हरियाणाः सेना का हवलदार डेढ़ किलो अफीम समेत गिरफ्तार, छह दिन की पुलिस रिमांड में

Dev Kashyap न्यूज डेस्क, अमर उजाला, करनाल Published by: देव कश्यप
Updated Sat, 25 May 2019 07:34 AM IST
विज्ञापन
करनाल पुलिस की गिरफ्त में आरोपी सेना का हवलदार
करनाल पुलिस की गिरफ्त में आरोपी सेना का हवलदार - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
क्राइम यूनिट डिटेक्टिव स्टाफ करनाल ने काछवा ओवरब्रिज से सेना के हवलदार सहित दो को डेढ़ किलोग्राम अफीम के साथ गिरफ्तार किया है। पूछताछ में हवलदार ने बताया कि आधा किलोग्राम अफीम मेरठ रखी हुई है, जिसे वे अपने भाई से लेकर आया था। आरोपी को पुलिस ने न्यायालय से छह दिन का पुलिस रिमांड हासिल किया है। इस दौरान अफीम बरामद करने, खरीदने वाले की पहचान करेगी।
विज्ञापन


टीम इंचार्ज इंस्पेक्टर वीरेंद्र राणा ने बताया कि उप-निरीक्षक रणबीर सिंह की अध्यक्षता में थाना सिविल लाइन क्षेत्र में गश्त के लिए रवाना किया। रात करीब नौ बजे रणबीर सिंह व उनकी टीम को काछवा ओवरब्रिज के नीचे खाली जगह पर एक कार संदिग्ध हालात में नजर आई उन्होंने गाड़ी रुकवाकर उस गाड़ी में मौजूद व्यक्तियों से पूछा कि कहां से आए हैं और यहां किसलिए खड़े हैं? इतनी बात सुनते ही गाड़ी की पीछे की सीट पर बैठे व्यक्ति ने अपनी खिड़की खोली व निकलकर भागने का प्रयास करने लगा। उन्हें पुलिस ने पकड़ लिया और गाड़ी की तलाशी लेने पर एक किलो 503 ग्राम अफीम बरामद हुई। दोनों व्यक्तियों को पुलिस हिरासत में ले लिया गया।


गाड़ी से भागने का प्रयास करने वाले आरोपी की पहचान गांव नवादा जिला गडवा (झारखंड) अखिल देव के रूप में हुई। जो सेना में मेडिकल कोर मेरठ कैंट में हवलदार के पद पर तैनात है। पूछताछ में उसने बताया कि वह इस महीने छुट्टी पर अपने घर गांव नवादा गया था और वहां से 12 मई को मेरठ आया था। मेरठ आते समय अपने गांव से दो किलोग्राम अफीम लाया था। यह गाड़ी वह मेरठ कैंट से किराए पर लेकर आया है। आधा किलोग्राम अफीम मेरठ कैंट में बक्से में रखी हुई है। अफीम को अपने गांव से अपने भाई रवि से लेकर आया था।

हवलदार के भाई को किया था गिरफ्तार
इंस्पेक्टर वीरेंद्र राणा ने बताया कि करीब तीन महीने पहले आरोपी के भाई रवि को भी जिला पुलिस करनाल द्वारा नशा तस्करी करते हुए गिरफ्तार किया गया था। आरोपी अपने भाई के मामले की पैरवी के लिए करनाल में आता था। इस दौरान इसके तार करनाल के नशा तस्करों से जुड़ गए। जिनके संबंध में रिमांड के दौरान आरोपी से पूछताछ कर पता लगाया जाएगा। इंस्पेक्टर का दावा है कि अब अफीम कहां से कहां तक जानी थी, उसकी जांच की जा रही है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X