लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

दर्दनाक मंजर: पेड़ पर अटकी ट्रॉली तालाब में डूबे लोगों पर गिरी...शरीर में घुसे बबूल के कांटे, जो दबा वो न बचा

अमर उजाला नेटवर्क, लखनऊ Published by: शाहरुख खान Updated Tue, 27 Sep 2022 10:15 AM IST
Lucknow Road Accident
1 of 14
विज्ञापन
परिवार के सात लोग ट्रैक्टर-ट्रॉली पर सवार होकर ऊनई गांव के दुर्गा मंदिर जा रहे थे। ट्रक से टक्कर लगते ही ट्रैक्टर-ट्रॉली पहले बबूल के पेड़ पर अटक गई। कुछ ही देर में सभी सवार तालाब में डूब गए। इसके बाद अचानक से ट्रैक्टर-ट्रॉली सभी के ऊपर आ गिरी। इसके नीचे सभी दब गए। यह दर्दनाक मंजर बयां किया टिकौली की मीरा देवी ने। पांच साल के दिवाकर चौरसिया ने बताया कि अचानक धड़ाम की आवाज हुई। इसके बाद ट्रैक्टर-ट्रॉली तालाब में जा गिरी। सभी लोग पानी में गिरे और शरीर में कांटे घुस गए। इसके बाद क्या हुआ, पता हीं नहीं चला। उसके साथ मां मीरा, बहन दिव्यांशी, कृष्का, बुआ सलोनी, दादी कमला और चाचा प्रेम चौरसिया भी थे। जो भी ट्रॉली के नीचे दबा, वह बच नहीं सका। 
Lucknow Road Accident
2 of 14
चुन्नीलाल के कार्यक्रम में उनकी पड़ोसी सजिया भी बेटी के साथ जा रही थीं। साजिया के मुताबिक, हादसे के बाद दोनों तालाब में डूब गए। इससे पहले शरीर पर बबूल के  इतने कांटे चुभे की चीख निकल पड़ी। डूबते समय गंदा पानी पेट में चला जाने से सांस लेने में भी दिक्कत हुई। 
 
विज्ञापन
हादसे का एक दृश्य।
3 of 14
बदहवास पत्नी व बेटी के शव को देखता रहा चुन्नी 
चुन्नी लाल परिवार संग ऊनई गांव में मन्नत का कोछा भरने जा रहा था। हादसे में चुन्नी लाल व उसकी बड़ी बेटी सुषमा घायल हो गए, जबकि पत्नी कोमल व बेटी बिट्टो की मौत हो गई। तालाब से सबसे पहले सुषमा को बाहर निकालकर तत्काल सीएचसी भेजा गया। 

 
तालाब में रेस्क्यू करती एसडीआरएफ
4 of 14
कुछ देर बाद पत्नी कोमल व छोटी बेटी बिट्टो का शव बाहर निकला तो चुन्नी बदहवास हो गया। जब चुन्नी अस्पताल पहुंचा तो वहां बेटी सुषमा पिता से लिपटकर चीख पड़ी। सुषमा रोते-रोते बेहोश हो गई। उसे पानी के छींटे मारकर होश में लाया गया। अस्पताल का मंजर देखकर रिश्तेदारी की महिलाएं भी बेहोश हो गईं। उन्हें भी भर्ती कराना पड़ा। 
विज्ञापन
विज्ञापन
दुर्घटना
5 of 14
किसान यूनियन व सीएचसीकर्मियों में कहासुनी
भाकियू (राजू गुप्ता गुट) के पदाधिकारियों ने सीएचसी पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया। इसे लेकर स्वास्थ्यकर्मियों से मारपीट की नौबत आ गई। एसपी हृदयेश कुमार ने हस्तक्षेप कर दोनों पक्षों को शांत करवा दिया। भाकियू का आरोप है कि स्वास्थ्य कर्मी ड्यूटी की जगह एसी कमरे में आराम कर रहा था, जबकि सीएचसी अधीक्षक एके दीक्षित का कहना है, उक्त कर्मचारी  ड्यूटी करके आराम कर रहा था।

 
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00