रेलवे की आय बढ़ाने की कवायद, 50 से 70 रुपये तक लगेगा चारबाग व जंक्शन पर यूडीएफ

Lucknow Bureau लखनऊ ब्यूरो
Updated Mon, 25 Jan 2021 02:02 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
रेलवे प्रशासन अपने आय बढ़ाने के लिए एयरपोर्ट की तर्ज पर यात्रियों से यूजर डेवलपमेंट फीस (यूडीएफ) वसूलेगा।
विज्ञापन

इसकी तैयारी पूरी कर ली गई है और बोर्ड से मंजूरी मिलते ही इसे लागू कर दिया जाएगा। चारबाग रेलवे स्टेशन और लखनऊ जंक्शन पर फीस 50 से 70 रुपये के बीच हो सकती है।
गौरतलब है कि कोरोना के चलते मार्च में ट्रेनों का संचालन पूरी तरह से बंद कर दिया गया था। जब ट्रेनें पटरी पर लौटीं तो रेलवे के राजस्व का हिसाब किताब गड़बड़ा गया।

वित्तीय वर्ष 2020-21 में उत्तर, पूर्वोत्तर, उत्तर मध्य रेलवे सहित सभी जोन को होने वाली आय में गिरावट दर्ज हुई। रेलवे के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट न प्रभावित हों, इसलिए आय बढ़ाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।
रेलवे बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कमाई के जरिए नहीं होने की वजह से यूडीएफ लाया जा रहा है। बताया कि पहले चरण में देशभर के 130 रेलवे स्टेशनों पर यूजर डेवलपमेंट फीस ली जाएगी।
इसके लिए अप्रूवल लिया जा रहा है। यह फीस रेलवे स्टेशनों की कैटेगरी के अनुसार ली जाएगी। चारबाग रेलवे स्टेशन, लखनऊ जंक्शन, गोरखपुर रेलवे स्टेशन, वाराणसी रेलवे स्टेशन समेत अन्य जैसेए-1 श्रेणी के स्टेशनों पर यूजर डेवलपमेंट फीस 50 से 70 रुपये तक वसूली जा सकती है।
बदले में क्या मिलेगा!
रेलवे प्रशासन का दावा है कि यूजर डेवलपमेंट फीस के बदले में यात्रियों को सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। सूत्रों के अनुसार, इसके एवज में यात्रियों को बेहतर वेटिंग रूम, एसी लाउंज की सुविधा मिलेगी और साफ-सफाई व मेंटेनेंस का खर्च भी इसी से निकाला जाएगा। हालांकि, यात्रियों को यह सुविधाएं पहले भी दी जाती रही है, लेकिन उसके एवज में किसी भी प्रकार का चार्ज यात्रियों से नहीं लिया जाता था।
एयरपोर्ट पर इतनी लगती है यूडीएफ
एयरपोर्ट पर सुविधाओं के एवज में यात्रियों से यूजर डेवलपमेंट फीस यूडीएफ पहले से ही ली जाती रही है। अलग-अलग एयरपोर्ट पर यह फीस अलग-अलग होती है। जो कि 700 से शुरू होकर 2000 रुपये तक होती है। इसमें घरेलू व अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट भी शामिल हैं। यात्रियों के टिकट में ही यह फीस शामिल होती है। टिकट फेयर को चेक करके इसके बारे में आसानी से पता लगाया जा सकता है।
फिर से यात्रियों की जेब पर चलने जा रही कैंची
यात्री एसोसिएशन के अध्यक्ष एसएस उप्पल ने बताया कि यह पहली बार नहीं है जब यात्रियों की जेब पर कैंची चला रहा है। आय बढ़ाने के लिए रेलवे प्रशासन बुजुर्गों पर कैंची चला चुका है। इसके अलावा प्लेटफॉर्म टिकट भी 10 से बढ़ाकर 50 रुपये का किया जा चुका है। यही नहीं, नियमित ट्रेनों को स्पेशल बनाकर चलाया जा रहा है, जिसके लिए अधिक राशि वसूली जा रही है। यह भी कहा जा रहा है कि यात्रियों से वेटिंग रूम में बैठने के एवज में न्यूनतम 10 रुपये वसूले जाएंगे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X