Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Lucknow ›   Came from Pakistan, got a handcart.... and became MLA, 86-year-old Tulsidas is telling how much politics has changed

यूपी का रण : पाकिस्तान से आया, ठेला लगाया.... और बना विधायक, 86 वर्षीय तुलसीदास बता रहे हैं कितनी बदल गई सियासत

अमर उजाला ब्यूरो , लखनऊ Published by: पंकज श्रीवास्‍तव Updated Fri, 03 Dec 2021 10:55 AM IST

सार

कांग्रेस के वहां के कार्यकर्ता ने मेरे लिए आलू-मटर व चाय मंगाकर नाश्ता कराया और दोपहर बाद चला गया। इसके बावजूद थोड़े वोटों से अटल जी चुनाव हार गए। हम सभी रो रहे थे। अटलजी ने पीठ थपथपाई और कहा बड़ी बहादुरी दिखाई।
तुलसीदास रायचंदानी
तुलसीदास रायचंदानी - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

भाजपा के बुजुर्ग नेता व पूर्व विधायक तुलसीदास रायचंदानी पार्टी के संघर्ष के दिनों के साथी रहे हैं। एक दशक तक अविभाजित गोंडा के जिलाध्यक्ष और दो बार विधायक रहे। कार्यकर्ताओं के लिए लड़ने और साथ खड़े रहने के लिए पहचाने जाने वाले तुलसीदास 86 की उम्र पूरी कर चुके हैं। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के दूसरे और तीसरे चुनाव में बलरामपुर में प्रचार से लेकर अबतक राजनीति के तमाम उतार चढ़ाव देखे हैं। वह कहते हैं, अब राजनीति बहुत बदल गई है।

विज्ञापन


तुलसीदास बताते हैं, 1957 में पश्चिमी पाकिस्तान से गोंडा आया था। विकट गरीबी का सामना करना पड़ा। ठेले पर फल बेचकर परिवार को आगे बढ़ाया। लेकिन, परिश्रम व ईश्वर की कृपा से सब कुछ प्राप्त हुआ।  गोंडा आने के बाद आरएसएस व जनसंघ के संपर्क में आया। फिर भाजपा से जुड़ गया। करीब 11 वर्ष तक भाजपा का जिलाध्यक्ष रहा। इसी दौरान 1991 का चुनाव आया तो पार्टी ने कहा कि चुनाव लड़ाने के साथ लड़ना भी पड़ेगा। जबकि गोंडा सदर विधानसभा क्षेत्र में मेरे समाज के कुछ सैकड़ा वोट ही रहे होंगे।



खुद भी चुनाव लड़ा और अन्य सीटों पर कार्यकर्ताओं को प्रत्याशी बनवाया। तब पार्टी के प्रति समर्पण व समाजसेवा की भावना ही टिकट का पैमाना हुआ करती थी। पूरे जिले में प्रचार करना था। चार पहिया गाड़ी तक नहीं थी। मोटरसाइकिल से प्रचार होता था। आखिरकार उधार लेकर गाड़ी खरीदी। शहर और जिले के कार्यकर्ताओं ने 10, 50, 100 व 1000 रुपये, जितना जिससे बन पड़ा चंदा दिया। इसी बीच चुनाव 10 दिन के लिए स्थगित हो गया। फिर प्रचार के लिए पैसे खत्म। माहौल अच्छा था, लेकिन बिना पैसे के चुनाव गड़बड़ाने का डर लग रहा था। संघ के एक पदाधिकारी ने गोंडा कार्यालय बुलाया। 10 हजार रुपये की मदद की। पार्टी 11 में से 10 सीट जीती।

अटलजी ने कहा था जीत कर लौटेंगे यहां से
तुलसीदास बताते हैं, मैं 26 साल का था जब अटल बिहारी वाजपेयी 1962 में बलरामपुर का दूसरा चुनाव लड़ने आए थे। यह उनका दूसरा चुनाव था। इसके पहले वाला चुनाव यहीं से जीत चुके थे। तब बलरामपुर गोंडा का ही हिस्सा था। संघ के जिला प्रचारक घर आए और बलरामपुर प्रचार में चलने को कहा। मैं प्रचार करने गया। उस समय कांग्रेस का जलजला हुआ करता था। अटलजी का प्रचार करने राजमाता विजया राजे सिंधिया आई थीं। कई सभाएं हुई थीं। जिस पोलिंग स्टेशन की मुझे जिम्मेदारी मिली, वहां कांग्रेस का 90 प्रतिशत वोट पड़ता था। इसमें काफी फर्जी वोट होते थे। हमने जाकर कांग्रेस के नेता से कह दिया कि एक भी गलत वोट नहीं पड़ने देंगे। मैं वहीं बैठ गया। 42 प्रतिशत वोट ही पड़ सका। कांग्रेस के वहां के कार्यकर्ता ने मेरे लिए आलू-मटर व चाय मंगाकर नाश्ता कराया और दोपहर बाद चला गया। इसके बावजूद थोड़े वोटों से अटल जी चुनाव हार गए। हम सभी रो रहे थे। अटलजी ने पीठ थपथपाई और कहा बड़ी बहादुरी दिखाई। आज भले हारे, हम जीतकर जाएंगे। 1967 में अटलजी फिर बलरामपुर से लड़े और जीतकर गए।

कल्याण सिंह ने शिकायतकर्ता को लगाई फटकार
तुलसीदास बताते हैं, मैं भाजपा का जिलाध्यक्ष था तो उन्हीं दिनों कल्याण सिंह गोंडा आए। यहां लोगों ने मेरी शिकायत की कि मुझे गोंडा जिले के ब्लॉकों की संख्या तक पता नहीं है। कल्याण सिंह ने मंच से ही पूछ लिया। मैंने न सिर्फ संख्या बताई, बल्कि सभी 25 ब्लॉकों का नाम भी बता दिया। कल्याण ने मेरी पीठ ठोंकते हुए शिकायत करने वाले को फटकार लगाई और कहा कि तुलसीदास ने अच्छी मेहनत की है। मैं जिलाध्यक्ष बना रहा। मैंने नेपाल बॉर्डर तक साइकिल और मोटरसाइकिल चलाकर संगठन का काम किया है। फिर 1991 में मेरे जिलाध्यक्ष रहते चुनाव हुआ। गोंडा-बलरामपुर की 11 में से 10 सीटें भाजपा जीती थी। यह हमारी सबसे बड़ी उपलब्धि थी।

आमने-सामने

सपा सरकार ने जो काम शुरू किए थे उसे भी ठप कर दिया
सपा सरकार ने जो कार्य शुरू किए थे, उसे भी इस सरकार ने आकर ठप कर दिया। अखिलेश यादव ने जो किए थे, यह सरकार सिर्फ उसी का उद्घाटन कर रही है। दहशत व विद्वेष फैलाने के सिवाय इस सरकार ने कुछ नहीं किया है। यही इस सरकार की उपलब्धि है। इनके पास काम गिनाने के लिए कुछ खास नहीं है। अखिलेश यादव फिर सत्ता में आएंगे तभी विकास के काम शुरू हो पाएंगे। जनता इस सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए तैयार है। जनता सपा की फिर सरकार बनाने जा रही है।     
- याशर शाह, पूर्व मंत्री व बहराइच के मटेरा से विधायक 

गरीबों के कल्याण और विकास के ऐतिहासिक काम हुए
पीएम मोदी व सीएम योगी की डबल इंजन सरकार में गरीब कल्याण व विकास के ऐतिहासिक कार्य हुए हैं। देवीपाटन मंडल के सभी गांव इसी पांच वर्ष में विद्युतीकृत हुए। सड़कों का जाल बिछा है। बहराइच व गोंडा को मेडिकल कॉलेज की सौगात मिली है। बलरामपुर को केजीएमयू का सेटेलाइट कैंपस मिला है। मेरे विधानसभा क्षेत्र में एशिया की सबसे बड़ी एथेनॉल फैक्टरी लग रही है। दशकों से लंबित सरयू नहर परियोजना पूरी करा दी गई है, पीएम मोदी उद्घाटन करने आ रहे हैं। 300 से अधिक सीटों से फिर योगी सरकार बनने जा रही है।         
- बावन सिंह, विधायक भाजपा, कटरा बाजार (गोंडा)
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00