जो ना समझे वो अनाड़ी है

ब्यूरो/अमर उजाला, लखनऊ Updated Mon, 20 Jan 2014 03:23 PM IST
state politics
राजधानी की एक घटना सियासी गलियारों में सूबे के दो धुर विरोधी दलों के रिश्तों की असलियत समझने को लेकर हलचल मचाए हुए है।

जड़ में है एक बड़ी कंपनी द्वारा सड़कों की खोदाई। बताया जाता है कि इस कंपनी ने सूबे की सरकार से ऐसी जुगत लगाई कि सड़कों की खोदाई की इजाजत मिल गई।

भगवा पार्टी के एक नेता ने अति उत्साह में सड़कों की उल्टी-सीधी खोदाई के विरोध में याचिका दायर कर दी। उम्मीद थी कि सरकार के खिलाफ मैदान में उतरने के लिए पार्टी के नेता उनकी पीठ थपथपाएंगे।

पर, यह क्या? एक रात वे सोने की तैयारी कर रहे थे कि उनके फोन की घंटी बजने लगी। नेताजी हैलो भी नहीं बोल पाए थे कि उधर से डांट पड़नी शुरू हो गई।

दूसरी तरफ अहमदाबाद वाले नेताजी थे। उनसे चेतावनी भी मिली कि पार्टी में रहना और बढ़ना है तो इस खोदाई को भूल जाओ। बेचारे अवाक्...जवाब देते भी तो क्या।

इस कोशिश में जुट गए कि जैसे-तैसे यह मामला शांत हो जाए। पर, बात खुल गई। अब यह बात जिस किसी के कान में पड़ती है तो यही कहता है- ‘जो ना समझे वो अनाड़ी हैं।’

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

संघर्ष से लेकर यूपी के डीजीपी बनने तक ऐसा रहा है ओपी सिंह का सफर

कई दिनों के इंतजार के बाद ओपी सिंह ने आखिरकार उत्तर प्रदेश के डीजीपी पद का भार संभाल लिया। पद ग्रहण करने के बाद डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि अपराधी सामने आएंगे, गोली चलाएंगे तो पुलिस उनसे निपटेगी।

24 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls