बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

यूपी में रोजाना तीन बच्चों से यौन शोषण, गैंगरेप भी बढ़े

शोभित श्रीवास्तव/अमर उजाला, लखनऊ Updated Mon, 14 Dec 2015 12:08 AM IST
विज्ञापन
Report on Child abuse in Uttar Pradesh.
ख़बर सुनें
सूबे में बच्चों व किशोरों के यौन शोषण के मामलों में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई है। पिछले नौ महीनों में ही बालक-बालिकाओं के साथ यौन उत्पीड़न के 835 मामले दर्ज हुए हैं। यानी रोजाना तकरीबन तीन बच्चों को शिकार बनाया जा रहा है। इस अवधि में महिलाओं से गैंगरेप के मामले भी बढ़े हैं। प्रदेश में अब तक 269 मामले गैंगरेप के दर्ज हुए हैं। वहीं इस दौरान एसिड अटैक के 57 मामले दर्ज हुए।
विज्ञापन


ये चौंकाने वाले आंकड़े रानी लक्ष्मी बाई महिला सम्मान कोष में दर्ज हुए हैं। सरकार ने पीड़ित महिलाओं को आर्थिक मदद दिलाने के लिए इस कोष का गठन किया है। सरकार ने इसके लिए ऑनलाइन सॉफ्टवेयर भी तैयार किया है। इसी के जरिये पीड़ित महिलाओं की मदद की जा रही है। इस साल मार्च से इसमें बच्चों व महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों को दर्ज किया जा रहा है।


सबसे ज्यादा हैरान करने वाले आंकड़े बच्चों के साथ यौन शोषण के हैं। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि सूबे में बलात्कार के 88 व सामूहिक बलात्कार के 269 मामले ही अब तक दर्ज हुए हैं, जबकि बच्चों के साथ यौन शोषण के 835 मामले दर्ज हो चुके हैं, लेकिन इस पर अभी तक सरकार का ध्यान नहीं गया है। सूबे में दहेज हत्या के भी अब तक 302 मामले दर्ज हुए हैं।

यही नहीं, प्रदेश में बच्चों के साथ अप्राकृतिक संबंध के भी 72 मामले अब तक दर्ज हुए हैं। सूबे में 20 मामले ऐसे भी हैं जिनमें बच्चों के साथ यौन शोषण के बाद उनकी हत्या कर दी गई। ये ऐसे मामले हैं जो प्रदेश के विभिन्न थानों में दर्ज हैं, जबकि सैकड़ों ऐसे केस भी हैं जो अभी तक थानों में दर्ज ही नहीं हो पाए हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

ये है सूबे के जिलों में अपराधों का आंकड़ा

विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us