Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Varanasi ›   Varanasi Kashi Vishwanath temple corridor grand appearance of dham will be seen from the road itself

काशी विश्वनाथ दरबार में सजेगी बाबा की कचहरी, अब सड़क से ही दिखेगा धाम का भव्य स्वरूप

आलोक कुमार त्रिपाठी, अमर उजाला, वाराणसी Published by: हरि User Updated Tue, 09 Feb 2021 01:53 AM IST
श्री काशी विश्वनाथ मंदिर।
श्री काशी विश्वनाथ मंदिर। - फोटो : अमर उजाला।
विज्ञापन
ख़बर सुनें

श्री काशी विश्वनाथ मंदिर का दायरा अब विस्तृत हो चुका है। शिव कचहरी को भी अब बाबा दरबार में शामिल कर लिया गया। बाबा के भक्त अब बाबा विश्वनाथ का दर्शन करने के बाद सीधे शिव कचहरी का भी दर्शन कर सकेंगे। काशी विश्वनाथ धाम का भव्य स्वरूप अब सड़क से गुजरने वालों को भी नजर आने लगा है। अक्तूबर तक श्री काशी विश्वनाथ धाम का उद्घाटन करने की तैयारी की जा रही है।



श्री काशी विश्वनाथ मंदिर का दायरा बढ़ने के बाद यह अब नए स्वरूप में भक्तों के सामने होगा। शिव कचहरी समेत आसपास के सभी मंदिरों को बाबा दरबार के परिसर में ही समाहित कर लिया गया है। मई तक मंदिर विस्तार का काम पूरा होते ही आने वाले भक्तों को बाबा दरबार का नया स्वरूप नजर आएगा। वीआईपी लाउंज की बाहरी दीवारों पर बालेश्वर के पत्थर सज गए हैं। धाम की दूसरी इमारतों की दीवारों पर जल्द ही बालेश्वर के पत्थरों को क्लैंप करके लगाने का काम शुरू होगा। वहीं दूसरी तरफ चुनार के पत्थरों का काम समाप्त होने के बाद मकराना के पत्थरों का काम शुरू किया जाएगा। पीडब्ल्यूडी के अधिशासी अभियंता संजय गोरे ने बताया कि मई तक मुख्य मंदिर और चौक का काम पूर्ण हो जाएगा। मंदिर चौक और यात्री सुविधा केंद्र को मई तक शुरू किया जा सकता है। मंदिर चौक से सीधे मां गंगा के दर्शन हो सकेंगे। 

शिव कचहरी की है अपनी मान्यता

काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत डॉ. कुलपति तिवारी ने बताया कि श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के बगल में स्थित शिव कचहरी से जुड़ी कई मान्यताएं है। जो लोग मुकदमे में फंस जाते हैं वो लोग इस कचहरी में अपनी फरियाद करते हैं। इससे उनके पक्ष में फैसला आता है। शिव कचहरी में अनगिनत शिवलिंग के अलावा सभी देवताओं के विग्रह हैं। 

संरक्षित होगी गोयनका लाइब्रेरी
काशी विश्वनाथ धाम परिसर में स्थित गोयनका लाइब्रेरी के भवन को संरक्षित किया जाएगा। ऐतिहासिक महत्व की इस लाइब्रेरी का रंग-रौगन करने के बाद सजावटी लाइटों से सजाया जाएगा। 

हर दीवार पर सजेंगे बालेश्वर के पत्थर
काशी विश्वनाथ धाम में बनने वाले हर भवन की दीवाल पर बालेश्वर के पत्थर सजेंगे। इन पत्थरों को क्लैंप करके दीवारों पर लगाया जा रहा है। पूरा धाम पत्थरों की गुलाबी आभा से दमकेगा। 

जलासेन व ललिता घाट का बढ़ा दायरा

काशी विश्वनाथ धाम के प्रवेश द्वार ललिता और जलासेन घाट का दायरा 10 से 15 मीटर तक बढ़ा दिया गया है। नदी के अंदर कंक्रीट की दीवार बनाकर बेस तैयार किया गया है। नदी की ओर से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए यहां पर जेटी और प्लेटफार्म तैयार किया जाएगा। जून के पहले घाट के इस काम को पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है। 

चार और भवनों की डिजाइन में होंगे मामूली बदलाव
श्री काशी विश्वनाथ धाम में चल रहे निर्माण कार्य के दौरान अब तक 10 भवनों की डिजाइन में बदलाव किया गया है। अभी चार और भवनों की डिजाइन में बदलाव की तैयारी की जा रही है। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00