दंगा: भीतर ही भीतर सुलग रही ‘चिंगारी’

अमर उजाला, मुजफ्फरनगर Updated Sun, 26 Jan 2014 08:22 AM IST
violent situation in muzaffarnagar
मुजफ्फरनगर दंगे की एसआईटी की जांच में दोषी पाए गए आरोपियों की गिरफ्तारी का मुद्दा बवाल खड़ा कर सकता है। फर्जी नामजदगी की जांच प्रक्रिया चार माह से ज्यादा का वक्त ले चुकी है। संगीन वारदातों में गिरफ्तारी न के बराबर हैं। फुगाना में गैंगरेप के 22 आरोपियों में से महज एक को ही पुलिस पकड़ पाई है।

सात सितंबर को मुजफ्फरनगर और शामली इलाके में भड़की हिंसा में 60 से ज्यादा बेगुनाहों की मौत हो गई थी। हिंसा के बाद पीड़ितों ने विभिन्न थानों में 564 मुकदमे दर्ज कराए थे। इनमें छह हजार से अधिक लोगों को नामजद कराया गया था। नामजदगी को लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में जमकर हंगामा हुआ था। महिलाएं तक सड़कों पर उतर आईं थीं। बीते चार माह से एसआईटी दर्ज मुकदमों की तफ्तीश में जुटी है।

अभी तक जो आरोपी दोषी पाए गए हैं, उनकी सूची संबंधित थानों को भेज दी गई है। जो आरोपी गिरफ्तार हुए, उनमें से अधिकांश जमानत पर छूट आए हैं। हत्या, आगजनी और गैंगरेप जैसे संगीन मामलों में गिरफ्तारी न के बराबर हुई है। फुगाना इलाके में दंगे के दौरान गैंगरेप के छह मामलों में एसआईटी ने 22 लोगों को आरोपी बनाया है, लेकिन गिरफ्तारी महज एक शख्स की हुई है।

पढ़ें, मुजफ्फरनगर दंगा: आरोपी की गिरफ्तारी पर बवाल

हिंसाग्रस्त फुगाना, भौराकलां और शाहपुर इलाके में पुलिस के लिए दंगे के आरोपियों की गिरफ्तारी चुनौती बन गई है। काकड़ा में शनिवार को दंगा पीड़ितों की बाइक जलाने के आरोपी नीटू की गिरफ्तारी के बाद हुआ बवाल भी यही संकेत दे रहा है।

muzaffarnagar

बताते चलें कि नंगला मंदौड़ की ‘बहू-बेटी सम्मान बचाओ महापंचायत’ से लौटते हुए सात सितंबर को पुरबालियान में ग्रामीणों पर जो हमला हुआ था, उसमें काकड़ा के तीन लोगों की मौत हो गई थी। यहां से सभी मुस्लिम परिवार खौफ के चलते पलायन कर चुके हैं। अभी भी मुस्लिम बस्ती में सन्नाटा पसरा हुआ है। पिछले दिनों कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी इस गांव में पहुंचे थे।

कुटबा में भी हो चुका है विरोध
शाहपुर थाने के गांव कुटबा में आरोपियों की गिरफ्तारी को पहुंची पुलिस फोर्स पर पथराव हो गया था। पथराव में कई गाड़ियां क्षतिग्रस्त होने के साथ कई पुलिसकर्मी भी चोटिल हुए थे। भारी विरोध के चलते एसएसपी एचएन सिंह समेत तमाम अफसरों को अपने कदम पीछे खींचने पड़े थे।

रात को गांव में होगी पंचायत
शाहपुर के गांव काकड़ा निवासी नीटू की गिरफ्तारी और महिलाओं से मारपीट का मामला तूल पकड़ सकता है। भाजपा नेता डॉ. संजीव बालियान और उमेश मलिक के नेतृत्व में ग्रामीणों ने पुलिस कार्रवाई के विरोध में पंचायत करने का ऐलान किया है। प्रशासन मौजूदा हालात में बीच का रास्ता निकालने की कोशिश में जुटा है।

Spotlight

Most Read

Mahoba

मंडल में जीएसटी की कम वसूली देख अधिकारियों के कसे पेंच

कर चोरी पर अब होगी सख्त कार्रवाई-

19 जनवरी 2018

Related Videos

सहारनपुर में मुठभेड़ के दौरान पुलिस के हत्थे चढ़े इनामी बदमाश

सहारनपुर में पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम के साथ मुठभेड़ में चार बदमाश पुलिस के हत्थे चढ़े।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper