विज्ञापन
विज्ञापन
क्या नौकरी में आ रही परेशानियां वर्ष 2021 में हो जाएंगी समाप्त ? जानिए अनुभवी एस्ट्रोलॉजर्स से
astrology

क्या नौकरी में आ रही परेशानियां वर्ष 2021 में हो जाएंगी समाप्त ? जानिए अनुभवी एस्ट्रोलॉजर्स से

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

सरकारी स्कूल से पढ़कर नासा तक पहुंचा किसान का बेटा, 55 लाख से ज्यादा का सालाना पैकेज

कहते हैं कि विद्या का मंदिर छोटा हो या बड़ा, शिक्षा सबके लिए समान होती है। बस कामयाबी पाने के लिए मन में जज्बा और लगन होनी चाहिए। किसान के बेटे गुरजीत...

28 अक्टूबर 2020

आपकी आवाज़

अपने शहर के मुद्दे और शिकायतों को यहां शेयर करें
विज्ञापन
Digital Edition

Internet Day 2020: कोविड-19 के दौरान सबसे बड़ा मददगार बना इंटरनेट, लोगों ने खूब लगवाए ब्रॉडबैंड

कॉविड-19 के दौरान घरों में लॉकडाउन लोगों के लिए इंटरनेट सबसे बड़ा मददगार बन कर उभरा। इस दौरान जहां इंटरनेट का उपयोग करने वालों की संख्या में इजाफा हुआ, वहीं ऑनलाइन बिताए जाने वाले समय में भी बढ़ोतरी हुई। अब हर घर में पढ़ाई, मनोरंजन, व्यापार से लेकर नौकरी ढूंढने और वित्तीय लेनदेन तक में इंटरनेट का जमकर इस्तेमाल हो रहा है।

लॉकडाउन से पहले भी बड़ी संख्या में लोग इंटरनेट का इस्तेमाल इन सभी चीजों के लिए करते थे। लेकिन लॉकडाउन के बाद ऐसे लोगों की संख्या काफी अधिक बढ़ गई है। अब लगभग सभी घरों में ऑनलाइन पढ़ाई, खरीदारी, मनोरंजन और अन्य कामों के लिए इंटरनेट का इस्तेमाल हो रहा है।

यहां तक कि लॉकडाउन के चलते नौकरी गंवाने वाले भी इंटरनेट के जरिये ही रोजगार ढूंढ रहे हैं। अब नौकरी के लिए उन्हें सीवी लेकर दफ्तरों के चक्कर काटने की जरूरत नहीं पड़ती। ऐसे ही नया स्टार्टअप शुरू करने वालों को अपना सामान या सर्विस बेचने के लिए बाजार में नहीं भटकना पड़ता।

लोगों ने लगवाए ब्रॉडबैंड कनेक्शन
लॉकडाउन के दौरान बड़ी संख्या में लोगों ने वर्क फ्रॉम होम किया। इसके अलावा खाली समय में डिजिटल प्लेटफॉर्म पर एंटरटेनमेंट और बच्चों की पढ़ाई के लिए भी तेज इंटरनेट की जरूरत थी। ऐसे में बड़ी संख्या में लोगों ने ब्रॉडबैंड के कनेक्शन भी लिए। बीएसएनएल के साथ ही ज्यादातर बड़ी कंपनियां ब्रॉडबैंड कनेक्शन दे रही हैं।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: सीएम त्रिवेंद्र और नाराज मंत्री हरक सिंह रावत के बीच आज होगी मुलाकात

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और श्रम मंत्री हरक सिंह के बीच आखिरकार मुलाकात तय हो गई है। दोनों के बीच आज बृहस्पतिवार को देहरादून में ही मुलाकात होगी। इस मुलाकात के बाद हरक सिंह पिछले कुछ समय से अख्तियार की गई अपनी खामोशी को भी तोड़ सकते हैं।

मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों के मुताबिक, सीएम और श्रम एवं वन मंत्री के बीच दोपहर बाद मुलाकात होगी। यह तय भी हो गया है और श्रम मंत्री ने भी इसकी सहमति दे दी है। भवन एवं सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के पुनर्गठन को लेकर श्रम मंत्री हरक सिंह खासे नाराज हैं।


उनका कहना है कि बिना उनकी जानकारी में लाए ही बोर्ड का पुनर्गठन कर दिया गया। हरक सिंह की कोशिश थी कि बोर्ड के कार्यकाल को एक साल और बढ़ा दिया जाए। ऐसे में बोर्ड का पुनर्गठन कर दिया गया और हरक सिंह को इसकी जानकारी बाद में मिली। बोर्ड के पुनर्गठन में हरक सिंह बोर्ड अध्यक्ष पद से बाहर हो गए थे।

इसके बाद से ही हरक सिंह ने चुप्पी साध ली थी। दो ऐसे अवसर भी आए जब हरक सिंह और सीएम को एक ही कार्यक्रम में शामिल होना था। इन दोनों ही कार्यक्रमों से हरक सिंह किनारा कर गए। यहां तक की एक कार्यक्रम उनके अपने वन महकमे का था।

ई आफिस के शुभारंभ के इस समारोह के लिए विशिष्ट अतिथि के रूप में हरक सिंह को भी आमंत्रित किया गया था। इस पर हरक सिंह का कहना था कि उन्हें जानकारी तब दी गई जब उनके अन्य कार्यक्रम तय हो गए। एक अन्य समारोह आयुष अस्पताल के उद्घाटन का था, जिसमें सीएम के साथ हरक सिंह को भी न्योता था। हरक इस कार्यक्रम में भी नहीं आए थे।
... और पढ़ें

Corona in Uttarakhand: 304 संक्रमित मिले, दो की मौत, मरीजों की संख्या 61 हजार पार 

उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 304 संक्रमित मरीज मिले हैं। कुल संक्रमितों का आंकड़ा 61 हजार पार हो गया है। साथ ही 463 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार, बुधवार को 11743 सैंपल जांच में निगेटिव मिले हैं। केदारनाथ विधायक मनोज रावत भी पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्होंने 23 अक्तूबर को अगस्त्यमुनि में टेस्ट कराया था। उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद आज वे दून अस्पताल में भर्ती हुए हैं।

लगभग चार महीने के बाद प्रदेश में एक दिन में सबसे कम दो मरीजों की मौत हुई है। अभी तक एक दिन में सबसे अधिक 20 मरीजों की मौत हुई थी। अब संक्रमण से मृत्यु दर भी कम हो रही है। 


यह भी पढ़ें:
 Coronavirus in Uttarakhand : 24 घंटे के भीतर कोरोना फ्रंट वॉरियर्स का डाटा करें अपलोड

आज देहरादून जिले में सबसे अधिक 79 कोरोना मरीज मिले हैं। नैनीताल में 47, पौड़ी में 38, हरिद्वार में 29, रुद्रप्रयाग में 23, चमोली में 23, ऊधमसिंह नगर में 18, टिहरी में 14, बागेश्वर में 10, चंपावत में आठ, उत्तरकाशी में छह, पिथौरागढ़ में पांच व अल्मोड़ा में चार कोरोना संक्रमित मामले मिले हैं। 

प्रदेश में दो कोरोना मरीजों की मौत हुई है। इसमें एम्स ऋषिकेश में एक और सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में एक मरीज ने दमतोड़ा है। मरने वालों की संख्या 1009 हो गई है। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र में मिली एक्सपायरी दवाइयां, निगरानी समिति के लोग हैरान, तस्वीरें...

उत्तराखंड: बाजपुर में कैटरिंग व्यवसायी की गोली मारकर हत्या, नदी किनारे पड़ा मिला शव, तस्वीरें...

15 नवंबर से खुलेगा राजाजी टाइगर रिजर्व, जंगल सफारी के लिए इतना होगा किराया

विश्व प्रसिद्ध राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क पर्यटकों के लिए 15 नवंबर से खुल जाएगा। पार्क खोलने से पहले सफारी ट्रैक तैयार करने और उसकी सफाई का कार्य अंतिम चरण में है। 31 अक्तूबर तक पार्क के अंदर अलग-अलग रेंजों में 30 किमी के सफारी ट्रैक तैयार हो जाएंगे। 

राजाजी नेशनल पार्क में हाथी, तेंदुए, बाघ, सांभर, चीतल, पैंगोलिन और भालू समेत कई जंगली जानवर हैं। पार्क हर साल 15 नवंबर से पर्यटकों के लिए खोला जाता है। 15 जून तक खुलने वाले पार्क में देशी और विदेशी पर्यटक सफारी करने पहुंचते हैं।


यह भी पढ़ें: 
एक्सक्लूसिव: अब उच्च हिमालयी क्षेत्र में तलाशे जाएंगे बाघ, तीन से पांच हजार मीटर की ऊंचाई पर लगेंगे ट्रैप कैमरा

कोरोनाकाल में इस साल पार्क चार महीने पहले यानी मार्च में लॉकडाउन के बाद बंद हो गया था। अनलॉक-5 में पार्क को पर्यटकों को खोलने की जोरशोर से तैयारियां चल रही हैं।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत

उत्तराखंड सरकार ने नैनीताल हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में विशेष अनुज्ञा याचिका (एसएलपी) दाखिल कर दी है। सरकार ने एक समाचार चैनल के सीईओ उमेश शर्मा के खिलाफ दर्ज आपराधिक मुकदमों को निरस्त करने और सीबीआई जांच के आदेश के फैसले के खिलाफ एसएलपी दायर की है।

इसी मामले में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। भाजपा के मुख्य प्रवक्ता व विधायक मुन्ना सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री की ओर से सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी दायर करने की पुष्टि की है।

नैनीताल हाईकोर्ट ने मंगलवार को उमेश शर्मा पर दर्ज आपराधिक मुकदमों को निरस्त करने का आदेश दिया था। साथ ही उमेश कुमार की याचिका के पैरा आठ को आधार बनाते हुए सीबीआई जांच के आदेश दिए थे।

यह भी पढ़ें: 
उत्तराखंड सरकार को तगड़ा झटका, हाईकोर्ट ने दिए सीएम पर आरोपों के मामले में सीबीआई जांच के आदेश

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पर लगे आरोपों को देखते हुए सही होगा कि सच सबके सामने आए। कोर्ट का फैसला आने के बाद बुधवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की ओर से सुप्रीम कोर्ट में विशेष अनुज्ञा याचिका दाखिल कर दी गई। भाजपा के मुख्य प्रवक्ता मुन्ना सिंह चौहान ने एसएलपी दाखिल करने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि भाजपा उमेश शर्मा के खिलाफ एफआईआर निरस्त करने के फैसले से संतुष्ट नहीं है। उन्होंने इसे कानूनी दृष्टि से गलत बताया।

उधर, प्रदेश सरकार की ओर से भी सुप्रीम कोर्ट में उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ एसएलपी दाखिल की गई है। सुप्रीम कोर्ट में प्रदेश सरकार की एडवोकेट ऑन रिकार्ड वंशजा शुक्ला ने एसएलपी दाखिल करने की पुष्टि की है। बताया कि सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एसएलपी सरकार ने उमेश शर्मा के खिलाफ नेहरू कॉलोनी थाने में दर्ज मुकदमों को निरस्त करने के फैसले और मामले में सीबीआई जांच के आदेश को चुनौती दी है। उन्होंने कहा कि उन्हें जल्द एसएलपी स्वीकार होने की उम्मीद है।
... और पढ़ें

रुड़की: 2019 में लिया गया पनीर का सैंपल फेल, पतंजलि समेत तीन पर मुकदमा दर्ज

उत्तराखंड के रुड़की में पिछले साल खाद्य सुरक्षा विभाग की ओर से लिए गए पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड के पनीर का सैंपल जांच में फेल हो गया है। इसके बाद विभाग ने पतंजलि और प्रोडक्ट तैयार करने वाली फर्म समेत तीन के खिलाफ एडीएम कोर्ट में मुकदमा दर्ज कराया है।

खाद्य सुरक्षा अधिकारी संतोष कुमार ने बताया कि 18 जुलाई 2019 को टीम ने पनियाला रोड स्थित एक दुकान से पनीर का सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया था। जांच में सैंपल फेल हो गया है। उन्होंने बताया कि लैब रिपोर्ट में कहा गया है कि पनीर की क्वालिटी खराब है।


मानकों के विपरीत, पनीर में 30 प्रतिशत से कम फैट और उच्च नमी पाई गई है। खाद्य सुरक्षा अधिकारी संतोष कुमार ने बताया कि पतंजलि पनीर की मार्केटिंग करती है जबकि मेरठ की निर्माता फर्म नेचर आर्गेनिक प्रोडक्ट पतंजलि को पनीर उपलब्ध कराती है।

एक सप्लायर के जरिए पनीर मार्केट में बेचा जाता है। तीनों के खिलाफ एडीएम वित्त एवं राजस्व कोर्ट में मुकदमा दर्ज कराया गया है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X