बॉयफ्रेंड के खिलाफ बयान देने पहुंची लड़की कोर्ट के सामने से गायब, लौटी तो सामने आया सच

ब्यूरो/अमर उजाला, लखनऊ Updated Wed, 15 Nov 2017 04:01 PM IST
girl kidnapped in front of highcourt
प्रतीकात्मक फोटो - फोटो : demo pic
विभूति खंड थानाक्षेत्र के हाईकोर्ट के गेट नंबर-6 के सामने से मंगलवार दोपहर युवती का अपहरण हो गया। सूचना मिलते ही पुलिस ने तलाश शुरू किया। करीब पांच घंटे बाद युवती को मुक्त कराया गया।युवती पिता के साथ एक युवक के खिलाफ मजिस्ट्रियल बयान दर्ज कराने आई थी। इसी दौरान वह गायब हो गई।
मोहनलालगंज निवासी उसके पिता ने पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना दी। इस पर एसओ विभूति खंड सत्येन्द्र कुमार राय टीम के साथ पहुंचे। पिता से पूछताछ की तो अगवा करने वालों के बारे में जानकारी मिली। इसके बाद पुलिस ने तलाश शुरू की।

एसओ ने बताया कि छापेमारी के दौरान इन्दिरानगर के शक्तिनगर में मुनेश्वर शर्मा के घर से युवती मिली। उसे लेकर पुलिस थाने पहुंची। पूछताछ के बाद युवती को पिता को सुपुर्द कर दिया गया।

सामूहिक दुष्कर्म के मामले में देना था बयान
एसओ ने बताया कि युवती ने थाने में पुलिस के सामने बयान दिया कि वह विजय से प्रेम करती है। पुलिस के मुताबिक युवती के पिता ने मोहनलालगंज थाने में कुछ दिन पहले सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज कराया। इसमें युवती के प्रेमी विजय को गिरफ्तार किया गया। इसके बाद विजय के पिता ने बंदी प्रत्यक्षीकरण की रिट हाईकोर्ट में डाली। इसकी सुनवाई मंगलवार को थी, जिसमें युवती का बयान दर्ज होना था। एसओ के मुताबिक युवती हाईकोर्ट पहुंचते ही गायब हो गई तो पिता ने अपहरण की सूचना दे दी।
 
मेरे गलत बयान के कारण पति गया जेल
युवती ने पुलिस के सामने कहा कि उसके गलत बयान के कारण पति जेल चला गया है। वह बालिग है, लेकिन पिता ने केस दर्ज कराया। उन्हीं के दबाव में गलत बयान दिया था। आज भी वह मर्जी से ससुराल गई थी। लेकिन पिता ने अपहरण की सूचना दे दी।

Spotlight

Most Read

Bareilly

साली से दुष्कर्म कर बना ली क्लिपिंग

पत्नी गर्भवती हुई तो ससुराल में ही आरोपी ने कर डाली वारदात

23 फरवरी 2018

Related Videos

सीएम योगी आदित्यनाथ ऐसे करेंगे बुंदेलखंड का विकास

राजधानी लखनऊ में दो दिनों तक चले इन्वेस्टर्स समिट में सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुंदेलखंड के विकास का खाका खींचा और बताया कि वे कैसे यूपी के विकास के लिए काम कर रहे हैं।

23 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen