पंजाब में अकाली नेता की गोली लगने से मौत

ब्यूरो/अमर उजाला, फिरोजपुर Updated Wed, 07 May 2014 05:50 PM IST
विज्ञापन
akali leader died in firozpur

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
ममदोट में एक अकाली नेता विरसा सिंह की संदिग्ध हालात में गोली चलने से मौत हो गई।
विज्ञापन

बताया जा रहा है कि उस समय उक्त नेता घर में अकेला था और उसकी पत्नी कहीं गई हुई थी। गोली दोनाली बंदूक से चली। उधर, थाना ममदोट पुलिस ने धारा 174 की कार्रवाई कर मामला दर्ज किया है।
जानकारी के अनुसार विरसा सिंह दो साल पहले ही अकाली-भाजपा में शामिल हुआ था। इससे पहले वह गुरुहरसहाए के कांग्रेसी विधायक राणा गुरमीत सिंह सोढी का वर्कर था।
बताया जा रहा है कि मंगलवार शाम के वक्त विरसा सिंह घर पर अकेला था और उसकी कनपटी पर गोली लगने से मौत हो गई। जब उसकी पत्नी घर पहुंची तो वह मरा हुआ जमीन पर गिरा पड़ा था।

उधर, थाना ममदोट के एसएचओ जसपाल सिंह ने बताया कि विरसा सिंह के परिजनों के बयान पर धारा 174 की कार्रवाई की गई है।

जब एसएचओ जसपाल से पूछा गया कि चुनाव आचार संहिता के चलते सभी का असलहा थानों में जमा करवाया गया था तो विरसा की बंदूक जमा क्यों नहीं हुई। इस पर जसपाल सिंह ने कहा कि असलहा थाना लक्खोके बहराम के एसएचओ ने जमा करना था। इस संबंधी उन्हें जानकारी नहीं है।

जब थाना लक्खोके बहराम के एसएचओ गुरसेवक सिंह से पूछा गया कि विरसा का असलहा जमा क्यों नहीं हुआ था। इस पर गुरसेवक ने कहा कि कई बार उसके घर गए थे घर पर ताला लगा हुआ मिलता था। जब टेलीफोन पर बातचीत की तो विरसा ने कहा था कि उसने असलहा थाना ममदोट में जमा करवा दिया है। लोगों का कहना है कि पुलिस ने अपनी ड्यूटी सही से निभाई होती तो विरसा की जान बच सकती थी।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us