विज्ञापन
विज्ञापन

अयोध्या में सरयू घाट से लेकर मठों और मंदिरों तक लोगों में दिखी राम की मर्यादा

धीरेंद्र सिंह, अमर उजाला, अयोध्या Updated Mon, 11 Nov 2019 06:23 AM IST
अयोध्या का दृश्य।
अयोध्या का दृश्य। - फोटो : amar ujala
ख़बर सुनें
सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद रविवार को सूरज की पहली किरण नई अयोध्या का सपना लेकर आई। सरयू रोज की तरह अपनी रौ में बह रहीं थीं, लेकिन स्नान करने आए साधु-संतों से लेकर श्रद्धालु नए जोश और उम्मीद में थे। हनुमानगढ़ी, कनकभवन, रामलला की ओर जाने वाले मार्गों पर बैरिकेडिंग की तमाम बंदिशें, आईडी की जांच और पूछताछ बाहरी भक्तों के आने का सिलसिला नहीं रोक पा रहे थे। मुस्लिम समुदाय पूरे मसले को अंतहीन विवाद, बहस और तनाव से मुक्ति के रूप में देखता नजर आया। हर ओर लोगों में भगवान राम की मर्यादा नजर आई।
विज्ञापन
अयोध्या की नई सुबह बेहद खास थी। हर ओर समरसता का आसमान छूने की ललक दिखी। सुबह सरयू तट पर बंदिशों की वजह से बाहरी श्रद्घालु तो नहीं थे, लेकिन मठ-मंदिरों के संत-धर्माचार्य और कल्पवास कर रहे भक्त भोर से ही पहुंचने लगे थे। लटें लहराते हुए स्थानीय साधु रामनाथ और जौनपुर से आए इंद्रमणि दास ने कहा, दो पक्षों का झगड़ा राम जी ने समाप्त कर दिया। अब सिर्फ अयोध्या ही नहीं, बल्कि समूचा भारत शांति, सौहार्द और तरक्की के रास्ते पर आगे बढ़ेगा। मुख्य ग्रंथी ज्ञानी गुरुजीत सिंह फैजाबाद और अयोध्या दोनों शहर के व्यापारियों के साथ सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा, यहां गुरु नानक जी ने तपस्या की थी, गुरु गोविंद सिंह भी आए। अब अयोध्या का भविष्य प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कोर्ट ने सौंप दिया है। उनमें गुरु गोविंद व राम की शक्ति विराजमान है उम्मीद है कि भव्य राममंदिर के साथ सिख धर्म के स्थलों का भी यहां विकास होगा।

दिन दूना रात चौगुना बढ़ेगा कारोबार तो कोई बोला, सिख धर्म का बनेगा बड़ा केंद्र
जिला महिला अस्पताल रिकाबगंज के पास ज्वेलर्स मालिक पृथ्वी पाल सिंह बोले, अब यहां व्यापार दिन दूना रात चौगुना बढ़ेगा। सहमति जताते हुए नियावां के वीरेंद्र शेरवानी और अमानीगंज गुरुद्वारा के बलविंदर सिंह कहते हैं कि अयोध्या भी सिख धर्म का बड़ा केंद्र बनने जा रहा है। सिर्फ यहां के सांप्रदायिक झगड़े से देश विदेश के सिख समुदाय आने से कतराते थे। थोड़ा आगे बढ़ने पर भगवान ऋषभदेव की सरयू किनारे भव्य प्रतिमा और पार्क सूना मिला। कई अनुयायी बोले, भगवान राम के इक्ष्वाकु वंश से ही जैन धर्म के सभी 24 तीर्थंकर आते हैं। आदि तीर्थंकर ऋषभदेव सहित पांच तीर्थंकरों की जन्मस्थली अयोध्या है।

पाकिस्तान को अयोध्या पर बोलने का हक नहीं
रामजन्मभूमि परिसर से सटे टेढ़ीबाजार इलाके में मुस्लिम समुदाय सुप्रीम कोर्ट के फैसले से सहमत दिखा। पाकिस्तान के विदेश मंत्री द्वारा अयोध्या फैसले को मुसलमानों की हार से जोड़ने वाले बयान पर नाराजगी जताते हुए लोगो ने कहा कि यह भारत की सुप्रीम कोर्ट का फैसला है। सभी मुस्लिमों ने तहे दिल से स्वीकार किया है। सबने कहा, हमारे शीश पैगंबर की मजार भी यहीं मणिपर्वत के पास है। पूरे एशिया में एक मात्र पैगंबर हजरत वहीं है जो अयोध्या में हैं। अयोध्या को खुर्दमक्का कहा जाता है। 

बेनीगंज चौराहा स्थित रजा जामा मस्जिद के इमाम मो. जफर रजा कहते हैं कि अब अयोध्या शांति और सद्भाव के लिए पहचानी जाएगी। साहबगंज की मस्जिद बसारत के इमाम हैदर रजा कहते हैं कि हमारी अयोध्या अब आगे बढ़ेगी। हिंदू-मुस्लिम मिल-जुलकर यहां दोनों धर्मों के मठ-मंदिर और पीर पैगंबर को आस्था का केंद्र सजाएंगे।
विज्ञापन

Recommended

सफलता क्लास ने सरकारी नौकरियों के लिए शुरू किया नया फाउंडेशन कोर्स
safalta

सफलता क्लास ने सरकारी नौकरियों के लिए शुरू किया नया फाउंडेशन कोर्स

इस काल भैरव जयंती पर कालभैरव मंदिर (दिल्ली) में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 19-नवंबर-2019
Astrology Services

इस काल भैरव जयंती पर कालभैरव मंदिर (दिल्ली) में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 19-नवंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Lucknow

गोंडा के भूमि संरक्षण अधिकारी निलंबित, मुकदमा भी दर्ज 

राज्य सरकार ने भूमि संरक्षण विभाग में सरकारी धन के गबन और पद के दुरुपयोग के आरोप में फिरोजाबाद के तत्कालीन भूमि संरक्षण अधिकारी दिनेश कु मार यादव को निलंबित कर दिया है।

15 नवंबर 2019

विज्ञापन

'मरजावां' के स्टार कास्ट से खास बातचीत, सिद्धार्थ ने बताई फिल्म की खासियत

सिद्धार्थ मल्होत्रा और तारा सुतारिया की फिल्म मरजावां 15 नवंबर को रिलीज होने वाली है। लेकिन उससे पहले फिल्म की स्टार कास्ट से खास बातचीत।

14 नवंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election