शराब की वजह से 'बाप' ने ही की बेटे की हत्या

संजय त्रिपाठी/लखनऊ Updated Sun, 24 Nov 2013 03:27 PM IST
विज्ञापन
father killed his Stepson

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
काकोरी के गांव सकरा के वीरेंद्र रावत का कातिल कोई और नहीं सौतेला बाप था।
विज्ञापन

वीरेंद्र की फिजूल खर्ची और शराब की लत से आजिज आकर हत्या कर शव फेंका और उसके साले समेत दो के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दी।
षड़यंत्र में शामिल एक प्रॉपर्टी डीलर के माध्यम से पुलिस से साठगांठ कर बेगुनाहों को जेल भिजवाने के प्रयास में था। भनक लगने पर एसएसपी ने छानबीन कराई, तो कई राज उजागर हुई।
पूछताछ में आरोपी ने जुर्म कुबूल लिया है। वादी के ही मुल्जिम बनने से तफ्तीश में आए मोड़ को लेकर लिखा-पढ़ी चल रही है।

गांव सकरा के ट्रैक्टर चालक वीरेंद्र की हत्या के मामले में अहम साक्ष्य हाथ लगने पर सौतेले पिता सोहनलाल को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई।

इस पर खुलासा हुआ कि वीरेंद्र का कत्ल उसके साले व साथी ने नहीं, बल्कि सोहनलाल ने ही किया था। बताया कि कुछ दिन पहले ही जमीन बेचने पर 12 लाख रुपये मिले थे।

इसके बाद से वीरेंद्र फिजूल खर्ची कर रहा था। 15 नवंबर को 12 सौ रुपये शराब में उड़ाए। इसके बाद 17 नवंबर को मेला देखने के नाम पर पांच सौ रुपये लिए थे।

रात में शराब नशे में धुत देख फटकारा तो वीरेंद्र झगड़ने लगा। इस पर सोहन ने गला घोटने के बाद शव कोऑपरेटिव सोसाइटी के पास तालाब किनारे फेंक दिया था।

सोमवार सुबह वीरेंद्र का शव मिलने की चर्चा पर मौके पर पहुंचा और उसके साले व गांव के पहाड़ी बाबा के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दी।

सोहन ने बताया कि 11 महीने पहले वीरेंद्र की शादी में बाइक मांगी थी। हालांकि, शादी के कुछ दिन बाद अनबन होने पर वीरेंद्र की पत्नी मायके चली गई थी।

डेढ़ महीने पहले उसका भाई बाइक वापस ले गया था। इसी तरह दूसरे आरोपी पहाड़ी बाबा से एक प्रॉपर्टी डीलर का रुपयों के लेनदेन को लेकर विवाद है। प्रॉपर्टी डीलर के इशारे पर उसने पहाड़ी बाबा को भी नामजद करा दिया था।

पुलिस सूत्रों का कहना है कि सोहन ने अपने बड़े भाई की मौत के बाद भाभी से ब्याह रचाया था। उनके दो बच्चे बेटा वीरेंद्र व एक भतीजी थी।

शादी के बाद चार बेटी व दो बेटों का पिता बना। भाई के हिस्से की जायदाद के वारिस वीरेंद्र को हत्या के बाद अपना बेटा बता रहा था। लाखों की जमीन हाथ लगने की आस में उसने प्रॉपर्टी डीलर के माध्यम से पुलिस से साठगांठ की थी।

मामले की भनक लगने पर एसएसपी जे रविंदर गौड ने पड़ताल के निर्देश दिए थे। अब, कत्ल के मुकदमे के वादी सोहन के ही मुल्जिम बनने से कागजी कार्रवाई के लिए वीरेंद्र की पत्नी रेनू व उसके परिवार की मदद ली जा रही है।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us