लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Lucknow News ›   Four children died in Rajkiya Bal grah in Lucknow.

राजकीय बालगृह: चार बच्चियों की मौत, एक की हालत गंभीर, दावा- ठंड से बचाव के नहीं थे इंतजाम

माई सिटी रिपोर्टर, अमर उजाला, लखनऊ Published by: लखनऊ ब्यूरो Updated Wed, 15 Feb 2023 12:54 PM IST
सार

सीएमओ की टीम ने दावा किया है कि राजकीय बाल गृह में ठंड से बचाव के इंतजाम न होने के कारण चार बच्चियों की मौत हो गई जबकि बालगृह प्रबंधन का कहना है कि बच्चियों को गंभीर हालत में ही बालगृह लाया गया था।

Four children died in Rajkiya Bal grah in Lucknow.
सिविल अस्पताल में भर्ती डेढ़ महीने का मासूम। - फोटो : amar ujala

विस्तार

प्राग नारायण रोड स्थित राजकीय बालगृह की एक और बच्ची ने मंगलवार को इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इसके साथ मरने वाली बच्चियों की संख्या चार हो गई है। वहीं, सिविल अस्पताल में भर्ती एक बच्चे की हालत गंभीर बनी हुई है।



बालगृह की जांच के लिए पहुंची सीएमओ की टीम का दावा है कि मासूमों को ठंड से बचाने के पर्याप्त इंतजाम नहीं थे। दिसंबर-जनवरी में उचित देखभाल न होने से बच्चे ठंड की चपेट में आ गए और उन्हें निमोनिया हो गया। सिविल अस्पताल प्रशासन का भी कहना है कि बच्चे गंभीर हालत में लाए गए थे। डीपीओ विकास सिंह ने पोस्टमार्टम करवाने के साथ मजिस्ट्रेटी जांच का आदेश दिया है। इसके साथ ही बालगृह अधीक्षक को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए तत्काल रिपोर्ट मांगी गई है। बालगृह की व्यवस्थाओं की निगरानी के लिए दिनेश रावत को प्रभारी बनाया गया है। मामले में बालगृह प्रबंधन का कहना है कि बच्चियां गंभीर हालत में शिशुगृह लाई गई थीं।


बालगृह अधीक्षक किंशकु त्रिपाठी और डॉ. सुदर्शन ने बताया कि दिसंबर में जब अंतरा को लाया गया था, तब वह 10-15 दिन की थी। उसकी मौत 10 फरवरी को हुई। इससे पहले वह 19 से 28 जनवरी तक भर्ती थी। डिस्चार्ज होकर आने के बाद तबीयत बिगड़ने पर उसे फिर भर्ती कराया गया था। वहीं, दिसंबर में बालगृह लाई गई करीब 15 दिन की लक्ष्मी की तभी से तबीयत खराब चल रही थी। इस बीच उसका इलाज होता रहा। 23 जनवरी को दोबारा बुखार आने पर सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया। 11 फरवरी को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

आयुषी भी दिसंबर में लाई गई थी, तब वह 16 दिन की थी। वजन कम होेने पर उसे केजीएमयू और सिविल अस्पताल में दिखाया गया। आठ फरवरी की सुबह डॉक्टर को फिर उसकी जांच की। रात को तबीयत बिगड़ने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसे सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। 12 फरवरी को उसने दम तोड़ दिया। इसी तरह दिसंबर में जब दीपा लाई गई, तब वह 20 दिन की थी। उसे निमोनिया था। इस बीच थैलीसीमिया होने का भी पता चला। कई बार उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। 23 जनवरी को बुखार आने के बाद भी एडमिट कराया गया। मंगलवार को उसकी भी मौत हो गई। वहीं, चार-पांच दिन पहले आए डेढ़ महीने के बच्चे की बोनमैरो जांच करवाई गई है। उसकी प्लेटलेट्स लगातार कम हो रही है। फिलहाल वह सिविल अस्पताल में भर्ती है।

डीपीओ ने बालगृह अधीक्षक किंशुक त्रिपाठी को कारण बताओ नोटिस जारी कर बृहस्पतिवार सुबह तक जवाब मांगा गया है। मजिस्ट्रेटी जांच के भी आदेश दे दिए गए हैं। डीपीओ ने कहा कि इलाज के स्तर पर बालगृह से लापरवाही नहीं हुई है। बच्चों के बीमार होने पर उन्हें तत्काल अस्पताल पहुंचाकर इलाज करवाया गया। हालांकि, बच्चे क्यों नहीं बच पा रहे हैं, यह तो डॉक्टर ही बता सकेंगे। फिर भी बाल गृह में किस स्तर पर लापरवाही हुई है, इसकी जांच कर दोषियों पर कार्रवाई होगी।
सिविल अस्पताल के सीएमएस डॉ. आरपी सिंह ने कहा कि बच्चे गंभीर हालत में अस्पताल लाए गए थे। दो की हालत बेहद नाजुक थी, जिन्हें केजीएमयू भेजा गया था। अभी एक बच्चा भर्ती है। डॉक्टरों की टीम उस पर लगातार नजर बनाए है। इलाज में किसी तरह की कोताही नहीं हुई है।

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

फॉन्ट साइज चुनने की सुविधा केवल
एप पर उपलब्ध है

बेहतर अनुभव के लिए
4.3
ब्राउज़र में ही
एप में पढ़ें

क्षमा करें यह सर्विस उपलब्ध नहीं है कृपया किसी और माध्यम से लॉगिन करने की कोशिश करें

Followed