मारपीट की सूचना पर गई पुलिस को ग्रामीणों ने दौड़ाया

Meerut Bureau Updated Thu, 15 Feb 2018 09:52 PM IST
ख़बर सुनें
सरूरपुर।
हर्रा कस्बे में दो पक्षों में झगड़े की जानकारी पाकर पहुंची पुलिस को विरोध का सामना करना पड़ा। हालांकि एक पक्ष के लोगों ने पुलिस को दौड़ाया। वहीं, दरोगा के बैज उतरवाने तक की धमकी दे डाली। इसके बावजूद पुलिस ने आरोपियों की धरपकड़ करना तो दूर अभी तक उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। वहीं, एसएसआई घटना की जानकारी से इनकार कर रहा है।
जानकारी के अनुसार बुधवार को हर्रा में रिश्तेदारों में किसी बात को लेकर कहासुनी के बाद मारपीट हो गई। कुछ लोगों ने घटना की जानकारी कंट्रोल रूम को दी। इस पर पुलिस सूचना पाकर मौके पर पहुंची। पुलिस ने कस्बे में आए मेहमानों को थाने में जाकर तहरीर देने की सलाह दी। इसी बीच दरोगा अपने साथ सिपाही को लेकर कस्बे में पहुंचे और जानकारी करने लगे। यहां हर्रा निवासी युवकों ने उन्हें घेर लिया तथा मारपीट पर उतारू हो गए। विरोध बढ़ता देख पुलिस मौके से भाग खड़ी हुई। इस दौरान कस्बावासियों ने दरोगा के बैज उतरवाने तक की धमकी दे डाली। लोगों के दुस्साहस के सामने खाकी बौनी साबित हुई। पुलिस ने आरोपियों की धरपकड़ करना तो दूर उनके खिलाफ थाने में रिपोर्ट तक दर्ज नहीं की। वहीं, कस्बे के नेताओं ने थाने में बैठकर समझौता करा दिया। उधर, थाना प्रभारी धर्मेंद्र सिंह का कहना है कि उनकी जानकारी में ऐसा कोई मामला नहीं है। यदि दरोगा थाने पहुंचकर जानकारी देगा तो आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
मुख्य बातें
कंट्रोल रूम से दो पक्षों में झगड़े की जानकारी पाकर पहुंची थी पुलिस
पुलिस ने समझौता कर मामले को रफा-दफा किया, थाना प्रभारी ने किया जानकारी से इनकार

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Related Videos

मुजफ्फरनगर दंगों पर बीजेपी का पलटवार

मुजफ्फरनगर दंगों को लेकर रालोद अध्यक्ष अजित सिंह के बयान पर बीजेपी सांसद संजीव बालियान और बुढ़ाना से विधायक उमेश मलिक ने पलटवार किया है।

20 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen