मासूम की पहचान उजागर करने की कोशिश

शाहजहांपुर Updated Fri, 10 Apr 2015 08:10 PM IST
 Trying to uncover the identity of innocent
ख़बर सुनें
छेड़खानी का शिकार हुई चौक क्षेत्र की मासूम छात्रा के स्कूल की पहचान उजागर कर दी गई है। इससे छात्रा के पिता बेहद आहत हैं। उन्होंने पहचान उजागर करने और मामले को जरूरत से ज्यादा घिनौना करके प्रस्तुत किए जाने का आरोप लगाया। अभिभावकों ने ऐसा करके उन लोगों को बदनाम करने की साजिश करने का आरोप भी लगाया।
बृहस्पतिवार को शहर के कोतवाली क्षेत्र के एक कान्वेंट की मासूम छात्रा के साथ स्कूल के वैन चालक ने छेड़खानी की थी। इस पर छात्रा के घरवालों और मोहल्ले वालों ने चालक की जमकर पिटाई कर दी। साथ ही चालक को कोतवाली में बंद कर दिया था। चालक पर छेड़खानी और पाक्सो एक्ट के तहत कार्रवाई की गई थी।
इस मामले में सोशलसाइटस पर फेसबुक और व्हाट्स एप पर आईडी खोले कुछ लोगों ने घटना को अपनी टाइमलाइन पर पोस्ट कर दिया, जिसे तमाम लोगों ने शेयर कर डाला। इससे खबर पूरे शहर में फैल गई। वहीं फेसबुक और व्हाट्सएप के उन संचालकों ने मासूम के विद्यालय का नाम उजागर कर दिया है। इससे छात्रा के घरवालों ने उन लोगों की पहचान उजागर होने की बात भी कही है। इसको लेकर छात्रा के पिता ने स्कूल प्रबंधन को एक शिकायतीपत्र भी दिया है।

‘सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार महिला की अस्मिता के साथ छेड़छाड़ से संबंधित मामलों में पीड़िता की पहचान छिपाना अनिवार्य है। इसका उल्लंघन करने पर दंडात्मक कार्रवाई का प्रावधान है। यदि कोई भी ऐसा करता है तो उस पर कार्रवाई की जा सकती है।’
- श्रीप्रकाश राय, कोतवाली इंस्पेक्टर

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

Chandigarh

महिला ने हवलदार पर लगाया रेप का आरोप, एसएसपी को सबूत में दिखाए फटे कपड़े

सोमवार को पीड़िता ने अपनी मां के साथ इंसाफ को लेकर एसएसपी के ऑफिस के आगे धरने पर बैठ गई है।

25 जून 2018

Related Videos

बेटी के बाद पिता की भी हत्या, क्या है दोनों का कनेक्शन?

शाहजहांपुर में एक दरोगा की हत्या के बाद से हड़कंप मचा हुआ है। ढाई महीने पहले दरोगा की बेटी की भी हत्या की गई थी। फिलहाल पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है पर लोग दोनों हत्याओं के बीच कड़ी जोड़ रहे हैं।

25 जून 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen