विज्ञापन
विज्ञापन
जानें सूर्य का राशि परिवर्तन किन राशियों की लव लाइफ के लिए रहेगा शुभ
Rashifal

जानें सूर्य का राशि परिवर्तन किन राशियों की लव लाइफ के लिए रहेगा शुभ

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

उज्जैनः नए साल में रेल यात्रियों को तोहफा, नए रूट पर दौड़ेंगी ट्रेनें, 18 गांवों को होगा फायदा

मध्यप्रदेश के उज्जैन से फतेहाबाद और कड़छा जाने वाले यात्रियों को भारतीय रेल तोहफा देने जा रही है। दरअसल इन रेल रूटों पर दोहरीकरण का काम पूरा हो गया है। अब कमिश्नर रेलवे सेफ्टी (सीआरएस) के द्वारा इसके निरीक्षण की तैयारियां चल रही हैं।

रेलवे अधिकारियों ने बताया कि  निरीक्षण करने के बाद जनवरी से ही इस रूट पर ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा। बता दें कि उज्जैन-फतेहाबाद के बीच एक ट्रक होने के कारण ट्रेनों के आवागमन में काफी समस्याएं आ रही थी इस वजह से रेलवे ने 2014 से ट्रेनों के संचालन पर रोक लगा दी थी।  ऐसे में 7 वर्षों के लंबे इंतजार के बाद यात्रियों के लिए यह किसी खुशी से कम नहीं है।

गेज परिवर्तन होने के बाद उज्जैन और इंदौर के बीच रेल रूट की दूरी अब 18 किमी कम हो जाएगी। इससे 18 से अधिक गांवों जैसे जवासिया, हासामपुरा, बिंद्राज, खेड़ा, गोंदिया, लिंबा पिपल्या, लेकोड़ा, राणाबड़, कांकरिया, चिराखान, शिवपुरा खेड़ा, रालामंडल, बालरिया, तालोद, उमरिया, टंकारिया, धर्माट के यात्रियों को सुविधा मिलेगी।

रेलवे के अनुसार 22 किलोमीटर लंबे मार्ग का गेज परिवर्तन करने में  करीब 250 करोड़ रुपये की लागत आई है। रेलवे ने इस मार्ग पर कई सुविधाएं दी हैं। यात्रियों की सुविधाओं के लिए 3 बड़े पुल व 26 छोटी पुलियाएं बनाई गई हैं। इसके अलावा दो स्टेशन भी बनाए गए हैं।

इनमें उज्जैन में चिंतामन स्टेशन के अलावा लेकोड़ा फ्लैैैग स्टेशन बनाया गया है। चिंतामन स्टेशन पर दो मंजिला भवन का निर्माण किया गया है। इसके अलावा 600 मीटर अधिक लंबा प्लेटफॉर्म बनाया गया है, जहां 24 कोच की ट्रेन आसानी से खड़ी की जा सकेगी।  

यह भी पढ़ेंः
यूपी: महामना एक्सप्रेस में अचानक बर्थ से गिरने लगे यात्री, हो सकता था भीषण हादसा

इन समस्याओं का करना पड़ता था सामना
उज्जैन से इंदौर के बीच केवल एक ही ट्रैक होने के कारण इस मार्ग पर ट्रेनों के संचालन में काफी समस्याएं आती थी। कई बार ट्रैक पर मालगाड़ी अथवा यात्री ट्रेन होने के कारण दूसरी ट्रेनों को देवास या फिर इंदौर में ही रोक दिया जाता था। दोहरीकरण होने के बाद अब इस ट्रैक पर ट्रेनों या फिर मालगाड़ी को रोकना नहीं पड़ेगा।
... और पढ़ें

रामायण से जुड़ा विज्ञान : अब विक्रम विश्वविद्यालय में छात्र पढ़ेंगे, आखिर राम नाम के पत्थर क्यों तैरे

रामायण पढ़ने और सुनने वालों को पता होगा कि राम नाम लिखे पत्थर समुद्र में तैर गए। रावण का पुष्पक विमान मन की गति से उड़ान भरता था। आकाशवाणी होती थी। श्रीरामचरित मानस के इन प्रसंगों के धार्मिक महत्व हैं, लेकिन अब इनसे जुड़ा विज्ञान भी पढ़ाया जाएगा। मध्य प्रदेश के विक्रम विश्वविद्यालय में ‘श्रीरामचरित मानस में विज्ञान और संस्कृति’ प्रमाण पत्र पाठ्यक्रम शुरू किया गया है। इस पाठ्यक्रम को उत्तर प्रदेश सरकार के अयोध्या शोध संस्थान और संस्कृति विभाग की मदद से इसे पढ़ाया जाएगा।
 

 
देश में इस तरह का पहला पाठ्यक्रम 
विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.अखिलेश पांडेय का कहना है कि संभवत: देश में यह पहला ऐसा पाठ्यक्रम होगा, जिसमें धर्म का विज्ञान पढ़ाया जाएगा। इसमें पढ़ाने के लिए अयोध्या के वैदिक विद्वान को उज्जैन बुलाएंगे। हमने यह पाठ्यक्रम प्रारंभ में 20 सीटों के साथ शुरू किया है। वहीं पाठ्यक्रम में प्रवेश के इच्छुक विद्यार्थी एमपी ऑनलाइन के जरिए 28 दिसंबर तक ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे।
... और पढ़ें

हकीकत: किसानों को नए कानून का पता नहीं, आंदोलन में ऐसे भी लोग, जिनके पास जमीन तक नहीं

नए कृषि कानूनों को लेकर पूरे देश के साथ-साथ मध्यप्रदेश के मुरैना में भी प्रदर्शन हो रहा है। इस दौरान प्रदर्शन में शामिल कई किसान ऐसे भी हैं, जिन्हें नए कृषि कानून के बारे में पता तक नहीं है। इसके अलावा आंदोलन में ऐसे किसानों के शामिल हैं, जिनके पास जमीन का एक भी टुकड़ा न होने की बात सामने आई। ऐसे किसानों का कहना है कि हम तो संगठन से जुड़े हैं। हमें तो जीप में बैठाकर यहां लाए और झंडे पकड़ा दिए। ऐसे में कृषि कानूनों के विरोध में हो रहे आंदोलनों पर सवाल उठने लगे हैं। 

मुरैना में निकाली गई पदयात्रा

जानकारी के मुताबिक, मुरैना में गुरुवार को कृषि कानून के खिलाफ एकता परिषद ने 'सबको सन्मति दे भगवान' पदयात्रा शुरू की। यह यात्रा राजस्थान के धौलपुर तक पैदल और उसके बाद वाहनों से दिल्ली तक जाएगी। इस यात्रा में ग्वालियर-चंबल के अलावा अन्य जिलों के किसान भी शामिल हैं। दरअसल, इन्हीं किसानों में से कई लोग ऐसे भी हैं, जिन्हें कृषि कानून के बारे में कुछ भी नहीं पता। 

ग्रामीणों को कृषि कानून की जानकारी नहीं

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पदयात्रा में शामिल श्योपुर के बर्धा बुजुर्ग गांव के लड्डू आदिवासी से पत्रकारों ने बातचीत की तो उन्होंने कहा, 'मुझे नहीं पता कि यहां क्या हो रहा है? मैं तो एकता परिषद से कई साल से जुड़ा हुआ हूं। हमें तो जीप में बैठाकर यहां लाए और झंडे पकड़ा दिए। कहां जाएंगे और कृषि कानून क्या है? मुझे कुछ नहीं पता। मेरे पास तो जमीन भी नहीं है। उधर, जौरा के कॉलोनी गांव में रहने वाली गिरिजा बाई का कहना कि हमें सरकार की किसी भी योजना का लाभ आज तक नहीं मिला। हमें न पेंशन तो मिल रही है और न ही राशन। हम तो इसलिए यहां आए हैं। मेरे पास जमीन नहीं है। यह पदयात्रा कहां जाएगी और कृषि कानून क्या है, मैं कुछ नहीं जानती। 
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश: उज्जैन जिले में एक कार नदी में गिरने से महिला सहित दो लोगों की मौत

मध्यप्रदेश के उज्जैन जिले में रविवार को एक कार के एक पुल से नदी में गिरने की घटना में कार सवार एक महिला सहित दो लोगों की डूबने से मौत हो गई। पुलिस ने इसकी जानकारी दी ।

जिले के इंगोरिया पुलिस थाने के निरीक्षक अशोक शर्मा ने ‘भाषा’ को बताया कि यह घटना उज्जैन जिला मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर दूर बड़नगर रोड पर हुई।

उन्होंने बताया कि हादसे में मरने वालों की पहचान प्रियंका तिवारी (25) एवं अनुराग तिवारी (27) के रूप में की गई है। ये दोनों बिहार के सिवान जिले के रहने वाले थे।शर्मा ने बताया कि नदी से दोनों शव एवं कार बरामद कर लिये गये हैं । उन्होंने बताया कि आगे की कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

चरित्र शंका पर पति और सास-ससुर की क्रूरता; महिला के स्तन, जीभ गाल काटे, प्राइवेट पार्ट में बेलन डाला

उज्जैन से सटे नागदा जिले के विद्यानगर में एक वीभत्स मामला सामने आया है। एक महिला के चरित्र पर शक होने पर उसके पति, सास-ससुर और एक महिला रिश्तेदार ने क्रूरता की हद पार कर दी। इन सभी ने मिलकर महिला का स्तन, जीभ और गाल काट दिया। इस पर भी इनकी हैवानियत शांत नहीं हुई तो महिला के मुंह और प्राइवेट पार्ट में बेलन डाल दिया।

रूह कंपा देने वाले इस कृत्य की वजह से पीड़ित महिला बेहोश हो गई। इस पर उसे मरा हुआ समझकर उसे घर से बाहर फेंक दिया और मौका ए वारदात से फरार हो गए। इस घटना से भी ज्यादा दर्दनाक यह बात रही कि आस पड़ोस के लोग यह सब देखते रहे लेकिन किसी ने भी महिला को बचाने की हिम्मत नहीं दिखाई।

शैतान परिजनों के फरार होने के बाद दस मिनट तक महिला सड़क पर पड़ी तड़पती रही और मदद की गुहार लगाती रही। लेकिन किसी का दिल नहीं पसीजा। अंतत: किसी ने पुलिस को घटना की जानकारी दी, जिसके बाद उसे पहले स्थानीय अस्पताल और फिर वहां से इंदौर के लिए रैफर कर दिया गया है। महिला की हालत नाजुक बनी हुई है। बिरलाग्राम थाना पुलिस ने पति, सास-ससुर और महिला रिश्तेदार के खिलाफ प्राणघातक हमले का प्रकरण दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है।

घटना मंगलवार 12 जनवरी की है, जब सुबह विद्यानगर की मुख्य सड़क के पास बने एक मकान से एक महिला के चीखने-चिल्लाने की काफी आवाजें आ रही थीं। इसके बाद परिवार के सदस्य उसे पीटते हुए बाहर लेकर आए। खून से लथपथ महिला को मरा हुआ समझकर उसे घर के बाहर फेंककर वे सभी फरार हो गए।

मंडी थाना पुलिस के मुताबिक महिला को पहले जनसेवा अस्पताल पहुंचाया गया था, जहां से उसे उज्जैन भेजा गया। स्थिति गंभीर होने पर महिला को इंदौर रैफर किया गया। पुलिस ने तीन अलग-अलग टीमें बनाकर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।

पहले भी की थी मारपीट
महिला की शादी 15 साल पहले राजेश के साथ हुई थी। इनके दो बच्चे हैं। एक की उम्र 14 तो दूसरे की उम्र पांच साल है। राजेश पेशे से ट्रक ड्राइवर है और ज्यादातर समय घर से बाहर ही रहता है। घटना के कुछ दिनों पहले महिला अपने रिश्तेदार के साथ कहीं गई थी। सोमवार 11 जनवरी को राजेश उसे वापस लेकर आया था।

कटे हुए अंग बाहर मिले
पुलिस को शक है कि राजेश काफी समय से अपनी पत्नी को मारने की योजना बना रहा था। कुछ दिनों पहले ही राजेश एक तलवार लेकर आया था। घटना को अंजाम देने में उसने तलवार का ही उपयोग किया था। घर के अंदर पुलिस को महिला का खून और कटे हुए अंग भी मिले हैं। हालांकि फरार होने से पहले आरोपियों ने खून को साफ करने की कोशिश भी की थी।
... और पढ़ें

उज्जैनः महाकाल क्षेत्र के विस्तारीकरण के लिए 500 करोड़ रुपए की राशि की मंजूरी

चाकू

Uttar Pradesh News Today 12 Jan: स्कूलों के टाइमटेबल समेत यूपी की बड़ी खबरें

Uttar Pradesh News Today 12 Jan: नमस्कार। आज है मंगलवार 12 जनवरी और आप सुन रहे हैं अमर उजाला आवाज़ का मॉर्निंग बुलेटिन। अब हम नजर डालते हैं उत्तर प्रदेश की अब तक की बड़ी खबरों पर...

1. यूपी: 9वीं से 12वीं तक की कक्षाएं एक ही पाली में लगेंगी, सुबह 10 बजे से होगी पढ़ाई

शासन की ओर प्रदेश के सभी बोर्ड के नौवीं से बारहवीं तक के स्कूलों को एक पाली में सुबह 10 से अपराह्न तीन बजे तक खोलने के निर्देश दिए गए हैं। विशेष सचिव आर्यका अखौरी की ओर से जारी दिशा निर्देश में कहा गया है कि यह आदेश यूपी बोर्ड, सीबीएसई, आईसीएसई सहित सभी बोर्ड पर लागू होगा। सभी जिलाधिकारियों, निदेशक माध्यमिक शिक्षा, सचिव यूपी बोर्ड, संयुक्त शिक्षा निदेशकों तथा जिला विद्यालय निरीक्षकों को पत्र भेजकर इस आदेश का पूरी तरह से अमल कराने को कहा गया है।

2. मनोरोगी किशोरी के साथ पड़ोसी गांव के युवक कई महीनों से करते थे दुष्कर्म, गर्भवती हुई तो खुली पोल

जौनपुर के शाहगंज कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में मनोरोगी किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है।  किशोरी के गर्भवती होने के बाद घरवालों को जानकारी हुई। पीड़िता के पिता की तहरीर पर पुलिस छानबीन में जुटी है। एक आरोपी और दूसरे के पिता को हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है। 

3. किसान आंदोलन: राकेश टिकैत ने सुप्रीम कोर्ट की पहल को सराहा- बोले, सरकार को वापस लेने होंगे तीनों कानून

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने किसानों के आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट के रुख को सराहा है। उन्होंने कहा कि सरकार को तीनों कृषि कानून वापस लेने होंगे। किसान मायूस न हों, आंदोलन में जिन किसानों ने अपने प्राणों का बलिदान दिया है वो व्यर्थ नहीं जाएगा। 
... और पढ़ें

उज्जैन: महाकाल संग विराजमान होंगे 100 देवी-देवता, जानें प्रोजेक्ट के सभी अपडेट्स

Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X