर्किट आग के कितने बड़े बवंडर में तबदील हो सकता है ये देखने को मिला हिमाचल प्रदेश के रोहड़ू में। रोहड़ू में आग का ऐसा प्रलय आया कि 40 मकान चंद मिनटों में जलकर राख हो गए।

19 अप्रैल 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen