शहर के मालरोड से मापी जा रही कांगड़ा की सियासी हवा

Shimla Bureau Updated Wed, 08 Nov 2017 10:54 PM IST
शहर के मालरोड से मापी जा रही कांगड़ा की सियासी हवा
netaji
सोलन। चुनाव के प्रचार का शोर थम चुका है। अब सिर्फ मतदाताओं का जोर बाकी है। बड़ी-बड़ी रैलियां और जनसभाएं छोटी नुक्कड़ सभाओं में बदल गईं। हालात और हवा देखकर आंकड़ों का पता करने में जुटे माहिर हर चौराहे पर मौजूद हैं। राजनीति में नौसिखिए भी चाणक्य की भूमिका में पूरी शिद्दत से जोड़ जमा कर अपने चहेते की सरकार बनाने में जुटे हैं।
मालरोड पर शहर का सबसे व्यस्त कैफे है जहां बुजुर्ग, नेता और छात्र हमेशा मौजूद रहते हैं। ये कैफे आज बहस का केंद्र बना हुआ है। कई धड़े यहां मंडली बनाकर सरकार के जोड़तोड़ में लगे हैं। चौपाल से सोलन घूमने आए दो युवक एक-दूसरे को हिमाचल की सभी सीटों का हिसाब गिनवा रहे थे। भरमौर से सिरमौर तक सभी विधानसभा सीटों की गिनती उन्हें उंगलियों पर याद है। हालांकि वे हर एक सीट पर चहेती पार्टी के ही प्रत्याशी को आगे रखकर बात करते रहे हैं। लेकिन इस बहस की मजेदार बात यह रही कि उन्हें सभी विधानसभा सीटों में मुख्य दोनों राजनीतिक पार्टियों के प्रत्याशियों के नाम याद थे। बहस के बीच में खलल डालने पर दोनों ने बताया कि उनका ट्रांसपोर्ट का कारोबार है और वे पूरे हिमाचल में घूमते फिरते रहते हैं। इसी वजह से उन्हें सभी सीटों का अंकगणित पता है।
सोलन शहर का चिल्ड्रन पार्क दूसरी सबसे ज्यादा व्यस्त जगह है। यहां इन दिनों हर कोई धूप सेंकने के लिए खड़ा रहता है। यहां सजी चौपाल में नेताओं पर चर्चा हो रही थी। इस चर्चा में मशगूल बुजुर्ग सरकार बनाने में अपने तर्क देते नजर आए। किसी ने इस विधानसभा चुनाव को केंद्र बनाम हिमाचल का रूप दिया तो किसी ने मुख्यमंत्री के चेहरों पर अपने तर्क दिए। करीब एक घंटे से ज्यादा देर तक चलती रही इस बहस का विषय हिमाचल में सरकार किसकी बनेगी रहा। बुजुर्ग दोनों बड़ी राजनीतिक पार्टियों को चारों लोकसभा सीटों के आधार पर माप कर देख रहे थे। यह लोग सोलन के चिल्ड्रन पार्क से कांगड़ा संसदीय क्षेत्र की 20 विधानसभा सीटों की हवा को मापने में लगे थे। राजनीति की इस चर्चा में महिलाएं भी पीछे नहीं हैं। कथेड़ वार्ड में महिलाएं बुधवार को सरकार बनाने की चर्चा में शामिल मिलीं। यहां धूप का आनंद लेने के साथ ही कोई वीरभद्र सिंह तो कोई प्रेम कुमार धूमल को मुख्यमंत्री का दावेदार मानता रहा। बहरहाल, शोरगुल के बाद निजी तौर पर छिड़ी इस बहस से तय है कि मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच है और चेहरा भी मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह या प्रेम कुमार धूमल में से किसी एक का होगा। लेकिन राजनीति का असली ज्योतिषी कौन साबित होता है इसका फैसला दिसंबर माह की 18 तारीख को मतगणना के बाद ही सामने आएगा।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

आप विधायकों को हाईकोर्ट ने भी नहीं दी राहत, अब सोमवार को होगी सुनवाई

लाभ के पद के मामले में चुनाव आयोग ने आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों को अयोग्य घोषित करने के मामले में अब सोमवार को होगी सुनवाई।

19 जनवरी 2018

Related Videos

बीजेपी के इस दांव से खतरे में पड़ी कांग्रेस की सुरक्षित सीट सोलन

हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव महज कुछ ही दिनों की बात रह गई है। ऐसे में 68 सीटों पर प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। अमर उजाला टीवी की टीम हिमाचल प्रदेश में जनता का मूड जानने के लिए पहुंची। देखिए इस महासंग्राम की GROUND REPORT

7 नवंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper